S M L

पहले इनामी राशि लेने से किया इनकार, अब यूपी के खेल विभाग पर सुधा सिंह ने लगाया आरोप

सुधा ने कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई खेलों के मेडल विजेताओं के लिए आयोजित सम्‍मान समारोह में पहले पुरस्‍कार राशि लेने से इनकार कर दिया था

Updated On: Oct 04, 2018 08:34 AM IST

Bhasha

0
पहले इनामी राशि लेने से किया इनकार, अब यूपी के खेल विभाग पर सुधा सिंह ने लगाया आरोप

जकार्ता एशियाई खेलों की सिल्वर मेडलिस्ट विजेता एथलीट सुधा सिंह ने बुधवार को आरोप लगाया कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के आश्‍वासन के बावजूद उत्तर प्रदेश का खेल विभाग उनकी नौकरी की राह में रोड़ा बना हुआ है.

सुधा ने मंगलवार को कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई खेलों के मेडल विजेताओं के लिए आयोजित सम्‍मान समारोह में पहले पुरस्‍कार राशि लेने से इनकार कर दिया था.

उन्‍होंने कहा 'खेल विभाग ने कसम खा रखी है कि वह मुझे अपने यहां नहीं आने देगा. मैंने लगातार तीन पदक जीते हैं. उसके बावजूद मेरे साथ ऐसा बर्ताव हो रहा है. मैं खेल विभाग में उपनिदेशक का पद चाहती हूं लेकिन नियमों का हवाला देकर कहा जा रहा है कि मुझे यह पद नहीं मिल सकता। मैं अब पूरी तरह निराश हो चुकी हैं.'

स्टीपलचेज की एथलीट सुधा ने मंगलवार को मेडल विजेताओं के सम्‍मान समारोह में यह कहते हुए इनामी राशि लेने से इनकार कर दिया था कि उन्‍हें रुपये नहीं बल्कि खेल उपनिदेशक का पद चाहिए हालांकि राज्‍यपाल राम नाईक के आग्रह पर बाद में उन्‍होंने पुरस्‍कार राशि स्‍वीकार कर ली थी.

Jakarta: Sports Minister Rajyavardhan Singh with Gold medalist javelin thrower Neeraj Chopra (C) and Silver medal winner Steeplechase athlete Sudha Singh (L) during the 18th Asian Games 2018 in Jakarta, Indonesia on Monday, Aug 27, 2018. (PTI Photo/Vijay Verma) (PTI8_27_2018_000213B)

Jakar

सुधा को अब अहसास हुआ कि उन्हें उप निदेशक पद की मांग नहीं करनी चाहिए थे लेकिन इसके साथ उन्होंने जोड़ा कि पूर्व में ऐसे कई उदाहरण हैं जब एथलीटों को खेल उपनिदेशक के पद दिए गए.

सुधा ने कहा, ‘उपनिदेशक पद मांगने के लिए मैं माफी चाहती हूं. मुझे क्षेत्रीय क्रीडाधिकारी ही बना दिया जाए, लेकिन विभाग के कुछ लोग ही नहीं चाहते कि मैं उनके महकमे में आ सकूं.’

सुधा ने कहा कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने पिछले दिनों हुई मुलाकात में उनसे पुलिस उपाधीक्षक का पद देने की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने खेल उपनिदेशक पद की मांग की जिस पर मुख्यमंत्री ने हामी भर दी थी. इसके बावजूद खेल विभाग नियमों का हवाला देकर इनकार कर रहा है.

उत्‍तर प्रदेश के रायबरेली जिले की रहने वाली सुधा के एशियाई खेलों में रजत पदक जीतने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उन्हें राजपत्रित अधिकारी की नौकरी देने की घोषणा की थी.

सुधा ने तब कहा था कि नौकरी के लिए उनकी फाइल वर्ष 2014 से ही शासन में घूम रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi