S M L

भारत-इंग्लैंड, चौथा टेस्ट : जीत के करीब टीम इंडिया

इंग्लैंड छह पर 182, भारत से अब भी 49 रन पीछे

Updated On: Dec 11, 2016 05:25 PM IST

FP Staff

0
भारत-इंग्लैंड, चौथा टेस्ट : जीत के करीब टीम इंडिया

जब कोई टीम आठवें विकेट के लिए 241 रन जोड़ दे, तो उस मैच में विपक्षी टीम के हालात समझे जा सकते हैं. विराट कोहली के ऐतिहासिक दोहरे शतक और जयंत यादव के हिम्मत भरे शतक ने इंग्लैंड को वानखेडे स्टेडियम में पूरी तरह जमींदोज करने का काम किया है. वो 1930 था, जब पिछली बार इंग्लैंड पहली पारी में 400 या ज्यादा रन बनाकर मैच हारी थी. 86 साल बीत चुके हैं. इंग्लैंड टीम उसे दोहराने के करीब पहुंच चुकी है. भारत के खिलाफ सीरीज के चौथे टेस्ट में उसके छह विकेट निकल चुके हैं. स्कोर है 182. भारत से अब भी मेहमान टीम 49 रन पीछे है. इंग्लैंड की पहली पारी के 400 रन के जवाब में भारत ने 631 रन बनाए.

इंग्लैंड का पूरा टॉप ऑर्डर निकल चुका है. आउट होने वाले बल्लेबाजों में जो रूट को छोड़कर कोई भी भारतीय स्पिनर्स के सामने अड़कर बल्लेबाजी करने में नाकाम रहा. रूट ने 77 रन बनाए. एलिस्टर कुक और बेन स्टोक्स ने 18-18 रन बनाए. कीटन जेनिंग्स और मोईन अली तो खाता भी नहीं खोल सके. जेक बॉल दो रन बनाकर दिन की आखिरी गेंद पर आउट हुए. रवींद्र जडेजा और आर. अश्विन ने दो-दो विकेट लिए. भुवनेश्वर कुमार और जयंत यादव ने एक-एक खिलाड़ी को आउट किया.

इंग्लैंड के कई क्रिकेट समीक्षक लगातार वानखेडे स्टेडियम की पिच को अंडर प्रिपेयर्ड करार दे रहे हैं. लेकिन दिलचस्प है कि जब भारतीय बल्लेबाज खेल रहे थे, तो पिच मे कोई दिक्कत नजर नहीं आ रही थी. दोनों टीमों के स्पिनर्स और बल्लेबाजों के स्तर का फर्क साफ नजर आया. विराट के स्तर पर तो कभी किसी को कोई संदेह था भी नहीं. जयंत यादव ने भी नौवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक ठोक दिया.

विराट की ऐतिहासिक पारी

Mumbai: Indian skipper Virat Kohli celebrates his double century during the 4th day of the 4th test match against England in Mumbai on Sunday. PTI Photo by Shashank Parade (PTI12_11_2016_000024B)

शनिवार की शाम खेल रुका था, तब विराट कोहली 147 पर खेल रहे थे. सुबह के सत्र में ऐसा कभी लगा ही नहीं कि इंग्लैंड के बल्लेबाज उन्हें आउट कर पाएंगे. विराट ने साल का तीसरा दोहरा शतक जमाया. वो 235 तक पहुंचे, जो किसी भारतीय कप्तान का टेस्ट क्रिकेट में सबसे बड़ा स्कोर है. इससे पहले ये रिकॉर्ड महेंद्र सिंह धोनी के नाम था, जिन्होंने चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 224 रन बनाए थे. विराट कोहली डीप एक्स्ट्रा कवर पर जब कैच हुए, तब तक उन्होंने 235 रन बना लिए थे. इसके बाद उमेश यादव और भुवनेश्वर कुमार ने स्कोर को 631 तक पहुंचाया.

विराट की 340 रन की पारी में 25 चौके और एक छक्का था. उनके आउट होते ही ऐसा लगा, जैसे पिच बदल गई हो. पिच में अचानक फिर परेशान करने वाला टर्न और बाउंस दिखने लगा. इस साल विराट मिट्टी को छू रहे हैं, तो वो भी सोना बन जा रही है. वो 1200 रन बना चुके हैं, औसत 80 के करीब है. कोहली ने आठ घंटे से ज्यादा बल्लेबाजी की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi