S M L

CWG 2018 : व्यवस्था ने किया था वेटलिफ्टरों को निराश, फिर भी नहीं टूटने दी देश की मेडल की आस

मीराबाई चानू ने गोल्ड मेडल जीतने के बाद कहा, ‘मैंने अपने फिजियो के लिए अनुमति मांगी थी लेकिन उन्हें अनुमति नहीं दी गई, हम एक दूसरे की मदद कर रहे थे.’

Bhasha Updated On: Apr 05, 2018 06:02 PM IST

0
CWG 2018 : व्यवस्था ने किया था वेटलिफ्टरों को निराश, फिर भी नहीं टूटने दी देश की मेडल की आस

भारतीय वेटलिफ्टरों ने 21वें कॉमनवेल्थ खेलों के पहले दिन दो मेडल जीते, लेकिन व्यवस्था ने एक बार फिर उन्हें निराश ही किया. मीराबाई चानू (48 किग्रा) ने कॉमनवेल्थ खेलों में स्नैच, क्लीन एवं जर्क और ओवरऑल रिकॉर्ड के साथ गोल्ड जीता, जबकि पी गुरूराजा (56 किग्रा) ने पुरुष वर्ग में सिल्वर अपने नाम किया.

इन दोनों खिलाड़ियों के मेडल का रंग भले ही अलग- अलग हो, लेकिन दोनों में एक समानता यह है कि उनकी जिंदगी के सबसे अहम दिनों में से एक में उनके दर्द और चोटों का खयाल रखने के लिए कोई फिजियो साथ नहीं था.

रिकॉर्डतोड़ प्रदर्शन के बाद चानू ने कहा, ‘मेरे साथ यहां प्रतियोगिता के लिए कोई फिजियो नहीं था. उन्हें यहां आने की अनुमति नहीं मिली, प्रतियोगिता में आने से पहले मुझे पर्याप्त उपचार नहीं मिला. यहां कोई नहीं था, हमने अधिकारियों से इसके बारे में कहा, लेकिन कुछ नहीं हुआ.'

उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा, ‘मैंने अपने फिजियो के लिए अनुमति मांगी थी, लेकिन उन्हें अनुमति नहीं दी गई, हम एक दूसरे की मदद कर रहे थे.’

sanjita chanu - Copy

कर्नाटक के गुरूराजा ने कहा, ‘मुझे कई जगह चोट लगी है. मेरा फिजियो मेरे साथ नहीं है, इसलिए मैं घुटने और सायटिक नस का इलाज नहीं करा पाया.’

इस मामले में बार-बार संपर्क किए जाने के बाद भी भारतीय मिशन प्रमुख विक्रम सिसोदिया से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई, लेकिन भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष राजीव मेहता ने कहा कि आईओए ने उन अधिकारियों के नाम की स्वीकृति दी जिसे भारतीय वेटलिफ्टिंग फेडरेशन (आईडब्ल्यूएफ) ने मंजूरी दी थी.

उन्होंने कहा, ‘देर से अनुरोध आने के बाद भी हमने फिजियो को बी वर्ग की मान्यता दी है, जिससे वह एथलीटों से मिल सकते हैं, लेकिन प्रतिस्पर्धा के दौरान उनके साथ नहीं रह सकते. यह आईडब्ल्यूएफ की जिम्मेदारी थी कि वह जरूरी सहयोगी स्टाफ के बारे में बताए.’

इन खेलों से पहले भारतीय दल की संख्या एक बड़ा मसला था, जिसके बाद खेल मंत्रालय ने आदेश दिया कि अधिकारियों की संख्या खिलाड़ियों के संख्या की 33 फीसदी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. इस वजह से कई खिलाड़ियों ने उनके मनचाहे सहयोगी स्टाफ को आधिकारिक दल का हिस्सा नहीं बनाए जाने पर शिकायत भी की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi