S M L

भारत-साउथ अफ्रीका, दूसरा वनडे: क्या हो सकती है भारत की प्लेइंग इलेवन

डरबन वनडे में अजिंक्य रहाणे ने शानदार बल्लेबाजी करके चौथे नंबर के बल्लेबाज की गुत्थी की सुलझा दिया है

Sumit Kumar Dubey Sumit Kumar Dubey Updated On: Feb 03, 2018 07:11 PM IST

0
भारत-साउथ अफ्रीका, दूसरा वनडे: क्या हो सकती है भारत की प्लेइंग इलेवन

भारत के साउथ अफ्रीका दौरे के पहले 15 दिन जिस सवाल ने टीम इंडिया को सबसे ज्यादा परेशान किया था वह था प्लेइंग इलेवन का सवाल. पहले दो टेस्ट मैचों में मिली हार के बाद यह सवाल इतना ज्यादा गहरा गया कि विराट कोहली प्रैस कॉन्फ्रेंस में अपना आपा खोकर पत्रकारों से उलझ बैठे थे.

लेकिन कहते हैं कि जीत सबकुछ बदल देती है. तीसरे टेस्ट और उसके बाद छह वनडे मुकाबलों की सीरीज के पहले वनडे में मिली जीत ने टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन के सवाल को हाशिए पर धकेल दिया है.

धोनी से पहले के टीम इंडिया के कप्तान एमएस धोनी कभी टीम के विनिंग कॉम्बिनेशन में बदलाव करने में विश्वास नहीं करते थे. वनडे क्रिकेट में कोहली भी एक हद तक इसी सोच के साथ कप्तानी करते हैं. ऐसे में रविवार को सेंचुरियन में होने वाले दूसरे वनडे में टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन में बदलाव की गुंजाइश बेहद कम नजर आ रही है.

सुलझ गई है नंबर चार की गुत्थी

वनडे क्रिकेट में टीम इंडिया पिछले एक साल से भी ज्यादा वक्त से जिस पोजिशन पर एक्सपेरीमेंट कर रही थी वह बैटिंग ऑर्डर में नंबर चार की पोजिशन है. रोहित-धवन की सलामी जोड़ी और उसके बाद कप्तान विराट कोहली का आना तो तय होता है लेकिन इसके बाद नंबर चार के लिए पिछले एक साल में सात बल्ल्बाजों को आजमाया गया.

डरबन वनडे में अजिंक्य राहणे ने नाजुक वक्त में 79 रन की पारी खेल कर इस पोजिशन के सवाल को अब कम से कम इस सीरीज के लिए तो खामोश कर दिया है. रहाणे के बाद मैच की परिस्थिति के हिसाब से केदार जाधव, एमएस धोनी और हार्दिक पांड्या का आना तय है.

गेंदबाजी डिपार्टमेंट भी है सेट

बल्लेबाजी ऑर्डर की ही तरह गेंदबाजी विभाग में भी बदलाव की कोई गुंजाइश नहीं है. तेज गेंदबाजों के तौर पर भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह अपनी काबिलीयत साबित कर चुके हैं और उनका साथ देने के लिए तीसरे मध्यम गति के गैंदबाज के तौर पर पांड्या भी मौजूद हैं.

डरबन वनडे में दोनों टीमों के बीच फर्क पैदा करने में भारत के फिरकी गेंदबाजों की जोड़ी युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने अहम भूमिका निभाई थी. इन दोनों की जुगलबंदी के सामने अफ्रीकी बल्लेबाज मजबूर नजर आए थे. पहले मैच में मिलकर पांच विकेट निकालने वाले चहल और कुलदीप का प्लेइंग इलेवन में होना तय है.

लिहाजा अगर कोई खिलाड़ी चोटिल नहीं होता है तो फिर सेंचुरियन में टीम इंडिया की वही प्लेइंग इलेवन देखने को मिल सकती है जिसने डरबन में इतिहास रचा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi