S M L

'मैं यही सोचता रहता हूं कि अगर कार्तिक छक्का नहीं लगाते तो मेरा क्या होता'

निदाहास ट्रॉफी फाइनल के आखिरी ओवरों में दिनेश कार्तिक के जोड़ीदार रहे विजय शंकर ने तोड़ी चुप्पी

Updated On: Mar 21, 2018 10:59 AM IST

FP Staff

0
'मैं  यही सोचता रहता हूं कि अगर कार्तिक छक्का नहीं लगाते तो मेरा क्या होता'

निदाहास ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में आखिरी गेंद पर दिनेश कार्तिक के छकके की हर तरफ चर्चा हो रही है. आखिरी के दो ओवरों में दिनेश ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करके भारत को यह मुकाबला जिता दिया था. दिनेश कार्तिक के साथ उस मुकाबले में दूसरे छोर पर मौजूद भारतीय बल्लेबाज विजय शंकर ने अब इस मसले पर चुप्पी तोड़ी है.

दरअसल इस मुकाबले में भारत के लिए जरूरी रन रेट विजय शंकर की धीमी बल्लेबाजी के चलते ही बढ़ गई थी. टीम इंडिया में नई-नई जगह बनाने वाले विजय शंकर को दिनेश कार्तिक से पहले भेजा जाना ही कई लोगों के गले नहीं उतर रहा था.

उसके बाद इस बेहद तनाव भरे मुकाबले में विजय शंकर ने कुछ डॉट्स गेंदे खेलकर टीम इंडिया पर दबाव बढ़ा दिया था.

आखिरी ओवर में भी जीत के लिए जब 12 रन की दरकार थी तब भी विजय शंकर ने डॉट बॉल्स खेल दी और पांचवीं गोंद पर आउट हो गए. इंडियन एक्स्प्रैस के साथ बात करते हुए शंकर ने कहा है जब कार्तिक आखिरी बॉल खेल रहे थे तौ मैंने आंखे बंद कर ली थीं. कार्तिक के छक्के और भारत के मैच जीतने के 15 मिनट बाद तक मुझे होश नहीं आया. मैं यही सोचता रहा कि अगर कार्तिक आखिरी गेंद पर छक्का नहीं लगाते तो क्या होता.’

अगर कार्तिक वह छक्का नहीं लगाते तो इस मुकाबले का हारने का सारा जिम्मा मेरे ही कंधों पर होता. मैं कार्तिक का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने भारत को वह मैच जिता दिया. साथ ही खुद से नाखुश भी हूं कि मैंने इतना बड़ा मौका गंवा दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi