S M L

भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट : चंडीमल और मैथ्यूज के शतक भी नहीं कर सके भारत की पकड़ कमजोर

श्रीलंका ने बनाए नौ विकेट पर 356 रन, भारत से अब भी 180 रन है पीछे

Updated On: Dec 04, 2017 05:42 PM IST

FP Staff

0
भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट : चंडीमल और मैथ्यूज के शतक भी नहीं कर सके भारत की पकड़ कमजोर

आखिर क्यों टेस्ट को असली क्रिकेट कहा जाता है, इसका सबसे सटीक उदाहरण भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और अंतिम टेस्ट के तीसरे दिन का खेल है. फिरोजशाह कोटला मैदान पर सोमवार को दो सेशन श्रीलंका के नाम रहे, तो भारत ने भी तीसरे और अंतिम सेशन में पांच विकेट झटक कर मैच में वापसी करते हुए अपना दबदबा बनाए रखा.

पहले कप्तान दिनेश चंडीमल और एंजेलो मैथ्यूज ने ना सिर्फ शतक लगाए बल्कि दोनों के बीच बड़ी शतकीय साझेदारी भी हुई. उस समय तक ऐसा लग रहा था कि श्रीलंका आहिस्ता-आहिस्ता मैच से भारत की गिरफ्त कमजोर कर देगा. लेकिन फिर अंतिम सत्र में भारतीय गेंदबाज चमके और उन्होंने पहली पारी में श्रीलंका का स्कोर नौ विकेट पर 356 रन कर एक बार फिर मेजबान टीम को ड्राइविंग सीट पर बैठा दिया. भारत ने पहली पारी सात विकेट पर 536 रन बनाकर घोषित की थी, जिससे श्रीलंका की टीम अब भी 180 रन पीछे है जबकि उसका एक विकेट शेष है.

चौथे विकेट के लिए 181 रन की साझेदारी

चंडीमल ने 341 गेंद की अपनी पारी में 18 चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 147 रन बनाए. उन्होंने इसके अलावा मौजूदा सीरीज में शतक जड़ने वाले पहले श्रीलंकाई बल्लेबाज मैथ्यूज के साथ चौथे विकेट के लिए 181 रन की साझेदारी भी की. मैथ्यूज ने छह, 93, 98 और 104 रन पर मिले चार जीवनदान का फायदा उठाते हुए छह घंटे से अधिक की अपनी पारी में 268 गेंद का सामना करते हुए 14 चौके और दो छक्के जड़े. ये दोनों उस समय बल्लेबाजी के लिए साथ आए थे जब टीम 75 रन पर तीन विकेट गंवाने के बाद संकट में थी. इन दोनों ने भारतीय गेंदबाजों को 79.2 ओवर तक सफलता से महरूम रखा. जब तीसरे दिन का खेल खत्म किया गया तब लक्षण संदाकन (00) चंडीमल का साथ निभा रहे थे.

भारत की ओर से ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 90 रन देकर तीन विकेट चटकाए. उनका इशांत शर्मा (2-93), मोहम्मद शमी (2-74) और रवींद्र जडेजा (2-85) ने बखूबी साथ दिया.

अंतिम सत्र में पांच विकेट गंवाए

श्रीलंका की टीम सुबह तीन विकेट पर 131 रन से आगे खेलने उतरी. मैथ्यूज और चंडीमल ने काफी सतर्कता के साथ बल्लेबाजी की और पहले सत्र में 26.3 ओवर के खेल के दौरान 61 रन जोड़े और भारतीय गेंदबाजों को कोई सफलता हासिल नहीं करने दी. दूसरे सत्र में श्रीलंका ने 31 ओवर में 78 रन जोड़कर मैथ्यूज का विकेट गंवाया. मेहमान टीम हालांकि अंतिम सत्र में 28 ओवर में 86 रन जोड़कर पांच विकेट गंवा बैठी.

सुबह भी अच्छे नहीं थे हालात 

रविवार को स्मॉग के सुर्खियां बनने के बाद कोटला पर हालात सुबह भी अच्छे नहीं थे. श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर भी इसका असर दिखा जब दिन के खेल के शुरूआती आधे घंटे के बाद ही चंडीमल ने सांस में तकलीफ की शिकायत की जिसके कारण लगभग तीन मिनट खेल रुका रहा.

दो साल बाद लगाया मैथ्यूज ने शतक

मैथ्यूज ने इशांत पर दो रन के साथ 231 गेंद में अपना आठवां टेस्ट शतक पूरा किया. मैथ्यूज ने अपना पिछला शतक दो साल से भी अधिक समय पहले अगस्त 2015 में गॉल में भारत के खिलाफ ही मारा था. दाएं हाथ का यह बल्लेबाज इस बीच 36 पारियों में शतक नहीं जड़ पाया. अश्विन ने हालांकि चाय के ब्रेक से 10 मिनट पहले उनकी पारी पर विराम लगा दिया, जब इस ऑफ स्पिनर की कोण लेती गेंद मैथ्यूज के बल्ले का किनारा लेकर साहा के दस्तानों में समा गई.

चंडीमल ने ठोका 10वां शतक 

चंडीमल ने चाय के बाद अश्विन की गेंद पर एक रन के साथ 265 गेंद में 10वां शतक पूरा किया. चंडीमल ने 80वीं पारी में 10 शतक पूरे किए जो श्रीलंकाई रिकॉर्ड है. उनसे पहले तिलन समरवीरा ने 84 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की थी. पहले दिन मुरली विजय का शॉट हेलमेट में लगने के बाद मैदान से बाहर रहे सदीरा समरविक्रम शुरू से ही लय में नजर आए. उन्होंने जडेजा पर लगातार दो चौके जड़ने के अलावा अश्विन पर भी दो चौके मारे. चंडीमल ने जडेजा पर चौके के साथ 111वें ओवर में टीम का स्कोर 300 रन के पार पहुंचाया.

जब गिरे लगातार विकेट

समरविक्रम हालांकि इसके बाद इशांत से ऑफ साइड से बाहर की गेंद से छेड़छाड़ की कोशिश में साहा को कैच दे बैठे जिन्होंने अपनी दायीं ओर गोता लगाते हुए एक हाथ से शानदार कैच लपका. समरविक्रम ने 61 गेंद में सात चौकों से 33 रन बनाए और कप्तान के साथ 61 रन जोड़े. पदार्पण कर रहे रोशन सिल्वा सिर्फ चार गेंद खेलकर खाता खोले बिना ही अश्विन की गेंद पर शॉर्ट लेग पर शिखर धवन को कैच दे बैठे.

अश्विन ने इसके बाद निरोशन डिकवेला (00) को बोल्ड करके श्रीलंका स्कोर सात विकेट पर 322 रन किया. डिकवेला अश्विन की सीधी गेंद पर चूककर अपना ऑफ स्टंप गंवा बैठे. शमी ने गेंदबाजी में वापसी करते हुए सुरंगा लकमल (05) को साहा के हाथों कैच कराके भारत को आठवीं सफलता दिलाई. शमी की गेंद इसके बाद चंडीमल के बल्ले का किनारा लेकर गली और स्लिप के बीच से चार रन के लिए जिससे श्रीलंका ने फॉलोऑन बचाया. जडेजा ने लाहिरू गमागे (01) को एलबीडब्ल्यू करके श्रीलंका को नौवां झटका दिया.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi