S M L

जानिए क्या कहा सौरव गांगुली ने ईडन टेस्ट में लक्ष्मण की 281 रन की पारी की तारीफ में

लक्ष्मण की 281 रन की पारी भले ही इतिहास का हिस्सा बन गई हो, लेकिन पूर्व भारतीय कप्तानगांगुली ने कहा कि इस पारी में असल में उनका करियर बचाया था

Updated On: Dec 13, 2018 04:02 PM IST

FP Staff

0
जानिए क्या कहा सौरव गांगुली ने ईडन टेस्ट में लक्ष्मण की 281 रन की पारी की तारीफ में

मैच फिक्सिंग प्रकरण से बेहाल भारतीय क्रिकेट 21वीं सदी की शुरुआत में मुश्किल दौर से गुजर रहा था जब सौरव गांगुली को टीम की कमान सौंपी गई. 2001 में ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत दौरे पर थी. मुंबई में हार के बाद भारतीय टीम टेस्ट सीरीज में 0-1 से पीछे थी और कोलकाता टेस्ट में उसे फॉलोऑन खेलने के लिए कहा गया था, लेकिन वीवीएस लक्ष्मण की 281 और राहुल द्रविड़ की 180 रन की पारी और दोनों के बीच पांचवें विकेट की 376 रन की साझेदारी से भारत 171 रन की यादगार जीत दर्ज करने में सफल रहा. इस हार के साथ स्टीव वॉ की टीम का रिकॉर्ड लगातार 16 जीत का अभियान भी थम गया.

दिग्गज बल्लेबाज लक्ष्मण की 281 रन की पारी भले ही इतिहास का हिस्सा बन गई हो, लेकिन पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि इस पारी में असल में उनका करियर बचाया था. हैदराबाद के लक्ष्मण ने जब अपनी आत्मकथा लिखने का फैसला किया तो किताब के शीर्षक ‘281 एंड बियांड’ के लिए उन्हें अधिक सोच विचार नहीं करना पड़ा. गांगुली ने हालांकि मजाकिया लहजे में कहा कि वह शीर्षक से निराश हैं.' इस कार्यक्रम में भारत के पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान भी मौजूद थे.

ये भी पढ़िए- लक्ष्मण का दावा, अड़ियल थे ग्रेग चैपल, उन्हें नहीं पता था अंतरराष्ट्रीय टीम कैसे चलाते हैं

किताब के कोलकाता चरण के विमोचन के दौरान गांगुली ने कहा, ‘मैंने एक महीना पहले उसे एमएमएस किया था. लेकिन उसे जवाब नहीं दिया. मैंने उसे कहा था कि यह उपयुक्त शीर्षक नहीं है. इसका शीर्षक होना चाहिए ‘281 एंड बियांड और दैट सेव्ड सौरव गांगुली करियर. मैंने इस शीर्षक का विरोध किया था क्योंकि अगर वह 281 रन नहीं बनाता तो हम टेस्ट हार जाते और मैं दोबारा कप्तान नहीं बनता.’

टेस्ट क्रिकेट में सफल करियर के बावजूद लक्ष्मण का सीमित ओवरों का करियर आगे नहीं बढ़ पाया और वह सिर्फ 86 वनडे मैच खेल पाए. लक्ष्मण को 2003 विश्व कप के लिए दक्षिण अफ्रीका जाने वाली टीम से बाहर कर दिया गया था. गांगुली ने हालांकि कहा कि शायद यह गलती थी. उन्होंने कहा, ‘लक्ष्मण ऐसा खिलाड़ी था जो सभी प्रारूपों में अच्छा कर सकता था. शायद यह गलती थी. एक कप्तान के रूप में आप फैसला करते हैं और ऐसी चीजें होती हैं तो शायद सही या गलत नहीं हों.’

ये भी पढ़िए- विनोद राय के फरमान को सौरव, सचिन और लक्ष्मण ने नकारा...

इसे अपने करियर का सबसे बुरा चरण करार देते हुए लक्ष्मण ने कहा कि जब वह अपने दोस्तों के बाद छुट्टी पर अमेरिका गए तो उन्होंने असल में खेल छोड़ने का मन बना लिया था. उन्होंने कहा, ‘लेकिन इसके बाद मैंने महसूस किया कि मैं विश्व कप खेलने के लिए क्रिकेटर नहीं बना हूं, बल्कि खेल के लिए बना हूं.। यह बचकाना था. मैंने स्वयं से कहा कि मैं कुछ भाग्यशाली लोगों में से हूं जिन्हें यह मौका मिला और मुझे इसे बेकार नहीं जाने दिया जाना चाहिए.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi