विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

बीसीसीआई पर भड़के श्रीसंत, कहा - जब अदालत ने निर्दोष साबित कर दिया तो मुझे खेलने से क्यों रोक रहे हो

केरल हाइकोर्ट ने दिया है श्रीसंत पर से पाबंदी हटाने का निर्देश, बोर्ड ने किया है इसके खिलाफ अपील करने का फैसला

FP Staff Updated On: Aug 11, 2017 08:03 PM IST

0
बीसीसीआई पर भड़के श्रीसंत, कहा - जब अदालत ने निर्दोष साबित कर दिया तो मुझे खेलने से क्यों रोक रहे हो

बीसीसीआई ने टेस्ट गेंदबाज एस श्रीसंत के मसले पर केरल उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील करने का फैसला किया है.  और बोर्ड के इस कदम पर श्रीसंत भड़क गए हैं.

श्रीसंत ने ट्वीट करते हुए लिखा है, बीसीसीआई आप इससे बुरा किसी के साथ नहीं कर सकता. वो भी उसके खिलाफ जिसे अदालत ने निर्दोष साबित कर दिया हो. आप बार-बार ऐसा क्यों कर रहे हो मेरी समझ में नहीं आ रहा.

 

 

 

अदालत द्वारा सोमवार को दिए फैसले पर श्रीसंत ने कहा था कि उनको उम्मीद है कि उनका करियर वापस पटरी पर लौटेगा और वह एक बार फिर देश का प्रतिनिधित्व कर पाएंगे.

 

श्रीसंत ने एएनएम समाचार चैनल से कहा, मैं इंडोर स्टेडियम में कड़ी मेहनत कर रहा हूं. मैं सौभाग्यशाली हूं कि मुझे केरल टीम के कुछ खिलाड़ियों के साथ अभ्यास करने मौका मिल रहा है.’ बीसीसीआई के अधिकारी ने कहा कि वह अदालत के फैसले से खुश नहीं हैं और उसके आदेश के खिलाफ अपील करेंगे.

इससे पहले, केरल उच्च न्यायालय ने श्रीसंत के ऊपर क्रिकेट खेलने पर लगे अजीवन प्रतिबंध को हटा दिया था. श्रीसंत पर आईपीएल-2013 में स्पॉट फिक्सिंग मामले में संलिप्त के कारण बीसीसीआई ने अजीवन प्रतिबंध लगाया था.

अदालत ने अपने फैसले में कहा था, ‘बीसीसीआई द्वारा बनाए गए भ्रष्टाचार रोधी अधिनियम के तहत श्रीसंत के खिलाफ अनुशासन समिति को किसी भी तरह के सबूत नहीं मिले हैं. वह परिस्थितिजन्य साक्ष्य वह निर्भर है. समिति को सबूतों का विश्लेषण करने में सावधानी बरतनी चाहिए.’

इससे पहले, निचली अदालत ने श्रीसंत पर से आपराधिक मुकदमा हटा दिया था, लेकिन वह फिर भी सजा भुगत रहे थो जो बीसीसीआई ने उन्हें अपनी जांच रिपोर्ट के आधार पर दी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi