S M L

भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट : कोहली और विजय के बड़े शतक, भारत की स्थिति मजबूत

पहले दिन भारत ने बनाए चार विकेट पर 371 रन

Updated On: Dec 02, 2017 06:00 PM IST

FP Staff

0
भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट : कोहली और विजय के बड़े शतक, भारत की स्थिति मजबूत

किसी टेस्ट मैच में टीम को एक दिन के खेल में क्या चाहिए? अगर उसके दो बल्लेबाज दो बड़े शतक लगाने में सफल रहें और 300 रन के करीब की साझेदारी करें तो उसे क्या कहा जाएगा. यकीनन शानदार. भारत भी श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और अंतिम टेस्ट के पहले दिन यही करने में सफल रहा. कप्तान विराट कोहली के लगातार तीसरे और सलामी बल्लेबाज मुरली विजय के लगातार दूसरे शतक और दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 283 रन की साझेदारी की बदौलत टीम इंडिया शनिवार को चार विकेट पर 371 रन बनाकर अपना पलड़ा भारी रखने में सफल रही.

कोहली ने 186 गेंद में 16 चौकों की मदद से 156 रन की नाबाद पारी खेली. विजय ने भी 267 गेंदों में 13 चौकों की मदद से 155 रन बनाए. दिन का खेल खत्म होने पर रोहित शर्मा छह रन बनाकर कोहली का साथ निभा रहे थे. यह पहला मौका है जब भारत में दो बल्लेबाज टेस्ट क्रिकेट में एक दिन के खेल के दौरान 150 से अधिक रन बनाने में सफल रहे. यह कोहली का 20वां और विजय का 11वां टेस्ट शतक है.

पहले और अंतिम सत्र की आंशिक सफलता को छोड़ दिया जाए तो श्रीलंका के गेंदबाजों को दिन के खेल के दौरान अधिकांश समय जूझना पड़ा. भारत ने पहले सत्र में 27 ओवर में दो विकेट पर 116, दूसरे सत्र में 30 ओवर में बिना विकेट खोए 129 जबकि तीसरे और अंतिम सत्र में 33 ओवर में दो विकेट पर 126 रन जोड़े.

श्रीलंका को बाएं हाथ के चाइनामैन स्पिनर लक्षण संदाकन (110 रन पर दो विकेट) ने अंतिम ओवरों में वापसी दिलाई. लाहिरू गमागे (68 रन पर एक विकेट) और ऑफ स्पिनर दिलरूवान परेरा (97 रन पर एक विकेट) ने भी एक-एक विकेट हासिल किया. संदाकन की गेंदबाजी में हालांकि अनुशासन की कमी दिखी और उन्होंने छह नोबॉल फेंकी.

कोहली ने बल्लेबाजी के लिए अनुकूल दिख रही फिरोजशाह कोटला की पिच पर टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, लेकिन सुबह के सत्र में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (23) और चेतेश्वर पुजारा (23) के विकेट जल्दी गंवा दिए. इन दोनों को मलाल होगा कि वे जमने के बाद बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे.

कोहली और विजय की जोड़ी ने 78 रनों पर दो विकेट गिर जाने के बाद अपना खेल शुरू किया था. पहले सत्र में आराम से खेलने वाले कोहली ने दूसरे सत्र में घरेलू दर्शकों के सामने अपना जौहर दिखाया. पहले सत्र में कोहली ने सिर्फ 17 रन बनाए थे. दूसरे सत्र में उन्होंने अपने खाते में 77 रन जोड़े और शतक से छह रन दूर रहकर नाबाद लौटे. विजय ने संदाकन पर कवर डाइव से चौके के साथ 163 गेंद में लगातार दूसरा शतक और करियर का 11वां शतक पूरा किया. विजय ने नागपुर में दूसरे टेस्ट में 128 रन की पारी खेली थी.

दिन के दूसरे सत्र की शुरुआत में विजय थोड़े खामोश दिखे, लेकिन चायकाल होते-हाेते वह तेजी से रन बनाने लगे थे. इस सत्र में भारत ने 129 रन जोड़े थे और चायकाल में दो विकेट के नुकसान पर 245 रनों के साथ गई थी. तीसरे सत्र में इन दोनों के लिए बल्लेबाजी और आसान हो गई थी. श्रीलंकाई गेंदबाज मायूस नजर आए और उनके प्रदर्शन को देखकर ऐसा लग रहा था कि मानो वह सिर्फ गेंद डालने का काम पूरा कर रहे हों. न ही उनके पास भारत की इस जोड़ी के लिए कोई रणनीति थी न ही वह कोई कोशिश कर रहे थे.

दिन के तीसरे सत्र में कोहली ने अपने टेस्ट करियर का 20 शतक पूरा किया. 62वें ओवर की पहली गेंद पर उन्होंने एक रन लेते ही लगातार तीसरा टेस्ट शतक पूरा किया. इससे पहले कोहली ने कोलकाता टेस्ट में 104, नागपुर टेस्ट में 213 रनों की पारियां खेली थीं.

भारत के 300 रन 72वें ओवर में पूरे हुए. श्रीलंका ने 80 ओवर के बाद भी दूसरी नई गेंद नहीं ली जिसका उसे फायदा मिला. विजय ने संदाकन की गेंद पर एक रन के साथ 251 गेंद में 150 रन पूरे किए. कोहली ने भी डिसिल्वा की गेंद पर तीन रन के साथ 178 गेंद में यह उपलब्धि हासिल की. विजय हालांकि इसके बाद संदाकन की गेंद पर निरोशन डिकवेला के हाथों स्टंप हो गए. संदाकन ने अगले ओवर में अजिंक्य रहाणे (01) को भी स्टंप कराया जो मौजूदा सीरीज की लगातार चौथी पारी में दोहरे अंक में पहुंचने में विफल रहे.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi