S M L

क्लूजनर ने कहा, अगर गेंदबाजी में रफ्तार शामिल कर लें तो उम्दा ऑलरांउडर बन सकते हैं पांड्या

साउथ अफ्रीका के पूर्व ऑलरांउडर बोले, हार्दिक साबित हो सकते हैं भारतीय क्रिकेट की धरोहर

Updated On: Jan 10, 2018 05:39 PM IST

FP Staff

0
क्लूजनर ने कहा, अगर गेंदबाजी में रफ्तार शामिल कर लें तो उम्दा ऑलरांउडर बन सकते हैं पांड्या

साउथ अफ्रीका के पूर्व ऑलरांउडर लांस क्लूजनर ने कहा कि हार्दिक पांड्या भारत के लिए बेहतरीन ऑलरांउडर साबित हो सकते हैं. पांड्या ने केपटाउन में पहले टेस्ट में 95 गेंद में 93 रन बनाए और साउथ अफ्रीका की दूसरी पारी में 27 रन देकर दो विकेट लिए.

क्लूजनर ने कहा, ‘भारत की पहली पारी में उसकी बल्लेबाजी बेहतरीन थी. उसने टीम को दबाव से निकालकर साउथ अफ्रीका पर दबाव बनाया. वह भारत के लिए धरोहर साबित होगा. अभी वह सीख रहा है और अगर अपनी गेंदबाजी में रफ्तार शामिल कर ले तो उम्दा ऑलरांउडर बन सकता है.’ पांड्या अपने संक्षिप्त करियर में ही टीम का अभिन्न हिस्सा बन गए हैं. सीमित ओवरों के क्रिकेट में उनका रिकॉर्ड बल्ले और गेंद दोनों से शानदार है.

क्लूजनर ने कहा, ‘ वह भविष्य में शानदार ऑलरांउडर साबित होगा. कई मौकों पर नाकामी भी मिलेगी, लेकिन उसे सकारात्मक सोच के साथ हौसलाअफजाई की जरूरत है. वह आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए खेले या भारतीय टीम के लिए, उसके पास पास अच्छे लोग है और यह उनकी जिम्मेदारी है कि उसकी प्रतिभा को तराशें.’

अभ्यास मैच खेलना हमेशा अच्छा होता है

भारत ने टेस्ट सीरीज से पहले एकमात्र अभ्यास मैच नहीं खेला और क्लूजनर इसके हिमायती नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘अभ्यास मैच खेलना हमेशा अच्छा होता है. यदि भारतीय टीम उपमहाद्वीप के दौरे पर होती तो अभ्यास मैच नहीं खेलने से कोई फर्क नहीं पड़ता. लेकिन साउथ अफ्रीका में खेलने से पहले अभ्यास मैच से अनुकूलन में मदद मिलती. यदि साउथ अफ्रीकी टीम भारत दौरे पर होती तो उपमहाद्वीप के हालात में ढलने के लिए कम से कम एक अभ्यास मैच जरूर खेलती.’

हार से कई सबक सीखने हैं भारत को

उन्होंने कहा कि पहले मैच में मिली हार से भारत को कई सबक सीखने हैं. उन्होंने कहा, ‘भारत पहले मैच की हार से काफी कुछ सीख सकता है. पांड्या यदि वह पारी नहीं खेलता तो परिणाम और बदतर होता. भारत के लिए यह सबक है और अब उसे अधिक मजबूती से तेज गेंदबाजों की चुनौती का सामना करना होगा. साउथ अफ्रीका में हमेशा आपको तेज आक्रमण का सामना करने के लिए तैयार रहना होगा. उन्होंने चार तेज गेंदबाजों को उतारा. भारत के लिए यह चुनौतीपूर्ण था खासकर तब जबकि वे अभी श्रीलंका से खेलकर आए हैं.’

कमाल की लैंथ थी भारतीय गेंदबाजों की

उन्होंने कहा, ‘ अपनी सरजमीं पर उस सीरीज में भारत को असली तेज आक्रमण झेलना नहीं पड़ा. इस टेस्ट में उन्होंने संघर्ष किया, लेकिन छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए हार गए. यह काफी निराशाजनक होगा.’ उन्होंने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा, ‘साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाजों की तुलना में उनके पास रफ्तार की कमी थी, लेकिन उनकी लैंथ कमाल की थी. अतीत में भारतीय तेज गेंदबाज यहां आकर उछाल से धोखा खा जाते थे, लेकिन इस बार उन्होंने फुललैंथ गेंद डाली और रणनीति पर बखूबी अमल किया.’

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA
Firstpost Hindi