S M L

भारत बांग्लादेश टेस्ट 2017: रनों के पहाड़ के नीचे दबा बांग्लादेश

भारत ने पहली पारी में बनाए छह विकेट पर 687, विराट का दोहरा शतक, साहा का शतक

Peter Miller Updated On: Feb 10, 2017 09:00 PM IST

0
भारत बांग्लादेश टेस्ट 2017: रनों के पहाड़ के नीचे दबा बांग्लादेश

हैदराबाद टेस्ट और घरेलू सीजन में भारत के दबदबे का दौर जारी है. बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट का दूसरा दिन भी एकतरफा रहा. भारतीय टीम छह विकेट पर 687 के स्कोर तक पहुंची. लगातार तीन मैचों में 600 से ज्यादा रन बनाने वाली पहली टीम बनी. बल्कि भारत ने लगातार तीन पारियों में ऐसा किया है.

अब तक यह टेस्ट दो टीमों के बीच मुकाबले के तौर पर नहीं दिखा है. अब वही पुराना, थका हुआ तर्क एक बार फिर उभर कर आएगा कि बांग्लादेश टीम टेस्ट क्रिकेट के लायक नहीं है. लेकिन ध्यान रखना चाहिए कि सिर्फ बांग्लादेश नहीं है, जो हालिया वक्त में भारत की सरजमीं पर बुरी हालत में है.

भारत ने दिसंबर 2012 के बाद कोई टेस्ट नहीं हारा है. इस बीच तीन टेस्ट ड्रॉ रहे हैं और 16 भारत ने जीते हैं. ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट खेले गए हैं. ऐसा नहीं है कि बांग्लादेश बहुत बुरी टीम है, इसलिए मैच एकतरफा है. ऐसा इसलिए हो रहा है, क्योंकि भारत अपने घर में अजेय जैसी है. सामने कैसी भी टीम हो.

विराट कोहली ने दिन की शुरुआत नॉट आउट 111 रन से की. जब वो 204 रन बनाकर आउट हुए, तब वह लगातार चौथा दोहरा शतक जमा चुके थे. ये सभी दोहरे शतक जुलाई 2016 के बाद बने हैं. ऐसा करने वाले वो पहले बल्लेबाज बने हैं. उनकी पिछली पांच पारियां शतक शतक के पार थीं. उन्होंने 200, 211, 167, 235 और 204 रन बनाए हैं. विपक्षी टीम के लिए सिर्फ एक अच्छी बात है. एक बार 200 पार करने के बाद उनकी औसत महज 12.5 ही है. विपक्षी टीमों को इसका शुक्र मनाना चाहिए.

कोहली जिस सहजता और तेजी से रन बनाते हैं, उस पर वाकई भरोसा नहीं होता. उनकी फिटनेस कमाल की है. घंटों बैटिंग के बाद भी वो अपनी रनिंग से जिस तरह फील्डर्स को पीछे धकेलते हैं, वो भी कमाल है. किसी लैंडमार्क पर पहुंचने के बाद वो जश्न मनाते नहीं दिखते. ये भी दिखाता है कि उनमें बेहतर होने की कितनी भूख हैं. वो सिर्फ रन बनाना चाहते हैं. इसके बीच रिकॉर्ड अपने आप आते रहते हैं.

दोहरे शतक से पहले रिव्यू की वजह से बचे कोहली

कोहली को 180 रन पर एलबीडबल्यू दिया गया. लेकिन गेंद लेग स्टंप के बाहर जा रही थी और डीआरएस में वो बच गए. 204 पर भी उनके आउट होने के फैसले को बदला जा सकता था. लेकिन उन्होंने रिव्यू नहीं लिया. ताइजुल इस्लाम की गेंद ऑफ स्टंप के बाहर उनके पांव पर लगी थी. भले ही रिव्यू नहीं लिया, लेकिन तब तक वो अपना काम कर चुके थे. बैकफुट पर जाकर उन्होंने कट करने की कोशिश की थी. लेकिन चूक गए. समझा जा सकता है कि उन्हें अंपायर का फैसला उस वक्त सही लगा होगा.

विफलता चकित करने वाली होती है, कामयाबी उम्मीदों जैसी. कोई भी इस पारी का स्कोर कार्ड देखकर चकित नहीं होगा. कोहली का बड़े स्कोर बनाना एक इवेंट तो है. लेकिन स्टोरी नहीं है. ये तो वो करते ही रहते हैं. वो और बेहतर ही हो रहे हैं. वो क्या कुछ और पा सकते हैं, ये उनके फिटनेस और इच्छाशक्ति पर है.

कोहली को अजिंक्य रहाणे का साथ मिला, जिन्होंने शानदार 82 रन बनाए. उन्होंने कवर्स में शॉट खेला, जो हवा में था. मेहदी हसन ने अच्छा कैच पकड़ा. 222 रन की साझेदारी भारत की बांग्लादेश के खिलाफ संयुक्त रूप से तीसरी सबसे बड़ी साझेदारी है.

Hyderabad: India's captain Virat Kohli plays a shot during the test match against Bangladesh at Uppal Stadium in Hyderabad on Friday. PTI Photo (PTI2_10_2017_000070B)

विराट कोहली.

ऋद्धिमान साहा ने भी शतक जमाया. टेस्ट में उनका दूसरा शतक है. रवींद्र जडेजा ने नॉट आउट रहते हुए 60 रन बनाए. शाम का सीजन ऐसा था, जैसे कोई छोटा बच्चा मैग्निफाइंग ग्लास के साथ चींटी को तंग कर रहे हों. भारत ने दूसरे दिन खेल खत्म होने से एक घंटे पहले तक बल्लेबाजी की.

पारी घोषित की गई, तब लगा कि उम्मीद से थोड़ी देर हो गई. लेकिन अगर भारत सिर्फ एक बार बैटिंग करना चाहता है, तो उसे थके हुए और हताश लोगों के खिलाफ ज्यादा से ज्यादा रन बनाने ही चाहिए थे. इसके अलावा क्रिकेट वैसे भी नंबर का खेल है. ऐसे में साहा के शतक का भी इंतजार किया गया.

पिच में हल्की मदद दिखने लगी है

इस पिच में हल्की सी जान दिखी है. खासतौर पर बांग्लादेशी स्पिनर्स के लिए, जिनकी कुछ गेंद टर्न हुईं और कुछ नीची रहीं. लेकिन कुल मिलाकर अब भी विकेट बैटिंग के लिए अच्छा है. बांग्लादेश का मजबूत पक्ष बैटिंग है. ऐसे में वे ज्यादा से ज्यादा रन बनाकर भारत को जीत के लिए मशक्कत कराना चाहेंगे.

सीरीज में सिर्फ एक टेस्ट है. ऐसे में उम्मीद है कि कोहली आक्रमण जारी रखेंगे और विकेट लेना चाहेंगे. उनके पास इतने रन हैं कि वे कैचिंग पोजीशन पर फील्डर लगा सकते हैं और बांग्लादेश को आउट करने की कोशिश करके फॉलोऑन देने की उम्मीद कर सकते हैं.

उमेश यादव के एक्स्ट्रा पेस की वजह से उन्हें विकेट मिला. अंपायर चूक गए, लेकिन कोहली नहीं. रिव्यू में विकेट मिला. शायद कोहली को अंपायरिंग भी शुरू कर देनी चाहिए. जिस परफेक्शन के साथ वे सारी चीजें कर रहे हैं, उसमें ये भी परफेक्ट तरीके से करेंगे.

बांग्लादेश ने दिन का अंत 646 रन पीछे रहकर किया है. तीसरे दिन के अंत तक उन्हें ही बल्लेबाजी जारी रखनी चाहिए. ऐसा करके ही वे ड्रॉ के मौके जिंदा रख सकते हैं. जीत का मौका तो उनसे बहुत पीछे छूट चुका है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi