S M L

Ind vs Aus: जडेजा की 'चोट' से खुली पोल, टीम इंडिया में 'ऑल इज नॉट वेल'

शास्त्री के बयान के मुताबिक रवींद्र जडेजा चोटिल होने के बावजूद ना सिर्फ प्रेक्टिस मैच खेले बल्कि दोनों टेस्ट मैच में फील्डिंग भी की

Updated On: Dec 24, 2018 10:53 AM IST

FP Staff

0
Ind vs Aus: जडेजा की 'चोट' से खुली पोल, टीम इंडिया में 'ऑल इज नॉट वेल'

भारतीय टीम पर कप्तान विराट कोहली और रवि शास्त्री की जोड़ी की इतनी पकड़ मानी जाती है कि टीम के सभी आखिरी फैसले उनकी मर्जी के मुताबिक ही होते हैं. हालांकि रवींद्र जडेजा की चोट के मामले ने बहुत से सवाल खड़े कर दिए हैं. रवि शास्त्री के बयान के बाद उलझे इस मामले के बाद कोहली-शास्त्री, बीसीसीआई और सेलेक्टर्स सब अलग-अलग खड़े दिखाई दे रहे हैं जो यह बताने के लिए काफी है कि टीम में सब कुछ ठीक नहीं हैं.  रवि शास्त्री से जब रवींद्र जडेजा के दूसरे टेस्ट में ना खेलने का सवाल पूछा गया तो खुलासा किया कि सीनियर स्पिनर रवींद्र जडेजा को पूरी तरह फिट ना होने के कारण उन्हें मौका नहीं दिया गया.

संभावित लिस्ट में चोटिल जडेजा को मिली जगह

इसके बाद से यह बहस शुरू हो गई कि आखिर चोटिल रवींद्र जडेजा को संभावित 13 में जगह क्यों गई थी. यह सवाल इसलिए भी उठाए जा रहे हैं क्योंकि जडेजा को पर्थ टेस्ट के प्लेइंग इलेवन में तो नहीं खिलाया गया लेकिन बतौर सब्सिट्यूट फील्डर वह जरूर नजर आए. 12th मैन ना होने के बावजूद जडेजा ने दोनों टेस्ट मिलाकर लगभग 20 ओवर फील्डिंग की है. इससे पहले इकलौते प्रेक्टिस मैच में भी उन्होंने 11 ओवर गेंदबाजी की थी. इसके बाद एडिलेड और पर्थ टेस्ट की नेट सेशन में भी वह गेंदबाजी करते नजर आए थे. पर्थ टेस्ट से पहले अगर टीम उनकी इंजरी के कारण प्लेइंग इलेवन जगह नहीं दे सकती थी तो जडेजा संभावित 13 में क्यों थे.

जडेजा की इंजरी पर नहीं हुई बात

एक और बात जो सवाल उठाती वह यह कि पर्थ टेस्ट मैच के बाद शास्त्री से जब जडेजा के बारे में पूछा गया तब उन्होंने इंजरी की बात कही. हालांकि इससे पहले दौरे की शुरुआत से लेकर पर्थ टेस्ट के शुरू होने से पहले तक इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई. पर्थ टेस्ट में संभावित 12 खिलाड़ियों की लिस्ट में पृथ्वी शॉ, रोहित शर्मा और आर अश्विन की इंजरी पर तो अपडेट दी गई लेकिन जडेजा का जिक्र भी नहीं था. दूसरे टेस्ट में हार के बाद भी जब कोहली से बिना स्पिनर के उतरने पर सवाल किया गया तो उन्होंने अश्विन की चोटिल होने की बात सामने रखकर कहा था कि वह फिट होते तो भी टीम चार तेज गेंदबाज के साथ ही उतरती. उस समय भी जडेजा की इंजरी को लेकर कोई बात नहीं की गई थी. शास्त्री ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा, ‘जडेजा के साथ समस्या यह थी कि कंधे में जकड़ने के कारण ऑस्ट्रेलिया आने के चार दिन बाद उन्होंने इंजेक्शन लिया था.’  तो क्या चोटिल जडेजा को टीम की संभावित लिस्ट में जगह दे दी गई थी. यह सब टीम और मैनेजमेंट में चल रही उलझन को सामने ला रहा है जिसका असर भारतीय टीम पर हो रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA
Firstpost Hindi