S M L

IND vs AUS : एमएसके प्रसाद ने कहा, विहारी को ओपनिंग का मौका एक अवसर के रूप में लेना चाहिए

चयन समिति के अध्यक्ष ने दिया आश्वासन, ओपनिंग में विफल होने पर विहारी को मध्यक्रम में मिलेगा पूरा मौका

Updated On: Dec 25, 2018 06:37 PM IST

Bhasha

0
IND vs AUS : एमएसके प्रसाद ने कहा, विहारी को ओपनिंग का मौका एक अवसर के रूप में लेना चाहिए

हनुमा विहारी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बुधवार से मेलबर्न में खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट में सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाएंगे. हनुमा विहारी की इस भूमिका पर चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने आश्वासन दिया कि अगर वह नई जिम्मेदारी में विफल रहते हैं तो उन्हें मध्यक्रम में भी पूरा मौका मिलेगा. लोकेश राहुल और मुरली विजय के विफल होने के बाद टीम प्रबंधन ने पदार्पण कर रहे मयंक अग्रवाल के साथ विहारी को पारी की शुरुआत करने के लिए चुना है.

प्रसाद से जब पूछा गया कि क्या यह विहारी के लिए गलत नहीं होगा क्योंकि उन्होंने अभी तक सिर्फ दो टेस्ट खेले हैं और घरेलू प्रथम श्रेणी में भी वह नियमित तौर पर पारी शुरू नहीं करते तो उन्होंने कहा, ‘अगले दो टेस्ट में अगर वह सलामी बल्लेबाज की भूमिका में विफल होते हैं तो भी उन्हें मध्यक्रम में पूरा मौका मिलेगा.’

ये भी पढ़ें- India vs Australia Boxing Day Test: ब्रैंड न्यू ओपनिंग जोड़ी का जुआ कितना कारगर साबित होगा!

घरेलू क्रिकेट में आंध्र के लिए खेलने वाले विहारी को करीब से देखने वाले प्रसाद ने कहा कि उनके पास नई कूकाबूरा गेंद का सामना करने के लिए अच्छी तकनीक है. उन्होंने कहा, ‘वह अच्छा है, तकनीकी रूप से हमें लगा की विहारी दक्ष है. ऐसे कई मौके रहे हैं जब टीम की जरूरत के मुताबिक चेतेश्वर पूजारा ने भी पारी की शुरुआत की है. टीम को अभी इसकी जरूरत है और मैं निश्चित रूप से आश्वस्त हूं कि वह सफल होगा. मैं कह सकता हूं कि यह लंबे समय के लिए समाधान नहीं होगा.’

विहारी की तरह प्रसाद को भी 1999 के दौरे पर ऐसे जिम्मेदारी दी गई थी, लेकिन वह ब्रेट ली की तेज गेंदों का सामना नहीं कर सके थे. उन्होंने कहा कि विहारी को यह मौका एक अवसर के रूप में लेना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘मुझे हमेशा लगता है कि वह (1999 के ऑस्ट्रेलिया दौर पर) मेरे लिए मौका था जिस पर मैं खरा नहीं उतर सका. हमें लगता है कि रोहित की तुलना में विहारी ऐसा करने में ज्यादा सक्षम हैं. हम उसकी तकनीक को लेकर आश्वस्त हैं और भरोसा है कि वह लंबे समय तक भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा रहेगा.’

ये भी पढ़ें-  India vs Australia, Boxing Day Test: तो क्या मेलबर्न टेस्ट में भी कोहली-पेन के बीच 'जंग' चाहते हैं कोच लैंगर

मयंक को भारत ए के लिए नियमित तौर पर अच्छा प्रदर्शन करने का फायदा मिला है तो वहीं पिछले एक साल से लगातार विफल हो रहे राहुल और विजय के भविष्य पर प्रसाद ने कहा कि इस पर विचार किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘हमने मयंक को इसलिए बुलाया क्योंकि वह अच्छी फॉर्म में है और उसने भारत-ए सीरीज सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया. मौजूदा फॉर्म को देखें तो हम सब जानते हैं कि सीरीज में सलामी बल्लेबाज उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे. यही कारण है कि उन्हें टीम से बाहर किया गया है. यह निराशाजनक है. मुझे लगता है अगली टेस्ट सीरीज सात महीने बाद है ऐसे में निश्चित तौर पर इस पर विचार किया जाएगा.’

ये भी पढ़ें-  India vs Australia, Boxing Day Test: वो रिकॉर्ड्स जो टूटने के लिए कोहली का इंतजार कर रहे हैं...

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi