S M L

कप्तान साहब, जरा ओपनिंग जोड़ी पर तो ध्यान दो

लंबे समय से भारतीय टीम अच्छी ओपनिंग के लिए तरसी

Updated On: Jan 28, 2017 02:00 PM IST

Lakshya Sharma

0
कप्तान साहब, जरा ओपनिंग जोड़ी पर तो ध्यान दो

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 में हार झेलने के बाद टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी की समस्या हर मैच के साथ बढ़ती ही जा रही है. ओपनिंग जोड़ी के बारे में अबतक ज्यादा बात इसलिए नहीं हो रही थीं क्योंकि टीम इंडिया लगातार जीत हासिल कर रही थी. लेकिन हाल के समय मे टीम इंडिया की ओपनिंग जोड़ी सभी सीरीज में फिसड्डी साबित हुई है.

SYDNEY, AUSTRALIA - JANUARY 23: Shikhar Dhawan of India bats during game five of the Commonwealth Bank One Day Series match between Australia and India at Sydney Cricket Ground on January 23, 2016 in Sydney, Australia. (Photo by Matt King/Getty Images)

इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में भारतीय टीम ने कई खिलाड़ियों को आजमाया. रोहित शर्मा चोटिल चल रहे थे. पहले वनडे में शिखर धवन और केएल राहुल ओपनिंग के लिए आए. दोनों पहले विकेट के लिए महज 13 रन ही जोड़ सके और आउट हो गए.

ये सिलसिला यहीं नहीं थमा बल्कि दूसरे वनडे मैच में भी इन दोनों की जोड़ी ने महज 14 रन ही पहले विकेट के लिए जोड़े. अंतिम वनडे में धवन की जगह अजिंक्य रहाणे को आजमाया गया. रहाणे पहले ही न्यूजीलैंड सीरीज में अपने फेल होने का सबूत पेश कर चुके थे तो वह यहां भी फेल हो गए और राहुल के साथ पहले विकेट के लिए महज 13 रन ही जोड़ पाए.

rahane

पिछले दो महीनों की बात करें तो सीमित ओवर क्रिकेट में टीम इंडिया पांच ओपनिंग खिलाड़ियों को आजमा चुकी है. लेकिन ये पांचों ही छाप छोड़ने में विफल रहे हैं. जाहिर है कि टीम इंडिया को एक बड़े बदलाव की ओर ध्यान देना होगा ताकि एक बेहतर ओपनिंग संयोजन बनाया जा सके.

केएल राहुल होंगे टीम से बाहर

हर किसी के मन में सवाल है कि कोहली केएल राहुल के साथ लगातार दांव क्यों खेल रहे हैं. क्या सिर्फ इसलिए कि उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ 46 गेंदों में शतक जड़ दिया था या इसलिए कि उन्होंने कई पारियों में आउट ऑफ फॉर्म रहने के बाद एक मैच में 199 रन की पारी खेली थी?

rahul

कोहली को अब इस ओर भी सोचना चाहिए कि राहुल को अब अंतिम एकादश से बाहर बिठाने का समय आ गया है. क्योंकि राहुल ने अपनी अंतिम चार पारियों में 10, 11, 5 और आठ का स्कोर किया है. वहीं इंग्लैंड के खिलाफ उनकी 199 रनों की पारी को छोड़ दिया जाए तो उन्होंने 24, 10, 0, 38, 32 और 28 रनों का पारियां खेली हैं.

जाहिर है कि टीम इंडिया को विश्वस्तर पर अपनी धाक जमाने के लिए एक ऐसे बल्लेबाज की जरूरत है जो लगातार अच्छा प्रदर्शन कर सके और राहुल में निरंतरता की कमी साफ दिख रही है.

इस समय भारतीय टीम की बड़ी समस्या ये भी है कि ओपनिंग में भारतीय टीम के पास ऐसा कोई बल्लेबाज नहीं है जो भारतीय टीम को तेज तर्रार शुरुआत दे सके. शिखर धवन का खेलने का तरीका आक्रामक है लेकिन उनके हर मैच में चलने की गांरटी तो वह खुद नहीं दे सकते.

शिखर के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी साफ देखती है. रोहित शर्मा भारतीय टीम के सबसे अच्छे ओपनर है, हालांकि वह भी आक्रामक बल्लेबाज हैं लेकिन उन्हें भी पहले अपनी नजरें जमाने के लिए समय चाहिए होता है. अजिंक्य रहाणे का खेलना का तरीका बिल्कुल अलग है. वहीं केएल राहुल ये कोशिश कर जरूर रहे है लेकिन सफल नहीं हो पा रहे. यह सच भी है कि कोई भी खिलाड़ी अचानक अपने स्वभाव के विपरीत बल्लेबाजी नहीं कर सकता.

ऋषभ पंत को मिलेगा मौका

टीम इंडिया में एक बल्लेबाज ऐसा है जो राहुल की जगह अच्छे से भर सकता है. उस खिलाड़ी का नाम है ऋषभ पंत. ऋषभ भारतीय टीनम के लिए वहीं भूमिका निभा सकते हैं तो किसी समय में वीरेंद्र सहवाग निभाते थे. खासकर सीमित ओवर की क्रिकेट में तो ऋषभ अपनी टीम के लिए काफी अहम खिलाड़ी साबित हो सकते हैं.

19 साल के ऋषभ पंत ने पिछले एक साल में जितने रिकॉर्ड बनाए हैं वह बताता है कि वह कितने प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं. ऋषभ अंडर- 19 विश्व कप में भारतीय टीम की ओर से ओपनिंग बल्लेबाजी के लिए आया करते थे और वह इस पोजीशन की चुनौतियों को भली भांति जानते हैं. अंडर-19 विश्व कप में ऋषभ ने 18 गेंदों में अर्धशतक जड़ते हुए पूरे क्रिकेट जगत को चौंका दिया था.

DHAKA, BANGLADESH - FEBRUARY 09: Rishabh Pant of India bats during the ICC U19 World Cup Semi-Final match between India and Sri Lanka on February 9, 2016 in Dhaka, Bangladesh. (Photo by Pal Pillai/Getty Images for Nissan)

वह यहीं नहीं थमे और साल 2016 में रणजी क्रिकेट इतिहास का सबसे तेज 46 गेंदों में शतक जड़ते हुए अपनी आतिशी बल्लेबाजी का नमूना पेश कर दिया. ऋषभ ने इसी मैच में 308 रनों की पारी खेली थी जिसमें उन्होंने छक्कों और चौकों की बरसात कर दी थी.

ऋषभ ने अब तक कुल 10 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 16 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 1,080रन बनाए हैं. इस दौरान उनका रन बनाने का औसत 72 का रहा है वहीं स्ट्राइक रेट 102.95 का रहा है.

ऋषभ छक्के जड़ने के लिए खूब जाने जाते हैं. वह अपने प्रथण श्रेणी करियर में कुल 114 चौके और 53 छक्के जड़ चुके हैं. टी20 क्रिकेट में बड़े स्ट्रोक के मायने अलग होते हैं. इस लिहाज से रिषभ टीम इंडिया के लिए बहु- उपयोगी साबित हो सकते हैं. उम्मीद है कोहली भी ऋषभ के इन आंकड़ों को देखेंगे और उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका देंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi