S M L

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ मुकदमे में आईसीसी चेयरमैन को ही गवाह बनाएगी बीसीसीआई!

पीसीबी ने बीसीसीआई के खिलाफ बाइलेटरल सीरीज ना खेलने पर सात करोड़ डॉलर के हर्जाने का ठोका है दावा, अक्टूबर में आईसीसी में होगी सुनवाई

FP Staff Updated On: Apr 25, 2018 12:51 PM IST

0
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ मुकदमे में आईसीसी चेयरमैन को ही गवाह बनाएगी बीसीसीआई!

बीसीसीआई और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी पीसीबी के बीच चल रहे कानूनी टकराव में बीसीसीआई,आईसीसी के मौजूदा चेयरमेन और अपने पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर को ही बतौर गवाह पेश करेगी. द टेलीग्राफ में छपी खबर के मुताबिक पीसीबी ने भारतीय बोर्ड के खिलाफ सात करोड़ डॉलर के हर्जाने के लिए जो मुकदमा आईसीसी की डिस्प्यूट रिजोल्यूशन कमेटी यानी डीआरसी में दायर किया है उसमें अपने पक्ष को साबित करने के लिए बोर्ड ने शशांक मनोहर की भी गवाही करावाएगा.

पीसीबी की दावा है कि भारतीय बोर्ड ने उसके साथ हुए बाइलेटरल सीरीज के समझौते का पालन नहीं किया जिसके चलते उसे काफी आर्थिक नुकसान हुआ. वहीं दूसरी ओर बीसीसीआई का कहना है कि उसने कभी पीसीबी के साथ कोई समझौता नहीं किया था और पाकिस्तानी बोर्ड जिस दस्तावेज की बात कर रहा है वह लेटर ऑफ इंटेंट था. समझौता पत्र नहीं.

DUBAI, UNITED ARAB EMIRATES - APRIL 24: Shashank Manohar, ICC Chairman attends the ICC board meeting at the ICC headquarters on April 24, 2016 in Dubai, United Arab Emirates. (Photo by Francois Nel/Getty Images)

अक्टूबर में होने वाली इस सुनवाई के लिए बोर्ड ने अपने गवाहों की लिस्ट तैयार कर ली है जिसमें शशांक मनोहर के अलावा बोर्ड के दो पूर्व अध्यक्ष एल श्रीनिवासन और अनुराग ठाकुर भी शामिल हैं.

आईसीसी की मीटिंग में हिस्सा लेने कोलकाता पहुंचे पीसीबी के मुखिया मजम सेठी का कहना है कि अगर  बीसीसीआई को टीम इंडिया की पाकिस्तान में या फिर पाकिस्तान की टीम की भारत में सुरक्षा की चिंता है तो फिर किसी तीसरे देश में वह सीरीज क्यों नहीं करा लेते हैं. उनका कहना है कि आखिकार बीसीसीआई को जब सरकार की मंजूरी की ही दरकार थी तो फिर उसने हमारे साथ 2015 से 2023 तक आठ सालों में पांच बाइलेटरल सीरीज खेलने का करार क्यों किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi