S M L

धोनी और कोहली ने भेंट की आशीष नेहरा को खास ट्रॉफी

कोहली ने कहा, एक तेज गेंदबाज के लिए 19 साल तक खेलना एक महान उपलब्धि

Updated On: Nov 08, 2017 03:21 PM IST

Bhasha

0
धोनी और कोहली ने भेंट की आशीष नेहरा को खास ट्रॉफी

अपने घरेलू मैदान पर अपना अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे आशीष नेहरा को बुधवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 मैच से पहले पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और वर्तमान कप्तान विराट कोहली ने विशेष रूप से तैयार की गई ट्रॉफी देकर सम्मानित किया.

भारतीय टीम टॉस से पहले मैदान पर अपने चिर परिचित घेरे में एक साथ खड़ी हुई जहां पर नेहरा ने अपने सभी साथियों का आभार व्यक्त किया. इसके बाद धोनी और कोहली ने मिलकर उन्हें ट्रॉफी भेंट की जिसे नेहरा ने मुस्कराते हुए ग्रहण किया.

यही नहीं इस मैच के लिए अंबेडकर स्टेडियम वाले छोर को विशेष तौर पर ‘आशीष नेहरा छोर’ नाम दिया गया है. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच के दौरान भी दोनों छोर का नामकरण वीरेंद्र सहवाग की टेस्ट क्रिकेट में दो सर्वश्रेष्ठ पारियों के आधार पर ‘309 छोर’ और ‘319 छोर’ नाम दिया गया था.

नेहरा ने जब अपना पहला टेस्ट मैच खेला था तब कोहली केवल 11 साल के थे, बाद में नेहरा की कोहली को ट्रॉफी देती हुई एक फोटो सोशल मीडिया पर काफी चर्चित रही थी. आज कोहली उनके कप्तान हैं. नेहरा ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का आगाज मोहम्मद अजहरूद्दीन की कप्तानी में किया था. इसके बाद वह सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, महेंद्र सिंह धोनी, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, कोहली और यहां तक कि पाकिस्तान के इंजमाम उल हक की कप्तानी में भी अंतरराष्ट्रीय मैच खेले.

नेहरा पहले ही घोषित कर चुके थे कि वह फिरोजशाह कोटला में अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेलेंगे. यह भी संयोग है कि नेहरा टी-20 मैच से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह रहे हैं. नेहरा ने इस मैच के लिए विशेष तौर पर बॉक्स देने का आग्रह किया था जिसे स्वीकार कर लिया गया था ताकि वह अपने परिजनों के सामने अपना आखिरी मैच खेल सकें.

नेहरा सबसे समझदार क्रिकेटरों में से एक: कोहली

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा कि वह जिन क्रिकेटरों के साथ खेले हैं उसमें आशीष नेहरा सबसे समझदार क्रिकेटरों में से एक हैं. कोहली ने कहा, 'एक तेज गेंदबाज के लिए 19 साल तक खेलना एक महान उपलब्धि है. मैंने जिन खिलाड़ियों के साथ खेला है वह उनमें सबसे समझदार खिलाड़ियों में से एक हैं, वह हमेशा युवाओं की मदद के लिए तैयार रहते हैं. उन्हें पता है किस परिस्थिति में क्या करना है. उनका साथ छूटने से निराश हूं, लेकिन यह उनके घरेलू मैदान पर हो रहा.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi