S M L

भारत-साउथ अफ्रीका पहला टेस्ट : भुवनेश्वर की कमाल की गेंदबाजी के बाद टीम इंडिया भी लड़खड़ाई

साउथ अफ्रीका की पारी 286 रन पर सिमटी, भारत ने भी खोए 28 रन पर तीन विकेट

FP Staff Updated On: Jan 05, 2018 10:29 PM IST

0
भारत-साउथ अफ्रीका पहला टेस्ट : भुवनेश्वर की कमाल की गेंदबाजी के बाद टीम इंडिया भी लड़खड़ाई

आखिर क्यों इसे भारतीय टीम की परीक्षा माना जा रहा था ये केपटाउन में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन शुक्रवार को समझ में आ गया होगा. हालांकि भारत ने शुरुआत जोरदार की थी. उसने भुवनेश्वर कुमार की घातक गेंदबाजी से साउथ अफ्रीका की पूरी टीम को पहले दिन ही 286 रनों पर पवेलियन भेज दिया. लेकिन भारत की शुरुआत भी हाहाकारी रही और तीन विकेट गंवाने से वह भी बैकफुट पर चला गया. भारत ने पहले दिन का अंत तीन विकेट के नुकसान पर 28 रनों के साथ किया.

भारत अभी भी दक्षिण अफ्रीका के पहली पारी के स्कोर 258 रन पीछे है. स्टंप तक चेतेश्वर पुजारा पांच रन बनाकर खेल रहे हैं, जबकि रोहित शर्मा ने अभी तक खाता नहीं खोला है. दक्षिण अफ्रीका के लिए वर्नन फिलेंडर, डेल स्टेन और मोर्ने मोर्केल ने एक-एक विकेट लिए हैं. इससे पहले, भारतीय गेंदबाजों ने दक्षिण अफ्रीका को बड़ा स्कोर बनाने से रोक दिया था. भारतीय गेंदबाजों ने लगातार विकेट लेकर मेजबान टीम के बल्लेबाजों को बड़ी पारियां नहीं खेलने दीं और उसे 73.1 ओवरों में पवेलियन में बैठा दिया.

मेजबान टीम के लिए एबी डिविलियर्स ने 65 और फाफ ड्यू प्लेसी ने 62 रन बनाए. इन दोनों बल्लेबाजों ने दक्षिण अफ्रीका के लिए चौथे विकेट के लिए 114 रनों की साझेदारी की. यह साझेदारी तब आई जब 12 रनों पर ही मेजबान टीम के तीन विकेट खो दिए थे. क्विंटन डी कॉक ने 43, केशव महाराज ने 35, कैगिसो रबाडा ने 26 और फिलेंडर ने 23 रनों की पारियां खेलीं, लेकिन कोई भी बल्लेबाज अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल पाया. भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार ने चार विकेट लिए. रविचंद्रन अश्विन ने दो विकेट लिए. मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पांड्या को एक-एक विकेट मिला.

चार विशेषज्ञ गेंदबाजों और एक ऑलराउंडर के साथ उतरी भारतीय टीम ने दोनों सलामी बल्लेबाजों मुरली विजय (01) और शिखर धवन (16) के अलावा कप्तान विराट कोहली (05) के कीमती विकेट गंवाए हैं. इन तीनों ने खराब शॉट खेलकर अपने विकेट इनाम में दिए. विजय के खिलाफ फिलेंडर (1/13) ने एलबीडब्ल्यू के लिए रेफरल लिया, लेकिन इसका उन्हें फायदा नहीं मिला. इस तेज गेंदबाज के अगले ओवर में हालांकि विजय ने खराब शॉट खेलकर विकेट गंवाया. उन्होंने ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद पर कवर ड्राइव करने के प्रयास में गली में कैच दिया.

एक साल बाद वापसी कर रहे डेल स्टेन (1/13) के अगले ओवर में धवन ने इससे भी ज्यादा गैरजिम्मेदाराना शॉट खेला. टीम ने अभी विकेट गंवाया था और ऐसे में उन्होंने बिना लाइन में आए आधे मन से पुल करने की कोशिश की. गेंद हवा में लहरा गई और स्टेन ने उसे आसानी से कैच में में बदल दिया. इस तरह से धवन का दक्षिण अफ्रीका में खराब प्रदर्शन बरकरार रहा. इस देश में उन्होंने अब तक पांच पारियों में केवल 92 रन बनाए हैं.

हाल में परिणय सूत्र में बंधने वाले कप्तान कोहली ने भी अपना विकेट इनाम में दिया. उन्होंने पहले बदलाव के रूप में आए मोर्ने मोर्कल (1/0) की उठती गेंद को छेड़ने की गलती की और विकेट के पीछे कैच दे बैठे. विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक का यह टेस्ट मैचों में 100वां कैच था.

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी की. एक समय लग रहा था कि वो शुरुआती झटकों से उबरने में सफल रहेगा, लेकिन भारत ने दूसरे सत्र में 123 रन के एवज में चार विकेट निकाल दिए जिनमें डिविलियर्स और ड्यू प्लेसी के अलावा खतरनाक अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे डिकॉक का विकेट भी शामिल था. दक्षिण अफ्रीका के पुछल्ले बल्लेबाजों ने हालांकि आसानी से घुटने नहीं टेके. आठवें नंबर के बल्लेबाज केशव महाराज ने अपनी गलती से रन आउट होने से पहले 35 रन बनाए, जबकि नौवें नंबर के बल्लेबाज कैगिसो रबाडा ने 26 रन का योगदान दिया. भारत ने उसके आखिरी तीन विकेट निकालने के लिए 59 रन दिए. विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने पांच कैच लिए, लेकिन ‘स्लिप कार्डन’ भारत के लिए अब भी चिंता बना हुआ है जिसमें उसने कुछ मौके गंवाए.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi