S M L

भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टेस्ट: अब नहीं भूल पाएंगे ये नाम...

70 रन देकर 12 विकेट लेकर मैन ऑफ द मैच बने ओ'कीफ

FP Staff Updated On: Feb 25, 2017 03:57 PM IST

0
भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टेस्ट: अब नहीं भूल पाएंगे ये नाम...

28.1 ओवर... छह मेडन... 70 रन... 12 विकेट... जो काम शेन वॉर्न नहीं कर पाए. जो काम मुथैया मुरलीधरन नहीं कर पाए. जो काम मुश्ताक अहमद और सकलैन मुश्ताक नहीं कर सके. उसे एक अनजान से गेंदबाज ने कर दिखाया. स्टीव ओ’कीफ. अब कोई भारतीय क्रिकेट प्रेमी नहीं पूछेगा कि ये कौन है.

ओ’कीफ ने अजिंक्य रहाणे और ऋद्धिमान साहा को दोनों पारियों में आउट किया. इसके अलावा पहली पारी में राहुल, जडेजा, जयंत और उमेश यादव के विकेट मिले. दूसरी पारी में विजय पुजारा, कोहली और अश्विन को भी आउट किया. यानी दूसरी पारी में उनके नाम टॉप ऑर्डर के विकेट ज्यादा थे.

भले ही वीरेंद्र सहवाग ने कमेंटरी में अपना मत रखते हुए कहा कि अगर ऐसी विकेट नहीं मिली, तो शायद ओ’कीफ ऐसा प्रदर्शन फिर न कर पाएं. लेकिन अब अगर वो ऐसा प्रदर्शन न भी कर पाए, तो भी उनका नाम हमेशा याद रहेगा. जिस ऑस्ट्रेलियन टीम को 4-0 या 3-0 से हराने की भविष्यवाणी की जा रही थी, उसने एक टेस्ट के बाद बढ़त ले ली है और बढ़त के साथ अब दोनों टीमें दूसरे टेस्ट के लिए बैंगलोर जाएंगी.

ओ’कीफ को चुना गया था नैथन लायन का साथ देने के लिए. उन्हें लाया गया था कि कि वो जोश हेजलवुड और मिचेल स्टार्क जैसे गेंदबाजों का साथ देने वो आए थे. उम्मीद थी कि वो एक छोर से कसी हुई गेंदबाजी करेंगे, जिससे बाकी गेंदबाजों को मदद मिलेगी. लेकिन ऐसा किसी ने नहीं सोचा होगा कि वो तो अकेले ही भारत के 60 फीसदी विकेट निकाल देंगे.

ओ’कीफ और लायन ने पहले टेस्ट में वो किया है, जो 2012 में मोंटी पनेसर और ग्रैम स्वॉन ने किया था. तब भी इंग्लैंड के रिकॉर्ड को देखते हुए स्पिनिंग ट्रैक बनवाई गई थी. लेकिन भारतीय से ज्यादा इंग्लैंड के स्पिनर्स ने उसका फायदा उठाया.

32 साल की उम्र में ओ’कीफ अपना पांचवां टेस्ट खेल रहे हैं. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उनका प्रदर्शन कमजोर नहीं रहा है. उन्होंने 23.81 की औसत से 225 विकेट लिए हैं. अपने पहले चार टेस्ट में भी उनके नाम 14 विकेट थे. 32 से कुछ ज्यादा की औसत से. इसे भी खराब नहीं माना जा सकता. लेकिन पांच टेस्ट मैचों के बाद उनके नाम 26 विकेट हैं और औसत 20.34 है, जिसे शानदार कहा जा सकता है.

ओ’कीफ ने करियर की शुरुआत 2014 में पाकिस्तान के खिलाफ की थी. 2016 में वह श्रीलंका में चोटिल हुए और घर भेज दिए गए. वहां शराब पीकर हंगामा करने की वजह से पुलिस की फटकार खानी पड़ी. उन पर दस हजार डॉलर का जुर्माना भी लगा.

इन सबके बाद ओ’कीफ ने ऐसी वापसी की है. ऐसी वापसी की है, जिसकी शायद ही किसी ने उम्मीद की होगी. भारतीय क्रिकेट प्रेमियों ने तो नहीं ही की होगी. ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट प्रेमियों ने भी नहीं सोचा होगा कि पहले टेस्ट में हीरो स्टीव ओ’कीफ होंगे. मैन ऑफ द मैच बनेंगे और 12 विकेट ले जाएंगे. लेकिन ओ’कीफ ने ऐसा किया है. अब ये नाम हर किसी को याद रहेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi