Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

भारत-ऑस्ट्रेलिया, चौथा टेस्ट : धर्मशाला में ‘यादव राज’, ऑस्ट्रेलियाई पारी सिमटी

पहला टेस्ट खेल रहे कुलदीप यादव को चार विकेट, उमेश यादव को दो कामयाबी

FP Staff, IANS Updated On: Mar 25, 2017 08:27 PM IST

0
भारत-ऑस्ट्रेलिया, चौथा टेस्ट : धर्मशाला में ‘यादव राज’, ऑस्ट्रेलियाई पारी सिमटी

शुरुआत उमेश यादव ने की. उसे अंजाम पर कुलदीप यादव ने पहुंचाया. दोनों ने मिलकर ऑस्ट्रेलियाई पारी के छह विकेट निकाले. खासतौर पर  अपना पहला मैच खेल रहे चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव, जिन्होंने चार विकेट लिए. इस गेंदबाजी की बदौलत धर्मशाला टेस्ट के पहले दिन ऑस्ट्रेलियाई पारी महज 300 पर सिमट गई. दिन का खेल खत्म होने तक भारत ने अपनी पहली पारी में एक ओवर खेला जिसमें कोई रन नहीं बना. मुरली विजय और लोकेश राहुल की सलामी जोड़ी नाबाद लौटी.

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की तरफ से कप्तान स्टीवन स्मिथ ने सबसे ज्यादा 111 रन बनाए. उनके अलावा मैथ्यू वेड ने 57 और सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने 56 रनों का योगदान दिया. इन तीनों के अलावा कोई भी ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज टिक कर बल्लेबाजी नहीं कर सका.

पहले सत्र में एक विकेट खोकर 131 रन बनाने वाली ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे सत्र में पांच विकेट गंवाए और 77 रन जोड़े. इन पांच में से तीन विकेट कुलदीप ने लिए.

तीसरे सत्र में आस्ट्रेलिया को वेड से उम्मीद थी, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया. लेकिन दूसरे छोर से उन्हें साथ नहीं मिला. पैट कमिंस (21) ने जरूर वेड का थोड़ी देर साथ दिया लेकिन वह कुलदीप की गेंद पर उन्हीं को कैच देने की गलती कर बैठे.

स्टीव ओ’कीफ (8) को अतिरिक्त फील्डर श्रेयस अय्यर ने शानदार रन आउट किया. ऑस्ट्रेलियाई पारी को अंत में संभालने वाले वेड को रवींद्र जडेजा ने बोल्ड किया. भुवनेश्वर कुमार ने नैथन लायन को चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच करा ऑस्ट्रेलियाई पारी का अंत किया.

ऑस्ट्रेलिया ने पहले सत्र में शानदार प्रदर्शन किया. वॉर्नर भाग्यशाली रहे और पहली ही गेंद पर पवेलियन जाने से बच गए. इशांत शर्मा की जगह अंतिम एकादश में शामिल किए गए भुवनेश्वर द्वारा फेंके गए पहले ओवर की पहली गेंद पर तीसरी स्लिप में खड़े करुण नायर ने वॉर्नर का कैच छोड़ दिया.

हालांकि, भारत को पहले विकेट के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा. उमेश ने दूसरे ओवर की चौथी गेंद पर मैट रेनशॉ (1) को क्लीन बोल्ड कर भारत को पहली सफलता दिलाई. इस समय ऑस्ट्रेलिया का कुल स्कोर 10 था.

दूसरे सत्र में कुलदीप ने वॉर्नर को रहाणे के हाथों कैच करा अपना पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट हासिल किया. पहला विकेट लेने के बाद कुलदीप थोड़े भावुक हो गए और रहाणे से कुछ देर तक लिपटे रहे. रहाणे इस मैच में टीम की कप्तानी कर रहे हैं. नियमित कप्तान विराट कोहली कंधे में चोट के कारण यह मैच नहीं खेल रहे हैं.

वॉर्नर 144 के कुल स्कोर पर आउट हुए. उन्होंने दूसरे विकेट के लिए स्मिथ के साथ 134 रनों की साझेदारी की.

वॉर्नर के बाद आए शॉन मार्श (4) को उमेश ने ज्यादा देर मैदान पर टिकने नहीं दिया और विकेट के पीछे ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया. पीटर हैंड्सकॉम्ब (8) कुलदीप की फिरकी में फंस गए. कुलदीप ने उन्हें 168 के स्कोर पर बोल्ड किया.

ग्लैन मैक्सवेल (8) ने स्मिथ का साथ देने की कोशिश की. उन्होंने कुलदीप पर एक चौका भी जड़ा, लेकिन एक गेंद बाद वह कुलदीप की खूबसूरत गेंद पर बोल्ड होकर पवेलियन लौट गए.

एक छोर पर खड़े स्मिथ ने 51वें ओवर में अपना शतक पूरा किया। यह उनका इस श्रृंखला का तीसरा शतक है. शतक पूरा करने के कुछ देर बाद वह रविचंद्रन अश्विन की गेंद पर स्लिप पर रहाणे के हाथों लपके गए. उन्होंने अपनी पारी में 173 गेंदों की अपना पारी में 14 चौके लगाए. वह चायकाल से एक ओवर पहले 208 के कुल स्कोर पर आउट हुए.

स्मिथ को आउट कर अश्विन एक सत्र में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज भी बन गए. यह उनके इस सत्र का 79 विकेट था. उन्होंने इस मामले में दक्षिण अफ्रीका के डेल स्टेन को पछाड़ा. स्टेन ने 2007-08 में एक सत्र में कुल 78 विकेट लिए थे.

भारत की तरफ से कुलदीप के अलावा उमेश ने दो विकेट लिए. अश्विन, रवींद्र और भुवनेश्वर कुमार को एक-एक सफलता मिली. एक बल्लेबाज रन आउट हुआ.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi