S M L

India vs Australia : ख्वाजा ने तोड़ी टीम इंडिया की उम्मीदें, ऑस्ट्रेलिया ने दस साल बाद जीती भारत में सीरीज

ऑस्ट्रेलिया ने उस्मान ख्वाजा के सीरीज में दूसरे शतक की मदद से 272 रन बनाए, जवाब में भारतीय टीम 237 रन पर सिमट गई

Updated On: Mar 13, 2019 10:01 PM IST

Bhasha

0
India vs Australia : ख्वाजा ने तोड़ी टीम इंडिया की उम्मीदें, ऑस्ट्रेलिया ने दस साल बाद जीती भारत में सीरीज

ऑस्ट्रेलिया ने उस्मान ख्वाजा के सीरीज में दूसरे शतक, लेग स्पिनर एडम जांपा की शानदार गेंदबाजी तथा भारत की कमियों  का पूरा फायदा उठाकर पांचवें और निर्णायक वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में बुधवार को नई दिल्ली में 35 रन से जीत दर्ज करके दस साल बाद भारतीय सरजमीं पर वनडे सीरीज अपने नाम की. फिरोजशाह कोटला में केवल दो बार (1982 और 1996) ही कोई टीम 250 से अधिक का लक्ष्य सफलतापूर्वक हासिल कर पाई है. ऑस्ट्रेलिया का टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला सही रहा और केवल चार विशेषज्ञ बल्लेबाजों के साथ उतरे भारत के लिए 273 रन का लक्ष्य पहाड़ जैसा बन गया.

शुरू में रोहित शर्मा (89 गेंदों पर 56 रन) की अर्धशतकीय पारी तथा बाद में केदार जाधव (57 गेंदों पर 44 रन) और भुवनेश्वर कुमार (54 गेंदों पर 46 रन) ने सातवें विकेट के लिए 91 रन जोड़कर उम्मीद जगाई लेकिन भारत आखिर में 50 ओवर में 237 रन पर आउट हो गया. जांपा ने 46 रन देकर तीन जबकि तेज गेंदबाज पैट कमिंस, जाय रिचर्डसन और मार्कस स्टोइनिस ने दो-दो विकेट लिए.

आस्ट्रेलिया ने इससे पहले 2009 में भारतीय सरजमीं पर छह मैचों की सीरीज 4-2 से जीती थी. इस बार उसने पहले दो मैच गंवाने के बाद लगातार तीन मैच जीतकर सीरीज 3-2 से अपने नाम की. यह वनडे में पांचवां अवसर है जबकि किसी टीम ने पहले दो मैच हारने के बाद सीरीज जीती. ऑस्ट्रेलिया से पहले दक्षिण अफ्रीका (दो बार), बांग्लादेश और पाकिस्तान ने यह उपलब्धि हासिल की थी. भारत ने दूसरी बार पहले दो मैच जीतने के बाद सीरीज गंवाई. इससे पहले 2005 में पाकिस्तान के खिलाफ वह शुरुआती बढ़त का फायदा नहीं उठा पाया था.

New Delhi: Australian batsman Usman Khawaja raises his bat after scoring his century during the 5th ODI cricket match against India, at Feroz Shah Kotla Cricket Stadium in New Delhi, Wednesday, March 13, 2019. (PTI Photo/Ravi Choudhary) (PTI3_13_2019_000072B)

इससे पहले ख्वाजा ने 106 गेंदों पर दस चौकों और दो छक्कों की मदद से 100 रन बनाए. उन्होंने कप्तान एरोन फिंच (43 गेंदों पर 27 रन) के साथ पहले विकेट के लिए 76 और पीटर हैंड्सकांब (60 गेंदों पर 52 रन) के साथ दूसरे विकेट के लिए 99 रन की दो उपयोगी साझेदारियां कीं. भारत ने अच्छी वापसी की लेकिन पुछल्ले बल्लेबाजों ने अंतिम चार ओवर में 42 रन जुटाए जिससे ऑस्ट्रेलिया नौ विकेट पर 272 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंच गया.

शिखर धवन (12) मोहाली की अपनी फॉर्म को बरकरार नहीं रख पाए. दिल्ली का एक अन्य स्टार कोहली आक्रामक मूड में लग रहे थे. मनपसंद शॉट नहीं लगने पर वह एक दो बार झल्लाए भी. ऐसे में मार्कस स्टोइनिस की अतिरिक्त उछाल वाली अपेक्षाकृत धीमी गेंद पर कट करने के प्रयास में वह विकेट के पीछे कैच दे बैठे. कोटला को सांप सूंघ गया. दिल्ली का एक बल्लेबाज पवेलियन लौट रहा था वहीं एक और बल्लेबाज अपने घरेलू मैदान पर उतर रहा था. विश्व कप 2015 के बाद नंबर चार पर कई प्रयोग करने वाली भारतीय टीम ने ऋषभ पंत (16) को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी, लेकिन वह पहली परीक्षा में नाकाम रहे. जांपा पर छक्का जड़कर उत्साह जगाने वाले इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने ऑफ स्पिनर नैथन लायन की बाहर की तरफ टर्न होती गेंद पर स्लिप में कैच थमा दिया.

rohit sharma on completing 8000 runs in ODI cricket

विजय शंकर (16) उतावलापन महंगा पड़ा तो रोहित दो जीवनदान का फायदा नहीं उठा पाए. अपना 41वां अर्धशतक पूरा करने वाले यह बल्लेबाज अति उत्साही शॉट लगाने के प्रयास में स्टंप आउट हो गया. जांपा ने इसी ओवर में रवींद्र जडेजा (00) को भी पवेलियन भेजा. भारत की हार जब तय लग रही थी तब जाधव ने दर्शकों में भरोसा जताया जबकि भुवनेश्वर ने अपने बल्लेबाजी कौशल का अच्छा नमूना पेश किया. इन दोनों ने दिखाया कि दबाव में सतर्कता और आक्रामकता के साथ बल्लेबाजी कैसे की जाती है. जाधव ने मैक्सवेल पर छक्का लगाया तो भुवनेश्वर ने जंपा और जाय रिचर्डसन की गेंदें छह रन के लिए भेजकर अपनी सीटों से उठ चुके दर्शकों को बैठने के लिए मजबूर किया. लेकिन इन दोनों के लगातार गेंदों पर आउट होने से रही सही उम्मीद समाप्त हो गई.

इससे पहले भारत ने पांच विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ उतरने का फैसला किया. जसप्रीत बुमराह (दस ओवर में 39 रन, कोई विकेट नहीं) और जडेजा (दस ओवर में 45 रन देकर दो विकेट) ने अधिक प्रभावित किया. भुवनेश्वर (दस ओवर में 48 रन देकर तीन विकेट) सबसे सफल गेंदबाज रहे, मोहम्मद शमी (नौ ओवर में 57 रन देकर दो विकेट) ने टुकड़ों में अच्छी गेंदबाजी की लेकिन कुलदीप यादव (दस ओवर में 74 रन एक विकेट) ने निराश किया.

New Delhi: Indian cricket team captain Virat Kohli and Bhuvneshwar Kumar celebrate after the dismissal of Australia's cricketer Usman Khawaja during the 5th ODI cricket match against India, at Feroz Shah Kotla Cricket Stadium in New Delhi, Wednesday, March 13, 2019. (PTI Photo/Ravi Choudhary) (PTI3_13_2019_000073B)

जडेजा ने अपने पहले ओवर में फिंच को आउट करके भारत को पहली सफलता दिलाई लेकिन दूसरे स्पिनर कुलदीप को बल्लेबाजों ने आसानी से खेला. ऑस्ट्रेलियाई पारी के चारों छक्के इस चाइनामैन स्पिनर पर लगे. कुलदीप की एक गुगली ने जरूर हैंड्सकांब को छका दिया था, लेकिन तब विकेटकीपर पंत भी गच्चा खा गए और गेंद चार रन के लिए चली गई. ऑस्ट्रेलिया 28 ओवर के बाद एक विकेट पर 157 रन बनाकर बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रहा था. ऐसे में अपने पहले चार ओवर में केवल आठ रन देने वाले बुमराह ने दबाव बनाया तो भुवनेश्वर और जडेजा ने उसे भुनाया. ख्वाजा ने 102 गेंदों पर शतक पूरा किया लेकिन इसी स्कोर पर भुवनेश्वर की गेंद पर कवर में कैच दे बैठे. कोहली ने ही अगले ओवर में ग्लेन मैक्सवेल (एक) का एक्स्ट्रा कवर पर कैच लेकर दर्शकों में जोश भरा.

शमी अपना तीसरा स्पैल करने के लिए आए. उनकी तेजी से उठती गेंद को हैंडसकांब नहीं समझ पाए जो उनके बल्ले को चूमकर विकेट के पीछे गई और इस बार पंत ने कोई गलती नहीं की. हैंड्सकांब ने इससे पहले वनडे में अपना चौथा अर्धशतक पूरा किया. मोहाली के नायक एश्टन टर्नर (20), स्टोइनिस (20) और कैरी (03) ने तेजी से रन बनाने के प्रयास में विकेट गंवाए. जाय रिचर्डसन (29) और पैट कमिंस (15) ने 48वें ओवर में बुमराह पर 19 रन बटोरकर उनका गेंदबाजी विश्लेषण बिगाड़ा और स्कोर 250 रन के पार पहुंचाया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi