S M L

Australia Vs India : लय में महसूस कर रहे रहाणे ने कहा, बॉक्सिंग डे टेस्ट में लगा सकता हूं शतक या दोहरा शतक

रहाणे ने कहा, एडीलेड से पर्थ तक, मेरी पलटवार करने की मानसिकता थी और मैं जिस लय से बल्लेबाजी कर रहा था, शायद शतक या दोहरा शतक भी बन सकता है

Updated On: Dec 24, 2018 05:06 PM IST

Bhasha

0
Australia Vs India : लय में महसूस कर रहे रहाणे ने कहा, बॉक्सिंग डे टेस्ट में लगा सकता हूं शतक या दोहरा शतक

भारत के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने सोमवार को भरोसा जताया कि अपनी लय और पलटवार करने की मानसिकता के साथ वह बुधवार से मेलबर्न में शुरू हो रहे बॉक्सिंग डे टेस्ट में शतक ही नहीं बल्कि दोहरा शतक भी लगा सकते हैं. रहाणे ने अब तक दो टेस्ट में दो अर्धशतक की मदद से 164 रन बनाए हैं, लेकिन पिछले साल कोलंबो में श्रीलंका के खिलाफ शतक जड़ने के बाद से तीन अंक में पहुंचने में नाकाम रहे हैं.

तीस साल के रहाणे ने संवाददाताओं से कहा, ‘मुझे यकीन है कि इस मैच में ऐसा होगा. मैं जिस तरीके से बल्लेबाजी कर रहा हूं, एडीलेड से पर्थ तक, मेरी पलटवार करने की मानसिकता थी और मैं जिस लय से बल्लेबाजी कर रहा था, शायद शतक या दोहरा शतक भी बन सकता है. मुझे लगता है कि मेरे लिए अधिक महत्वपूर्ण यह है कि इस बारे में नहीं सोचूं. मैं उस तरह बल्लेबाजी जारी रखनी होगी जैसे मैं अभी कर रहा हूं. मैं स्थिति को थोड़ा बेहतर समझ सकता हूं और अगर मैं इस तरह बल्लेबाजी कर पाया तो यह टीम के लिए बेहतर होगा. निजी उपलब्धियां बाद में भी हासिल की जा सकती हैं.’

ये भी पढ़ें- कोहली के समर्थन में मिचेल स्टार्क, कहा बेहतरीन कप्तान हैं विराट

रहाणे ने कहा कि अगर विदेशों में लगातार जीत दर्ज करनी है तो बल्लेबाजी इकाई को गेंदबाजों का अधिक सहयोग करने की जरूरत है. भारत को दक्षिण अफ्रीका में 1-2 जबकि इंग्लैंड में इस साल 1-4 से शिकस्त का सामना करना पड़ा और इसका मुख्य कारण बल्लेबाजी क्रम के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी रहा. चार मैचों की मौजूदा सीरीज अभी 1-1 से बराबर चल रही है. भारतीय टीम पर्थ में दूसरी पारी में 140 रन पर ही आउट हो गई थी और उसे 146 रन से हार का सामना करना पड़ा था.

रहाणे ने कहा, ‘एक बल्लेबाजी इकाई के रूप में हमें गेंदबाजों का समर्थन करना होगा. दक्षिण अफ्रीका दौरे से भारतीय गेंदबाज लगातार विरोधी टीम को दो बार आउट कर रहे हैं. अगर हम बल्लेबाज अच्छा खेलें और अपनी गेंदबाजी इकाई का समर्थन करें तो नतीजे अलग होंगे.’  रहाणे ने कहा कि अतीत से सबक लेना महत्वपूर्ण है, लेकिन इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है कि अगले दो टेस्ट मैचों में प्रत्येक सत्र के हिसाब से आगे बढ़ा जाए.

ये भी पढ़ें- Ind vs Aus: जडेजा की 'चोट' से खुली पोल, टीम इंडिया में 'ऑल इज नॉट वेल'

उन्होंने कहा, ‘मैं लय में विश्वास रखता हूं विशेषकर क्रिकेट खेलते हुए. पर्थ टेस्ट में दबदबा बनाने के हमारे पास मौके थे और अगर हम ऐसा करते तो नतीजा अलग होता. टेस्ट क्रिकेट में आपको छोटे मौकों को भी भुनाना होता है. अब से आगे यह हमारे लिए दो मैचों की सीरीज है. दूसरे टेस्ट के बाद हमें अच्छा ब्रेक मिला जो जरूरी था. हम तरोताजा होकर शुरुआत करेंगे.’ रहाणे ने सीरीज में अब तक दो अर्धशतक जड़े हैं. उन्होंने एडीलेड में दूसरी पारी में 70 जबकि पर्थ में पहली पारी में 50 रन बनाए.

दूसरे टेस्ट में भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन के बीच लगातार तीखी बहस देखने को मिली. रहाणे ने कहा कि मौजूदा सीरीज में छींटाकशी मजेदार रही है. उन्होंने कहा, ‘इस तरह से होना महत्वपूर्ण है (छींटाकशी के साथ सीमा पार नहीं करना) क्योंकि इससे टेस्ट क्रिकेट में जान डालने में मदद मिलती है. मैदान पर जो हुआ वह काफी अच्छा और प्रतिस्पर्धी था और उम्मीद करता हूं कि सभी ने इसका लुत्फ उठाया होगा. हमारे लिए महत्वपूर्ण है कि हम एकाग्रता बनाए रखें. आप छींटाकशी कर सकते हो, लेकिन साथ ही आपको एकाग्र और प्रतिस्पर्धी रहना होगा.’

ये भी पढ़ें- Australia Vs India : मिचेल जॉनसन ने कहा, भारतीय तेज गेंदबाज की तारीफ करने वाला कोई इंटरव्यू नहीं दिया

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi