S M L

जानिए क्यों बेंगलुरू में 14 जून को इतिहास रचने उतरेगी अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम

भारत के साथ अपना पहला टेस्ट मैच खेल कर अफगानिस्तान की टीम क्रिकेट के खेल को बना देगी 'ग्लोबल'

FP Staff Updated On: Jan 16, 2018 09:08 PM IST

0
जानिए क्यों बेंगलुरू में 14 जून को इतिहास रचने उतरेगी अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम

बीते कई दशकों से गृहयुद्ध में फंसे मुल्क अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम इतिहीस बनाने जा रही है. और इतिहास का वक्त और तारीख भी मुकर्रर हो गई है. भारत के शहर बेंगलुरू का चिन्नास्वामी स्टेडियम अफगानिस्तान के ऐतिहासिक पहले टेस्ट मैच की मेजबानी करेगा 14 से 18 जून तक खेला जाएगा.

बीसीसीआई और अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों की बैठक के बाद यह फैसला किया गया. टेस्ट क्रिकेट में अफगानिस्तान की एंट्री इसलिए ऐक ऐतिहासिक पल होगी क्योंकि अपने पहले टेस्ट के साथ ही अफगानिस्तान टेस्ट क्रिकेट खेलने वाला ऐसा पहला देश बन जाएगा जो कभी भी ब्रिटिश साम्राज्य का गुलाम नहीं रहा. क्रिकेट के का जन्म इंग्लैंड में हुआ था. और अब तक जितने भी देशों की टीमें टेस्ट क्रिकेट खेली है वो कभी ना कभी ब्रिटिश शासन के अधीन रहे हैं. यानी अफगानिस्तान की टेस्ट क्रिकेट में एंट्री के साथ ही क्रिकेट का खेल भी सही मायनों में ग्लेबल हो जाएगा.

बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने कहा, ‘ जून के महीने में बारिश के मौसम के कारण हमने सोचा ऐतिहासिक टेस्ट मैच के स्थल के रूप बेंगलुरू सबसे उपयुक्त होगा.’

पिछले महीने जब बीसीसीआई ने अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच की घोषणा की थी तभी से इसके वेन्यू के लिए बेंगलुरु के नाम की चर्चा थी.

अफगानिस्तान ने पिछले साल जून में आयरलैंड के साथ टेस्ट दर्जा हासिल किया था.

आईपीएल में पिछले साल राशिद खान और मोहम्मद नबी के खेलने के बाद इस बार अफगानिस्तान के 13 खिलाड़ियों ने बोली प्रक्रिया में हिस्सा लेने के लिये रजिस्ट्रेशन कराया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi