S M L

भारत-श्रीलंका पहला टेस्ट: कोहली के साथ साथ शास्त्री की भी परीक्षा

भारत श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट 26 जुलाई से शुरू होगा

FP Staff Updated On: Jul 25, 2017 03:00 PM IST

0
भारत-श्रीलंका पहला टेस्ट: कोहली के साथ साथ शास्त्री की भी परीक्षा

गॉल में ही भारत को दो साल पहले शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था लेकिन इसके बाद उसने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया और विश्व की नंबर एक टीम बनी.

विराट कोहली एंड कंपनी 2015 में गॉल अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में मिली हार का बदला चुकता करने के लिए बेताब होगी. तब भारतीय टीम चौथे दिन 176 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 112 रन पर ढेर हो गई थी.

2015 में तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में पहला मैच भारतीय टीम 63 रन से हार गई थी. पहले ही मैच में पिछड़ने के बावजूद टीम ने जबरदस्त वापसी करते हुए अगले दोनों टेस्ट जीतकर सीरीज जीत ली थी. तब 22 साल बाद श्रीलंका में भारत ने टेस्ट सीरीज जीती थी.

भारतीय टीम तीन मैचों की श्रृंखला में नए और युवा जोश और आत्मविश्वास के साथ उतरेगी जिससे वह अपने नए सत्र की भी शुरुआत करेगा.

इसके साथ ही रवि शास्त्री दूसरी बार भारतीय टीम के महत्वपूर्ण पद पर अपनी नयी पारी की शुरूआत कर रहे हैं. उनकी कोशिश होगी कि तमाम विवाद के बाद कोच के तौर उनका पहला दौरा सफल रहे. पिछली बार 2015 में जब वह गॉल में टीम हारी थी तब वह टीम निदेशक थे

राहुल के बाहर हो जाने के बाद भी भारत के पास पास चेतेश्वर पुजारा अजिंक्य रहाणे और विराट कोहली के तौर पर एक मजबूत टॉप ऑर्डर है. युवा अभिनव मुकुंद को भी राहुल के ना होने पर टीम में मौका मिलने की पूरी उम्मीद है.

हरफनमौला हार्दिक पांड्या ने भी टेस्‍ट टीम में वापसी की है जो कंधे की चोट के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट नहीं खेल सके थे. प्रैक्टिस मैच में भारतीय बल्लेबाजों ने दिखाया कि वह पूरी तरह तैयार हैं.

यह भी पढ़े-भारत- श्रीलंका पहला टेस्ट: क्या हो सकती है भारत की प्लेइंग इलेवन?

घरेलू सत्र में शानदार प्रदर्शन करने वाले उमेश यादव का खेलना तय है. श्रीलंका की धीमी पिचों को देखते हुए भारत त्रिकोणीय स्पिन आक्रमण उतार सकता है जिसमें आर अश्विन और रविंद्र जडेजा का साथ 'चाइनामैन' कुलदीप यादव देंगे. कुलदीप ने प्रैक्टिस मैच में शानदार प्रदर्शन किया था.यह अश्विन के लिए उनका 50वां टेस्ट मैच होगा. वह पिछले प्रदर्शन को भूला कर आगे बढ़ना चाहेंगे.

वहीं श्रीलंका की टीम के नियमित कप्तान दिनेश चांडीमल अभी भी निमोनिया से उभर नहीं पाए हैं जिसके कारण अनुभवी स्पिनर रंगना हेरात को कप्तानी सौंपी गई है. 30 वर्षीय स्पिनर पुष्पकुमार को अभी तक श्रीलंका के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह बनाने का मौका नही मिल पाया.

श्रीलंका की टीम को तेज गेंदबाज नुवान प्रदीप की वापसी से मजबूती मिली है जिन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जनवरी में खेला था. लेफ्ट आर्म स्पिन लक्षण संदाकन और तेज गेंदबाज दुष्मंत चमीरा का हालांकि टीम से बाहर रखा गया है जो जिम्बाब्वे के खिलाफ एकमात्र टेस्ट में टीम का हिस्सा रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi