S M L

कौन हैं हनुमा विहारी, जिन्होंने जीता है चयनकर्ताओं का भरोसा

24 साल के विहारी लगातार घरेलू क्रिकेट में कामयाबियां हासिल कर रहे हैं, उनका फर्स्ट क्लास रिकॉर्ड कमाल है

Updated On: Aug 23, 2018 04:19 PM IST

FP Staff

0
कौन हैं हनुमा विहारी, जिन्होंने जीता है चयनकर्ताओं का भरोसा

भारतीय क्रिकेट में इस वक्त चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद हैं. प्रसाद आंध्र प्रदेश से आते हैं. 19 साल पहले वो टीम इंडिया का हिस्सा थे. उसके बाद आंध्र प्रदेश का कोई भी खिलाड़ी भारतीय टेस्ट टीम में नहीं रहा है. अब, हनुमा विहारी को जगह मिली है. नहीं पता कि वो टेस्ट खेल पाएंगे या नहीं. अगर खेल पाए, तो अरसे बाद ऐसा होगा, जब आंध्र प्रदेश का क्रिकेटर टेस्ट टीम का हिस्सा बना हो.

हनुमा विहारी ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है. लेकिन हम सब जानते हैं कि देश में धर्म माने जाने वाले क्रिकेट में घरेलू क्रिकेट पर ध्यान कितने लोगों का होता है. 24 साल के विहारी लगातार घरेलू क्रिकेट में कामयाबियां हासिल कर रहे हैं. उनका फर्स्ट क्लास रिकॉर्ड कमाल है.

Hanuma Vihari

विहारी ने 63 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं. उनके नाम तिहरा शतक है. वर्तमान क्रिकेटरों में उनका औसत दुनिया में सबसे बेहतर है. वो 59.45 के औसत से टॉप पर हैं. स्टीवन स्मिथ इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं. इससे समझ आता है कि विहारी ने किस निरंतरता के साथ रन बनाए हैं. अक्टूबर में वो 25 साल के होंगे. इस उम्र में वो पांच हजार से ज्यादा फर्स्टक्लास रन बना चुके हैं. अपनी ऑफ ब्रेक गेंदबाजी से उन्होंने 19 विकेट भी झटके हैं.

इस साल जून में उन्हें भारत ए के इंग्लैंड दौरे के लिए सीमित ओवर्स और चार दिन के मैचों की टीम में चुना गया था. वहां ट्राइ सीरीज में वो 253 रन बनाने में कामयाब हुए. कुछ समय पहले दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ बेंगलुरु में खेले गए फर्स्ट क्लास मैच में उन्होंने 148 रन बनाए थे. पिछली पांच फर्स्ट क्लास पारियों में उनका एक शतक और दो अर्ध शतक हैं.

उनके बारे में कहा जाता है कि वो बहुत अच्छे बैक फुट खिलाड़ी हैं. विकेट के स्क्वायर बेहतरीन शॉट्स खेलते हैं. भारत ए के गेंदबाजी कोच सनत कुमार ने क्रिकइन्फो को बताया था कि लेंथ को जल्दी भांप लेना उनकी सबसे बड़ी मजबूती है. इससे उन्हें शॉट्स खेलने के लिए ज्यादा वक्त मिलता है.

hanuma vihari

विहारी ने रणजी सीजन के छह मैचों में 94 के औसत से 752 रन बनाए. इसमें करियर बेस्ट 302 नॉट आउट शामिल है, जो उन्होंने ओडिशा के खिलाफ लगाया था.

13 अक्टूबर 1993 को आंध्र प्रदेश के काकिनाडा में जन्मे विहारी का बचपन आसान नहीं था. छोटे थे, तब पिता की मौत हो गई. मां विजय लक्ष्मी से उन्हें पाता. उसके बाद उन्होंने जॉन मनोज की एकेडमी में सीखना शुरू किया. जॉन मनोज एकेडमी ही वो जगह है, जहां वीवीएस लक्ष्मण प्रैक्टिस करते थे. लक्ष्मण हमेशा जॉन मनोज का नाम अपने कोच के तौर पर लेते हैं. नहीं पता कि हनुमा विहारी को इस सीरीज में मौका मिलेगा या नहीं. लेकिन 18 सदस्यीय टीम में जगह बनाकर उन्होंने खुद के लिए बड़ी लीग में शामिल होने का ऐलान तो कर ही लिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi