S M L

Ind vs Aus: शानदार फॉर्म में चल रहे भारतीय तेज गेंदबाजों को नेहरा ने चेताया

ने‍हरा ने कहा भले ही इस साल भारतीय तेज गेंदबाजों ने अच्‍छा प्रदर्शन किया हो, लेकिन ऑस्‍ट्रेलिया दौरा उनके लिए आसान नहीं होगा

Updated On: Nov 14, 2018 06:58 PM IST

Bhasha

0
Ind vs Aus: शानदार फॉर्म में चल रहे भारतीय तेज गेंदबाजों को नेहरा ने चेताया

पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा का मानना है कि भले ही भारतीय तेज गेंदबाजों ने इस साल विदेशी सरजमीं पर अच्छा प्रदर्शन किया हो, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की मुश्किल परिस्थितियों के कारण आगामी सीरीज उनके लिए काफी चुनौतीपूर्ण होगी. उनका मानना है कि वर्तमान तेज गेंदबाजों में सफल होने की कूव्वत है, लेकिन इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका की तुलना में वहां परिस्थितियां भिन्न होंगी.

नेहरा ने पीटीआई को दिए इंटरव्‍यू में कहा कि ऑस्ट्रेलियाई टीम अभी बदलाव के दौर से गुजर रही है और निसंदेह यह भारत के लिए बहुत अच्छा मौका है. हमारे पास ऐसा गेंदबाजी आक्रमण है जो उन्हें परेशानी में डाल सकता है, लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि ऑस्ट्रेलिया में परिस्थितियां काफी कड़ी होंगी. जहां विकेट सपाट होता है और काफी गर्मी होती है.

इंग्‍लैंड जैसा पूरे दिन गेंद नहीं होंगी स्विंग

नेहरा ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में आपको अतिरिक्त उछाल मिल सकती है, लेकिन वहां कूकाबूरा की सिलाई खत्म होने तक थोड़ा मूवमेंट मिलेगा. वहां इंग्लैंड जैसा नहीं होगा, जहां गेंद पूरे दिन स्विंग लेती है. एक बार उछाल से सामंजस्य बिठाने के बाद बल्लेबाज आप पर पूरे दिन शॉट खेल सकता है.

नेहरा ने कहा कि इंग्लैंड में अगर आपका तेज गेंदबाज छह ओवर के स्पैल में दो विकेट लेता है तो कप्तान कुछ और विकेट हासिल करने के लिए दो या तीन अधिक ओवर उसे देता है. लेकिन ऑस्ट्रेलिया में हमेशा ऐसा नहीं किया जा सकता है.

शमी या उमेश यादव में से कोई एक

नेहरा के अनुसार एडिलेड में शुरू होने वाली सीरीज में जसप्रीत बुमराह और इशांत शर्मा शुरुआती एकादश में रहेंगे, जबकि मोहम्मद शमी और उमेश यादव में से किसी एक को चुना जा सकता है. उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि भुवनेश्वर कुमार पहले टेस्ट मैच में खेलेंगे. उन्‍हें कूकाबूरा की पुरानी गेंद से थोड़ी परेशानी होती है क्योंकि यह ड्यूक या एसजी टेस्ट की तरह स्विंग या सीम नहीं होती है.

 

नेहरा ने उमेश यादव के लिए कहा कि वह दमदार गेंदबाज हैं और भारतीय तेज गेंदबाजों में सबसे फिट हैं. भारतीय परिस्थितियों में उनका प्रदर्शन इसका सबूत है जब वह 65 से 70 ओवर पुरानी गेंद को भी रिवर्स करा सकते हैं. इसके लिए आपको कौशल और ताकत दोनों की जरूरत पड़ती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi