S M L

एशिया कप में जीत और रोहित की दावेदारी... क्या खतरे में है कोहली की कप्तानी!

क्या टीम इंडिया की कप्तानी के लिए दो बड़े खिलाड़ियों के बीच जंग का आगाज हो चुका है? क्या बीसीसीआई लेगी कप्तानी बांटने का फैसला!

Updated On: Sep 29, 2018 05:22 PM IST

Sumit Kumar Dubey Sumit Kumar Dubey

0
एशिया कप में जीत और रोहित की दावेदारी... क्या खतरे में है कोहली की कप्तानी!

टीम इंडिया की कप्तानी ऐसा मसला है जिसने बड़े-बड़े खिलाड़ियों की बीच टकराव के हालात पैदा किए हैं.  हाल-फिलहाल के  इतिहास में भी गांगुली-द्रविड़, धोनी-सहवाग, धोनी-गंभीर के बीच कप्तानी को लेकर टकराव की खबरें सुर्खियों में रही हैं.

विराट कोहली के तीनों फॉर्मेट में कप्तान बनने के बाद इस तरह की खबरों पर विराम लग गया था लेकिन यह अब अल्प विराम ही साबित होता दिख रहा है.

एशिया कप में टीम इंडिया की जीत ने जहां उसके खिताब को तो बरकरार रखा है वहीं टीम के भीतर ही दो बड़े खिलाड़ियों के बीच एक ऐसी राइवलरी का आगाज कर दिया है जो आने वाले दिनों में अपने चरम पर पहुंच सकती है. ये दो बड़े खिलाड़ी है विराट कोहली और रोहित शर्मा और जो बात इन दोनों के बीच राइवलरी पैदा कर सकती है वह है टीम इंडिया की कप्तानी.

rohit shrma

विराट कोहली खेल के हर फॉर्मेट में टीम इंडिया के कप्तान हैं. तो वहीं उनकी गैरमौजूदगी में लिमिटेड ओवर्स के फॉर्मेट में रोहित शर्मा उनका विकल्प हैं. एशिया कप में कोहली की गैरमौजूदगी में रोहित शर्मा ने जिस तरह से अपनी कप्तानी से प्रभावित किया है उसने सवाल खड़ा कर दिया है कि क्यों ना भारत में भी कप्तानी को बांट दिया जाए. एशिया कप में मिली जीत के बाद रोहित शर्मा के उस बयान ने भी इन कयासों को और हवा दे दी है जिसमें उन्होंने कहा है कि वह टीम इंडिया की परमानेंट कप्तानी करने की तमन्ना रखते हैं.

रोहित की कप्तानी में कितना है दम!

ऐसे में सवाल है कि क्या अब लिमिटेड ओवर्स के फॉर्मेट में कप्तानी को लेकिन इन दोनों को बीच होड़ शुरू हो चुकी है. कोहली को चुनौती देने वाले रोहित के दावे में कितना दम है उसको समझने के पहले बतौर कप्तान रोहित के परफॉर्मेस को भी समझने की जरूरत है.

rohit sharma

एशिया कप में रोहित ने एक मैच्योर कप्तान की तरह अपने फैसले लिए हैं. पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले में हार्दिक पांड्या के चोटिल होने के बीद एक दिन पहले ही यूएई पहुंचे रवींद्र जडेजा को प्लेइंग इलवन में शामिल करना और उनका मैचविंनिंग परफॉर्मेंस देना इसका नमूना है.

इसके अलावा पावर प्ले में ही फिरकी गेंदबाजो को आक्रमण पर लगा देना और मुश्किल वक्त में भी ठंडे दिमाग से फैसले लेना उनक चतुर कप्तानी दिमाग की ऐसी नजीरें है जो उन्हें मजबूत दावेदार बनाती है. यही नहीं बतौर कप्तान के दौरान बतौर बल्लेबाज भी उनका प्रदर्शन काबिल-ए-तारीफ रहा है.

रोहित ने एशिया कप के पांच मुकाबलों में 105.67 की जोरदार औसत से कुल 317 रन बनाए और टीम इंडिया को चैंपियन बनाने में बल्ले से भी अहम भूमिका अदा की.

बतौर कप्तान भी जमकर चला रोहित का बल्ला

बतौर कप्तान रोहित का रिकॉर्ड बेहद चमकदार है. कोहली की गैरमौजूदगी में उन्हें जब कप्तानी का मौका मिला है उन्होंने निराश नहीं किया है. रोहित ने सबसे पहले श्रींलका के खिलाफ कप्तानी का मौका मिला था. उनकी कप्तानी में टीम इंडिया नेवनडे सीरीज 2-1 से और टी20 सीरीज 3-0 से जीती. रोहित की कप्तानी में टीम इंडिया ने आठ में से सात वनडे और और नौ में से आठ टी20 मुकाबले जीते हैं. यही नहीं आईपीएल में बतौर कप्तान वह तीन बार विजेता की ट्रॉफी उठा चुके हैं.

लगातार चोटिल हो रहे हैं कोहली 

इन आंकड़ों से साफ है कि रोहित अगर अपना दावा ठोक रहे हैं तो उसकी वजह भी सॉलिड है. वहीं दूसरी ओर विराट कोहली तीनों फॉर्मेट्स में लगातार खेलने के चलते अब चोटिल होने लगे हैं. इंग्लैंड दौरे से पहले उनकी पीठ में चोट और इस दौरे के बाद उनकी कलाई की चोट इशारा करती है कोहली पर काफी वर्क लोड है.

Cricket - England v India - Second Test - Lord’s, London, Britain - August 12, 2018   India's Virat Kohli receives treatment from medical staff for a back injury   Action Images via Reuters/Paul Childs - RC1C959EFDD0

ऐसे मे सवाल है क्या बीसीसीआई बाकी देशों की तरह टीम इंडिया की कप्तानी को बांटने का फैसला करेगी?  वैसे कप्तानी बांटना भारत में नया नहीं है. इसकी शुरुआत अनिल कुंबले को टेस्ट और एमएस धोनी को वनडे का कप्तान बनाने से हुई थी. लेकिन तब कुंबले वनडे मैच नहीं खेलते थे. धोनी टेस्ट से संन्यास लेने के बाद वनडे और टी20 के कप्तान बने रहे थे लेकिन टेस्ट की कप्तानी कोहली के पास थी.

क्या भारत में भी बंटेगी कप्तानी!

अगर बीसीसीआई कप्तानी रोहित के दावे पर गौर फरमाती है तो यह शायद पहली बार होगा जब भारत दोनों फॉर्मेट खेलने दो खिलाड़ी वाले एक-दूसरे की कप्तानी में खेलेंगे. हालांकि बीसीसीआई की सारी तैयारी फिलहाल 2019 वर्ल्ड कप के मद्देजर है, जिसकी हर प्लानिंग में कोहली अहम हिस्सा हैं और हेड कोच रवि शास्त्री के साथ उनकी ट्यूनिंग भी जगजाहिर है. ऐसा में लगता नहीं कि वर्ल्ड कप से पहले रोहित की तमन्ना पूरी होगी लेकिन इतना तो तय है कि कप्तानी के लिए रोहित की दावेदारी कोहली के लिए गाहे-बगाहे मुसीबत जरूर खड़ी करती रहेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi