S M L

बॉल टेंपरिंग: अब कभी कप्तान नहीं बन सकेंगे वॉर्नर, स्मिथ पर भी लटकी रहेगी तलवार

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के फैसले से वॉर्नर के लिए कप्तानी के दरवाजे हमेशा के लिए हुए बंद

Updated On: Mar 28, 2018 06:45 PM IST

FP Staff

0
बॉल टेंपरिंग: अब कभी कप्तान नहीं बन सकेंगे वॉर्नर, स्मिथ पर भी लटकी रहेगी तलवार

साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट में गेंद से छेड़छाड़ करना ऑस्ट्रेलियाई टीम के तीनों खिलाड़ियो में सबसे अधिक वॉर्नर को महंगा पड़ा है. टीम के उपकप्तान रहे डेविड वॉर्नर को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने ना सिर्फ एक साल के लिए बैन किया है बल्कि इस बैन को पूरा करने के बाद भविष्य में  भी उनके लिए टीम की कप्तानी के सभी दरवाजे बंद कर दिए गए हैं.

बॉल टेंपरिंग के ससले पर अपना फैसला सुनाते हुए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने अपना जांच में पाया है कि डेविड वॉर्नर ने अपना जूनियर खिलाड़ी को जानबूझकर ऐसी करतूत करने के लिए ना सिर्फ उकसाया बल्कि उसे बाकायदा इस बॉल टेंपरिंग की ट्रेनिंग भी दी. वॉर्नर के इस कृत्य के मद्देनजर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने यह साफ कर दिया है कि इंटरनेशनल और घरेलू क्रिकेट से एक साल के लिए प्रतिबंधित होने बाद वॉर्नर टीम में वापसी तो कर सकते हैं लेकिन उन्हें लीडरशिप की भूमिका के लिए कभी भी उपयुक्त नहीं समझा जाएगा. यानी कप्तानी ही नही बल्कि उपकप्तानी के लिए भी वॉर्नर अब आजीवन नाकाबिल हो गए हैं.

वॉर्नर के साथ उनके कप्तान स्टीव स्मिथ पर भी एक साल का बैन लगाया गया है. बैन की अवधि पूरी करने के एक साल बाद तक स्मिथ भी कप्तान नहीं बन सकेंगें. यही नहीं. इस 24 महीने की अवधि के पूरा होने के बाद भी कप्तानी के लिए स्मिथ के नाम पर तभी विचार किया जाएगा जब फैंस और ऑस्ट्रेलिया की जनता इन्हें माफ कर दे.

वहीं 9 महीने के लिए बैन किए गए बेनक्रॉफ्ट पर भी भविष्य का कप्तान बनने के लिए स्मिथ वाली सजा ही लागू होगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi