S M L

ये 'महेंद्र सिंह धोनी' का स्टाइल है

अनहोनी को होनी कर देने वाले कप्तान ने लिया कप्तानी छोड़ने का फैसला

Updated On: Jan 05, 2017 09:45 AM IST

Lakshya Sharma

0
ये 'महेंद्र सिंह धोनी' का स्टाइल है

जब-जब क्रिकेट की दुनिया के सबसे सफल कप्तानों की बात होगी, भारत के एक कप्तान का नाम टॉप पांच में आएगा. उस कप्तान का नाम है महेन्द्र सिंह धोनी. धोनी भारत के ही नहीं दुनिया के सबसे सफल कप्तानों में शुमार है.

हम एक ऐसे देश में हैं जहां संन्यास लिया नहीं जबरन दिलाया जाता रहा है. सिर्फ भारत ही क्यों हमारे सामने तो दुनिया में कई ऐसे महान क्रिकेट खिलाड़ियों के उदाहरण हैं जब महान क्रिकेटरों को टीम से बाहर कर दिया गया हो या उन्हें संन्यास की सलाह दी गई हो. लेकिन धोनी ने अपने चरम पर रहते कप्तानी से हटने का फैसला किया और नई मिसाल पेश की.

उनका यह फैसला हैरानी भरा रहा जिससे पूरा क्रिकेट जगत सकते में हैं. धोनी से इस्तीफे की उम्मीद किसी को नहीं थी. मैदान पर 'कैप्टन कूल' के नाम से मशहूर धोनी ने कप्तानी छोड़ने का फैसला भी उतने ही शांत अंदाज में लिया, जिस तरह वह मैदान पर कप्तानी करते रहे हैं.

आपको यह भी याद होगा उन्होंने किस तरह से टेस्ट क्रिकेट अचानक से संन्यास लिया. जब उन्हें लगा कि वह टेस्ट टीम में फिट नहीं बैठते तो उन्होंने टीम पर बोझ बनने की जगह टेस्ट क्रिकेट को ही अलविदा कह दिया.

ms

उस वक्त के चयनकर्ता सबा करीम ने भी माना कि उस समय भी धोनी पर कोई दबाव नहीं था. न तो उनकी कप्तानी पर कोई संकट था और न नहीं ही टीम में उनकी जगह पर. अब आप ही सोचिए, धोनी ने किता जिगर दिखाते हुए फैसला लिया था. और सच तो ये भी है कि 2017 चैंपियंस ट्रॉफी तक ना तो उनकी टीम में जगह खतरे में थी और ना ही कप्तानी.

कप्तानी से हटने का कारण तो अभी साफ नहीं है लेकिन माना ये जा रहा है कि धोनी भी तीनों फॉर्मेट में एक ही कप्तान के पक्षधर है. वह भी चाहते है कि सभी फॉर्मेट में एक ही कप्तान होना चाहिए.

क्रिकेट के सार्वकालिक महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के कहने पर चयनकर्ताओं ने धोनी को टीम की कमान सौंपी थी. अपनी पहली परीक्षा में उन्होंने भारत का नाम इतिहास में दर्ज करा दिया.

दक्षिण अफ्रीका में हुए पहले टी-20 विश्व कप में धोनी पहली बार भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहे थे. धोनी ने जीत के सिलसिले को इस तरह शुरू किया कि टीम फाइनल में चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को हराकर विजेता बनकर लौटी.

ms dhoni

2011 में भारतीय सरजमीं पर खेले गए 50 ओवरों के विश्व कप के फाइनल में धोनी ने छक्का लगाकर 28 साल बाद देश को विश्व कप खिताब दिलाया.

अनिल कुंबले ने टेस्ट में टीम की कप्तानी छोड़ी तो धोनी यहां भी जिम्मा लेने को आगे खड़े थे. नवंबर, 2008 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में धोनी को टीम की कमान सौंपी गई. टेस्ट में भी धोनी ने टीम को पहली बार नंबर-1 बनाया.

धोनी भारत के इकलौते ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने आईसीसी के सभी आयोजनों में टीम को जीत दिलाई है. धोनी की कप्तानी में ही भारत ने 2013 में हुई चैम्पियंस ट्रॉफी पर कब्जा जमाया था.

वनडे में धोनी ने कुल 199 मैचों में टीम का नेतृत्व किया. दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माने जाने वाले धोनी ने टीम को कप्तान रहते कुल 110 मैचों में जीत दिलाई जबकि 74 मुकाबलों में उन्हें हार मिली. चार मुकाबले टाई और 11 मैचों का कोई परिणाम नहीं निकला.

dhoniiiiiiii

कप्तान रहते हुए एक बल्लेबाज के तौर पर भी धोनी कामयाब रहे. उन्होंने कप्तान रहते एकदिवसीय में 54 का औसत और 86 के स्ट्राइक रेट से 6,683 रन बनाए.

वह विश्व क्रिकेट में सबसे ज्यादा वनडे मैचों में कप्तानी करने के मामले में तीसरे नंबर पर आते हैं. उनसे ज्यादा आस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग और न्यूजीलैंड के स्टीफन फ्लेमिंग ने एकदिवसीय मैचों में कप्तानी की है.

धोनी को क्रिकेट इतिहास में करिश्माई कप्तान भी कहा जाता है. क्रिकेट के मैदान पर उन्होंने कई बार ऐसे जोखिम उठाए जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी.

उन्होंने 72 टी-20 मैचों में टीम की कमान संभाली और 41 जीत टीम को दिलाई और 28 हारों का सामना किया। एक मैच टाई और दो मैचों का परिणाम नहीं निकला। वह टी-20 में सबसे ज्यादा मैचों में कप्तानी करने वाले खिलाड़ी हैं.

टी-20 में कप्तान रहते उन्होंने 122.60 के स्ट्राइक रेट से 1112 रन बनाए। टी-20 में वह बिना अर्धशतक लगाने के बाद सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी हैं। टी-20 में उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 48 रन है.

धोनी की कप्तानी में ही भारत ने अब तक खेले गए छह टी-20 विश्व कप में हिस्सा लिया और धोनी की कप्तानी में भारत दो बार विश्व कप के फाइनल तक पहुंचा. एक बार टीम विजेता बनी तो 2014 में उपविजेता. 2014 के फाइनल में उसे श्रीलंका ने मात दी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi