S M L

भारतीय क्रिकेट के भविष्य को बचाने के लिए, युवा खिलाड़ियों की निगरानी कर रहा है बीसीसीआई

बीसीसीआई उन 23 खिलाड़ियों पर करीबी नजर बनाए हुए है जो संभवतः भविष्य में भारतीय ए टीम में जगह बना सकते हैं

FP Staff Updated On: Apr 17, 2018 07:21 PM IST

0
भारतीय क्रिकेट के भविष्य को बचाने के लिए, युवा खिलाड़ियों की निगरानी कर रहा है बीसीसीआई

आईपीएल का शेड्यूल जितना व्यस्त होता है, उतना ही दबाव इसके कारण खिलाड़ियों पर पड़ता है. अनुभवी खिलाड़ी तो इस दबाव को झेल सकते हैं लेकिन युवा खिलाड़ियों का इसके कारण करियर तक तबाह हो सकता है. ऐसे में बीसीसीआई उन 23 खिलाड़ियों पर करीबी नजर बनाए हुए है जो संभवतः भविष्य में भारतीय ए टीम में जगह बना सकते हैं, लेकिन आईपीएल के लगातार मैचों के बोझ के कारण जिनके भविष्य पर विपरीत असर पड़ सकता है. बीसीसीआई कतई यह नहीं चाहता कि इन खिलाड़ियों पर आईपीएल के दौरान बोझ पड़े.

लगातार मैचों के बोझ का असर न पड़े खिलाड़ियों के भविष्य पर

दरअसल बीसीसीआई इन खिलाड़ियों पर करीबी नजर रखना चाहता है क्योंकि व्यस्त कार्यक्रम के बीच आईपीएल में काफी यात्रा करनी पड़ती है और मैचों के बीच समय भी काफी कम होता है. जिससे खिलाड़ियों पर काम का बोझ बढ़ जाता है. बीसीसीआई के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, 'मुख्य योजना खिलाड़ियों को तीन समूहों में बांटने की है. पहले समूह में मौजूदा अंडर 19 खिलाड़ी शामिल हैं. दूसरा समूह पुराने अंडर 19 खिलाड़ियों का है जहां हमारे पास ऐसे खिलाड़ी हैं जो भारत के लिए पिछले तीन से चार साल से खेल रहे हैं और तीसरा समूह मौजूदा ए खिलाड़ियों का है.'

इस सूची में शामिल खिलाड़ी संभावित भारतीय क्रिकेट का भविष्य हैं

इन 23 खिलाड़ी में उन खिलाड़ियों के नाम शामिल हैं जो अभी बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध सूची में जगह नहीं हासिल कर पाए हैं, लेकिन भविष्य में वह इस सूची में आ सकते हैं. जिसमें विराट कोहली, रोहित शर्मा और महेंद्र सिंह धोनी जैसे बड़े खिलाड़ी शामिल हैं. ऐसे में इन खिलाड़ियों पर ज्यादा बोझ पड़ने से न केवल इनके बल्कि भारतीय क्रिकेट के भविष्य पर भी सीधा असर पड़ सकता है.

अधिकारी ने समझाने के लिए उदाहरण देते हुए कहा, 'मैं आपको एक उदाहरण देता हूं. शिवम मावी या नवदीप सैनी जैसे युवा तेज गेंदबाज को उनके फ्रेंचाइजी कोच ट्रेनिंग सत्र के दौरान क्रिस लिन या एबी डिविलियर्स को 60 से 100 गेंद फेंकने के लिए कह सकते हैं. क्योंकि उनका अंतिम एकादश में खेलना तय नहीं है.' उन्होंने कहा, 'बीसीसीआई यहां हस्तक्षेप करता है. ये युवा हमारी संपत्ति हैं. भुवनेश्वर कुमार को अपने शरीर और काम के बोझ का पता है, लेकिन जब मामला मावी, नवदीप या आवेश खान का आता है तो यह हमारी जिम्मेदारी है कि भारतीय क्रिकेट के हित में उन्हें बचाएं.'

मौजूदा अंडर 19 टीम से चार खिलाड़ियों पर हैं निगाहें

मौजूदा वर्ल्ड कप विजेता अंडर 19 टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ और शिवम मावी जैसे खिलाड़ियों पर बीसीसीआई की नजरें बनी हुई है. इस सूची में अंडर 19 टीम से शुभमन गिल और कमलेश नागरकोटि के भी नाम है.

पूर्व अंडर 19 से से पांच खिलाड़ी

पूर्व अंडर 19 वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन करने के बाद लगातार कुछ सालों से घरेलू टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी भी बीसीसीआई की निगरानी समिति की नजर में हैं. इनमें इशान किशन, ऋषभ पंत, आवेश खान, खलील अहमद और संजू सैमसन के नाम शामिल हैं.

घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन दिखाने वाले खिलाड़ियों पर भी है नजर

पिछले घरेलू सत्र में सर्वाधिक रन बनाने वाले मयंक अग्रवाल और आईपीएल में इस बार अच्छे खासे दाम में बिकने वाले जयदेव उनादकट सहित कई लोगों के नाम हैं. इस सूची में श्रेयस अय्यर, वाशिंगटन सुंदर, विजय शंकर, बासिल थंपी, दीपक हुड्डा, रविकुमार समर्थ, नवदीप सैनी, सिद्धार्थ कौल, हनुमा विहारी और अंकित बावने के नाम भी हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi