S M L

35 साल पहले पहली बार विश्व विजेता बना था भारत, ऐसी थी उस फाइनल की कहानी

25 जून 1983 के दिन ही टीम इंडिया ने कपिल देव की अगुवाई में वर्ल्ड कप जीता था

FP Staff Updated On: Jun 25, 2018 12:52 PM IST

0
35 साल पहले पहली बार विश्व विजेता बना था भारत, ऐसी थी उस फाइनल की कहानी

25 जून 2018, आज से 35 साल पहले टीम इंडिया ने ऐसा इतिहास रचा था जिसे आप जब भी याद करेंगे वो आपके सीने को गर्व से चौड़ा कर देगा. 25 जून 1983 के दिन ही टीम इंडिया ने कपिल देव की अगुवाई में वर्ल्ड कप जीता था. फाइनल में टीम इंडिया ने दो बार की वर्ल्ड चैंपियन वेस्टइंडीज को मात दी थी. इस मुकाबले में टीम इंडिया महज 183 रनों पर सिमट गई थी और उसकी हार तय नजर आ रही थी लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने कमाल दिखाते हुए वेस्टइंडीज को 140 रनों पर समेट हिंदुस्तान को वर्ल्ड चैंपियन बना दिया. आइए एक नजर डालते हैं 1983 वर्ल्ड कप फाइनल की बड़ी बातों पर.

1. 1983 फाइनल मैच में कोई भी बल्लेबाज अर्धशतक नहीं लगा सका था. इस मैच के सर्वश्रेष्ठ स्कोरर के श्रीकांत थे जिन्होंने 38 रनों की अहम पारी खेली थी.

2. फाइनल मैच में सबसे ज्यादा स्ट्राइक रेट विवियन रिचर्ड्स का रहा था जिन्होंने 117.85 के स्ट्राइक रेट से 28 गेंदों में 33 रन बनाए थे. इस पारी में उन्होंने 7 चौके जड़े थे लेकिन उनसे ज्यादा बाउंड्री के श्रीकांत ने ही लगाई थी. श्रीकांत ने फाइनल में 7 चौके और एक छक्का जड़ा था.

3. एक से बढ़कर एक बल्लेबाजों से लैस वेस्टइंडीज की टीम के 7 बल्लेबाज फाइनल मैच में दहाई के आंकड़े तक नहीं पहुंच सके थे. जबकि भारत के 8 बल्लेबाजों ने दहाई का आंकड़ा छुआ था. 4. भारत ने इस मैच में अपने आखिरी 7 विकेट 93 रनों पर गंवा दिए थे जबकि वेस्टइंडीज ने आखिरी 9 विकेट 90 रनों पर खोए थे.

Members of India's 1983 World Cup winning cricket team celebrate with the Prudential trophy at Lords cricket ground during the 25th anniversary of their victory, in London June 25, 2008. REUTERS/Andrew Winning (BRITAIN) - GM1E46Q09QS01 5. 1983 वर्ल्ड कप फाइनल में वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज जोएल गार्नर ने 12 में से 4 ओवर मेडन फेंके थे, जबकि कपिल देव ने 11 में से 4 ओवरों में कोई रन नहीं दिया.

6. वेस्टइंडीज की ओर से विवियन रिचर्ड्स ने 7 चौके लगाए लेकिन उनकी टीम के दूसरे बल्लेबाज कुल 3 चौके और एक ही छक्का लगा सके. डेसमंड हैंस ने 2, क्लाइव लॉयड ने 1 चौका मारा, जबकि जेफ डुजॉन ने एक छक्का लगाया था. 7. मोहिंदर अमरनाथ ने इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में तो मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीता ही था लेकिन फाइनल में भी वो जीत के हीरो बने. मोहिंदर अमरनाथ ने 26 रन बनाने के साथ-साथ 3 विकेट भी लिए थे.

1984: Mohinder Amarnath of India batting against England during the second test in Dehli, India. Mandatory Credit: Adrian Murrell/Allsport UK

8. वेस्टइंडीज के महान कप्तान क्लाइव लॉयड ने 1983 वर्ल्ड कप हारने के बाद कप्तानी छोड़ दी थी. हालांकि इसके बाद वेस्टइंडीज बोर्ड और सीनियर खिलाड़ियों ने उनसे दोबारा कप्तानी संभालने की गुजारिश की थी.

(साभार- न्यूज 18)

(फोटो साभार - ट्विटर)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi