S M L

धोनी भी नहीं पढ़ पाए थे मार्कंडेय की गेंद, कोहली के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करना है इस युवा गेंदबाज का सपना

21 साल के मयंक मार्कंडेय ने पिछले साल ही आईपीएल और फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में कदम रखा और साल भर से भी कम समय में भारतीय टीम का सफर तय कर लिया

Updated On: Feb 16, 2019 03:01 PM IST

FP Staff

0
धोनी भी नहीं पढ़ पाए थे मार्कंडेय की गेंद, कोहली के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करना है इस युवा गेंदबाज का सपना

भारत का दौरा करने वाली ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ लेग स्पिनर मयंक मार्कंडेय टी20 क्रिकेट में कदम रखेंगे. पिछले साल ही मुंबई इंडियंस की ओर से आईपीएल में डेब्‍यू करने वाले 21 साल के मयंक को इतनी जल्‍दी देश का प्रतिनिधित्‍व करने का मौका मिल जाएगा, ये कभी नहीं सोचा था. मार्कंडेय ने आईपीएल 14 मैचों में 24.53 की औसत से 15 विकेट लिया. फिर इसके बाद उन्‍होंने फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में पंजाब की ओर से डेब्‍यू किया और डेब्‍यू सीजन में भी छह मैचों में 29 विकेट ले डाले.

इस कमाल के प्रदर्शन के दम पर ही वह इतनी जल्‍दी मुंबई इंडियंस से टीम इंडिया तक का सफर तय पर पाए. मार्कंडेय ने भारतीय टीम में चुने जाने के बाद क्रिकेटनेक्‍स्‍ट से बात करते हुए कहा हुए कहा कि यह सपना था, जो सच हो गया. मैंने कभी नहीं सोचा था कि भारत का प्रतिनिधित्‍व करने का मौका मुझे इतनी जल्‍दी मिल जाएगा. मार्कंडेय ने हाल ही में भारत ए की ओर से खेलते हुए इंग्‍लैंड लायंस के खिलाफ दूसरी पारी में पांच विकेट लिए थे.

mayank

मार्कंडेय के लिए उनके करियर का सबसे यादगार पल भारत के अनुभवी विकेटकीपर बल्‍लेबाज एमएस धोनी को अपनी गेंद पर पवेलियल भेजना है. मुंबई इंडियंस की ओर से डेब्‍यू में मार्कंडेय के स्पिन के खिलाफ बेहतर बल्‍लेबाजों में से धोनी को अपने जाल में फंसा लिया था.

मार्कंडेय ने मुंबई इंडियंस के लिए अपने डेब्‍यू को याद करते हुए कहा कि टीम मैनेजमेंट को इसका श्रेय देते हुए कहा रोहित भाईया (रोहित शर्मा) ने मुझे कहा था कि मैं गेंदबाजी अच्‍छी करता हूं और मुझे खेलने के लिए तैयार रहना चाहिए. राहुल सांघवी सर ने नेट्स पर काफी मदद की. यहां तक कि रोहित भईयां ने कहा था कि बिना किसी झिझक और शर्म के मैं उनसे कभी भी कुछ भी पूछ सकता हूं. इस युवा गेंदबाज ने कहा कि उनका मुख्‍य उद्देश्‍य लेग स्पिनर पर अपने नियंत्रण में सुधार करने पर है, क्‍योंकि गुगली ही एक ऐजी चीज है जो नेचुरली उनके पास आती है. यहां तक की आईपीएल के बाद मैंन मेरे लेग स्पिनर को बेहतर करने पर ही काम किया. किसी भी लेग स्पिनर के लि यह सबसे अहम डिलीवरी होती है. यदि मैं इस पर नियंत्रण बना लेता हूं तो किसी भी बल्‍लेबाज को मेरी गेंद को हिट करने में परेशानी होगी. गुगली एक ऐसी चीज है, जो मेरे पास स्‍वभाविक आती है.

मार्कंडेयर अपने हीरो विराट कोहली के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करने को लेकर काफी उत्‍साहित हैं. उन्‍होंने कहा कि हकीकत में मैंने ऐसा नहीं सोचा था, लेकिन भारतीय कप्‍तान से सीखने को काफी कुछ मिलेगा. मैं अनुभवी खिलाडि़यों से ज्‍यादा से ज्‍यादा सीखने की कोशिश करुंगा, लेकिन विराट भईया, धोनी भईया और रोहित भईया के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करना एक सपना था, जो सच होने जा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi