S M L

भारत-इंग्लैंड, मुंबई टेस्ट: अश्विन ने कराई भारत की वापसी

पहले दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड पांच विकेट पर 288

Updated On: Dec 09, 2016 08:26 AM IST

FP Staff

0
भारत-इंग्लैंड, मुंबई टेस्ट: अश्विन ने कराई भारत की वापसी

चार साल पहले केविन पीटरसन ने ऐसी पारी खेली थी, जिसने इंग्लैंड को वानखेडे स्टेडियम पर जीत दिलाई थी. वो 2012 का नवंबर था. 2016 के दिसंबर में एक और दक्षिण अफ्रीकी मूल के खिलाड़ी ने शतक जमाया है. इस उम्मीद के साथ कि उनकी पारी इंग्लैंड को सीरीज में वापसी का मौका देगी. रे जेनिंग्स के बेटे कीटन जेनिंग्स के लिए हसीब हमीद की चोट मौका लेकर आई और उन्होंने उसे भुनाने में कतई देर नहीं की. उनकी 112 रन की पारी ही है, जिसने भारत और इंग्लैंड के बीच चौथे टेस्ट के पहले दिन इंग्लैंड को ऐसी जगह पहुंचाया है, जहां से उसे मैच पर पकड़ बनाने की उम्मीद होगी. इंग्लैंड ने पहला दिन खत्म होने तक पांच विकेट पर 288 रन बनाए. बेन स्टोक्स 25 और जोस बटलर 18 रन बनाकर खेल रहे हैं.

 

दिलचस्प ये है कि आखिरी सेशन में जल्दी-जल्दी तीन विकेट लेकर भारत भी इस स्थिति में है, जहां से मैच को अपनी पकड़ में ले सकता है. भारत की वापसी कराने का श्रेय रविचंद्रन अश्विन को जाता है, जिनके नाम दिन के पांच में से चार विकेट आए. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन इसे इंग्लैंड का दिन बता रहे हैं. उनके मुताबिक साढ़े तीन सौ से ऊपर का स्कोर इस पिच पर अच्छा होगा.

इंग्लैंड के लिए टॉस जीतना अच्छा रहा. भारत में किसी भी पिच पर टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करना ही सबसे अच्छा विकल्प होता है. वही विकल्प इंग्लैंड ने चुना भी. कीटन जेनिंग्स को किस्मत का साथ मिला. उनका एक कैच छूटा और एक रिव्यू में वो बेहद करीबी मामले से बचे. लेकिन जैसे-जैसे वक्त बीता, 24 साल के इस नौजवान का भरोसा बढ़ता गया. कप्तान एलिस्टर कुक के साथ उन्होंने 99 रन जोड़े.

Mumbai: England batsman Keaton Jennings plays a shot on the first day of the fourth Test match against India in Mumbai on Thursday. PTI Photo by Shashank Parade(PTI12_8_2016_000037B)

कीटन जेनिंग्स.

इंग्लैंड के बल्लेबाज तय करके आए थे कि दबकर नहीं खेलना है. रन रेट लगातार चार के आसपास था. खासतौर पर अश्विन को ‘सेटल’ न होने देने की रणनीति थी, जो कामयाब होती दिखाई दे रही थी. एलिस्टर कुक अर्ध शतक के करीब थे, जब उन्होंने रवींद्र जडेजा की गेंद पर बाहर निकलकर बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की. इसी में वो चूके और विकेट के पीछे स्टंप हो गए.

जो रूट अच्छी शुरुआत के बाद ऑफ स्टंप के बाहर अश्विन की गेंद को स्लिप में विराट कोहली के हाथ मे खेल गए. रूट सीरीज में लगातार अच्छी शुरुआत के बाद आउट हुए हैं. ये सिलसिला वानखेडे स्टेडियम में जारी रहा. तीसरे विकेट के लिए मोईन अली और जेनिंग्स ने 96 रन जोड़े. ये साझेदारी कमजोर शॉट की वजह से टूटी, जब मोईन ने अश्विन को स्वीप करने की कोशिश की. जेनिंग्स भी इसी स्कोर पर आउट हो गए. बेयस्टो को भी आउट करके अश्विन ने आधी टीम को चलता किया. इसके बाद जरूर स्टोक्स और बटलर 39 रन जोड़ चुके हैं.

इंग्लैंड टीम यकीनन इस स्कोर से खुश होगी. हालांकि उनके लिए कम से कम एक विकेट और कम गंवाना बेहतर होता. भारतीय टीम तीसरे सेशन से खुश होगी, क्योंकि तब तक गेंद टर्न होने लगी थी. वानखेडे की पिच पर उछाल भी मिलती है. ऐसे में टर्न मिलने के बाद बल्लेबाज के लिए खेलना आसान नहीं. दूसरे दिन इंग्लैंड 375 से 400 तक जाना चाहेगी. भारत की उम्मीद होगी कि 350 के भीतर इंग्लैंड को रोक ले. कुल मिलाकर पहला दिन ऐसा रहा है, जब दोनों ही टीमें मैच पर पकड़ बनाने की उम्मीद लिए पहले दिन के बाद पैवेलियन गई होंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi