S M L

India vs England: शतक जड़कर भी इन दिग्गजों के निशाने पर हैं ऋषभ पंत!

पंत ने विकेट के आगे तो सैंकड़ा जड़ दिया लेकिन विकेट के पीछे की उनकी काबिलियत पर अब भी है कई पूर्व विकेट कीपर्स को शक

Updated On: Sep 12, 2018 02:10 PM IST

FP Staff

0
India vs England: शतक जड़कर भी इन दिग्गजों के निशाने पर हैं ऋषभ पंत!

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के आखिरी दिन सीरीज हारने के बावजूद जूस बात ने भारतीय फैंस का दिल जीत लिया वह थी केएल राहुल और ऋषभ पंत की पारी. इन दोनों री बल्लेबजों ने शतक जड़कर भारत एक लिए इस मुकाबले मे जीत की उम्मीद जगा दी थी. खास तौर से इस सीरीज से ही अबना टेस्ट डेब्यू कर रहे ऋषभ पंत की पारी ने दर्शकों की दिल जीत लिया. पंत की इस जोरदार पारी के बावजूद भारत के पुराना विकेटकीपर्स की नजरों में वह नहीं छा पाए हैं और वजह है उनकी विकेट कीपिंग.

ऋषभ पंत की इंग्लैंड में विकेटकीपिंग अच्छी नहीं रही और पूर्व भारतीय विकेटकीपरों का मानना है कि उन्हें टेस्ट स्तर का भरोसेमंद विकेटकीपर बनने के लिये अभी काफी सुधार करने की जरूरत है. 20 साल के पंत ने इंग्लैंड के खिलाफ छह पारियों में 76 बाई रन दिए हालांकि इनमें से 20-25 रन उनकी गलती के कारण नहीं गए.

India's Rishabh Pant (L) celebrates his century with India's K. L. Rahul during play on the final day of the fifth Test cricket match between England and India at The Oval in London on September 11, 2018. / AFP PHOTO / Adrian DENNIS / RESTRICTED TO EDITORIAL USE. NO ASSOCIATION WITH DIRECT COMPETITOR OF SPONSOR, PARTNER, OR SUPPLIER OF THE ECB

I

पूर्व भारतीय विकेटकीपर नयन मोंगिया, किरण मोरे और दीप दासगुप्ता का मानना है कि पंत को अभी काफी सुधार करने की जरूरत है लेकिन इसके साथ ही उनका मानना है कि चयनकर्ताओं का युवा विकेटकीपरों को लेकर स्पष्ट नीति होनी चाहिए क्योंकि ऋद्धिमान साहा का अभी अगले तीन या चार महीने तक खेलना संभव नहीं है.

 नयन मोंगिया ने खोजी पंत की विकेटकीपिंग में कमी

मोंगिया ने कहा, ‘वह (पंत) अभी नया है और मुझे लगता है कि आईपीएल फार्म के आधार पर खिलाड़ी का चयन करना गलत नीति है. विकेटकीपिंग के उनके बेसिक्स सही नहीं है. मेरी चिंता यह है कि अगर वह इंग्लैंड में स्पिनरों के सामने विकेटकीपिंग नहीं कर पा रहा है तो उसे उप महाद्वीप में चौथे या पांचवें दिन काफी समस्या होगी.’

मोंगिया जहां पार्थिव की वापसी चाहते हैं वहीं दीप दासगुप्ता का मानना है कि चयनकर्ता आगामी सीरीज के लिये अनुभव को तरजीह दे सकते हैं.

दासगुप्ता ने कहा, ‘ऋषभ पंत अभी युवा है और उसे अच्छी तरह से तैयार करने की जरूरत है. विकेटकीपिंग में उसे अभी काफी विभागों में सुधार करने की जरूरत है लेकिन मैं नहीं चाहता कि किसी खिलाड़ी को एक सीरज के बाद बाहर किया जाए.’

मोरे चाहते हैं एक और मौका देना

वहीं सेलेक्शन कमेटी के पूर्व अध्यक्ष किरण मोरे का मानना है कि पंत को वेस्टइंडीज के खिलाफ एक और मौका देना चाहिए।

मोरे ने कहा, ‘मैं उसे एक और टेस्ट मैच में मौका देना चाहूंगा. उसने कोई कैच नहीं टपकाया हालांकि उसने काफी बाई रन दिये. वह प्रतिभाशाली है। उम्मीद है इससे उससे उसकी बल्लेबाजी प्रभावित नहीं होगी.’

(इनपुट-भाषा)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi