विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

हिंदू मंदिरों और प्रतीकों के रखवाले थे टीपू सुल्तान

टीपू सुल्तान उन कुछेक भारतीय शासकों में से है जो कि अंग्रेजों से ना डरे, ना उनके सामने रुके बल्कि अंग्रेजों का सामना करते हुए युद्ध के मैदान में वीरगति को प्राप्त हुए

Avinash Dwivedi Updated On: Nov 10, 2017 11:38 AM IST

0
हिंदू मंदिरों और प्रतीकों के रखवाले थे टीपू सुल्तान

मैसूर के कपड़े की पहचान है उनकी उत्कृष्टता. भारत में कुछ जगहों के कपड़े खास मशहूर हैं. उनमें मैसूर की साड़ियों की खास ही धमक है, पर जानते हैं, किसके चलते मैसूर के कपड़ों की धाक जमी? टीपू सुल्तान की वजह से.

उस वक्त के गजट से निकले तथ्य इसकी गवाही देते हैं. टीपू सुल्तान आज हमारे बीच नहीं हैं. नहीं हैं तब भी उनके नाम पर नेता पॉलिटिक्स खेल रहे हैं, होते तो भी शायद उन्हें नहीं बख्शते.

वैसे तो लेख का विषय आज के बेहद विवादित और चर्चित विषयों से बुना गया है. तथ्यों के आधार पर लेखक का विश्वास है कि दो शताब्दी पहले ये मुद्दे भारतीयों के लिए बेहद फायदेमंद थे.

खैर, आज से 217 साल पहले (4 मई, 1799) दुनिया से कूच कर गए टीपू से आज भी हमारा जुड़ाव वैसा ही है. यकीन नहीं होता न? पर है. और वो जुड़ाव है उसकी विरासत के जरिए. एक नजर उन खास चीजों पर जिनके जरिए टीपू की विरासत आज भी हमारे बीच सुरक्षित है.

मैसूर के कपड़े को खास बनाने का श्रेय टीपू को ही जाता है

मैसूर क्षेत्र में रेशम के कीड़े पालने के व्यवसाय की शुरुआत टीपू ने ही करवाई थी. मैसूर गजट में ये बात दर्ज है.

टीपू सुल्तान ने बंगाल से शहतूत के पेड़ लगाने की कला सीखी और अपने राज्य में 21 अलग-अलग केंद्रों पर इसकी ट्रेनिंग देनी शुरू की. आगे चलकर ये उद्योग मैसूर का सबसे प्रमुख उद्योग बना.

आज सभी जानते हैं कि मैसूर का रेशम (सिल्क) देश भर में अपनी गुणवत्ता के चलते जाना जाता है. टीपू ने न सिर्फ बाहर से कपास के आयात पर रोक लगाई बल्कि इस बात का भी पूरा ख्याल रखा कि हर बुनकर को कपड़े तैयार करने के लिए अच्छी मात्रा में कपास मिलता रहे.

टीपू ने गन्ने की खेती के लिए चीनियों की मदद ली

बड़ी मात्रा में मैसूर में गन्ने की खेती में भी टीपू सुल्तान का ही योगदान माना जाता है. गजट के हिसाब से इसकी खेती के लिए टीपू सुल्तान ने चीनी विशेषज्ञों की मदद ली थी. जिनके संरक्षण में अच्छी गुणवत्ता के गुड़ और शक्कर का उत्पादन होता था.

टीपू का स्टेट भी ड्राइ स्टेट हुआ करता था

tipu_sultan

टीपू ने बहुत सी लड़ाइयां लड़ीं. जिनमें अंग्रेजों से लड़ी चार बड़ी लड़ाइयां भी शामिल हैं. अपनी लड़ाइयों के बीच टीपू को जो थोड़ा सा शांति का वक्त मिला उस दौरान उसने कई समाजसुधार के काम भी किए. इनमें से एक था शराबबंदी.

टीपू का गाय कनेक्शन

पालतू जानवरों और खेती का गहरा रिश्ता रहा है. टीपू सुल्तान ये बात समझते थे इसलिए उन्होंने जानवरों की अच्छी नस्लें तैयार करने पर भी खासा योगदान दिया. 'हल्लीकर' और 'अमृत महल' नस्ल की गायों की प्रजाति का विकास उनके इन कदमों का ही परिणाम माना जाता है.

कहा जाता है कि देशी नस्ल की गायों का प्रयोग वो पहाड़ियों पर हथियार चढ़ाने में भी करते थे. यानी जिस गाय के नाम पर देशभर में आज नेता पॉलिटिक्स-पॉलिटिक्स खेल रहे हैं, उस गाय से टीपू का बड़ा ही खास रिश्ता था.

भारत की देसी रॉकेट टेक्नोलॉजी

टीपू सुल्तान के मिसाइल कारखाने को अब संग्रहालय में बदल दिया गया है

टीपू सुल्तान के मिसाइल कारखाने को अब संग्रहालय में बदल दिया गया है

वर्तमान इतिहासकार मानते हैं कि भारत में मिसाइल या रॉकेट टेक्नोलॉजी का प्रारंभिक ज्ञान टीपू और हैदर अली का ही लाया हुआ था. ये आजकल के आधुनिक मिसाइल और रॉकेट की तरह ही हुआ करते थे. अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाइयों में टीपू ने इन रॉकेट का खुलकर प्रयोग किया था.

इनमें से कुछ आज भी इंग्लैण्ड के रॉयल आर्टिलरी म्यूजियम में सुरक्षित हैं. 'दरिया दौलत', जो कि टीपू का गर्मियों का महल हुआ करता था, श्रीरंगपट्टन्नम में है. यहां पर जो पेटिंग्स मिलती हैं उनसे साफ पता चलता है कि युद्ध में बड़े स्तर पर टीपू ने मिसाइलों का इस्तेमाल किया था.

टीपू के श्रीरंगपट्न्नम के महल में एक अहाता है जहां से इन मिसाइलों को लॉन्च किए जाने के सुबूत भी मिलते हैं.

डीआरडीओ के विशेषज्ञ वैज्ञानिकों ने भी इस जगह का दौरा किया था. साथ ही कई बार उन्होंने उसके अच्छे रखरखाव की गुजारिश भी की है. यहां पर एक मिसाइल म्यूजिम बनाए जाने का भी सुझाव है.

Mysore_Palace

टीपू सुल्तान का महल

'मेक इन इंडिया' से सदियों पहले टीपू ने चलाया था 'मेक इन मैसूर' अभियान

टीपू को पश्चिमी विज्ञान और तकनीकी से बहुत लगाव था. उसने कई बंदूक बनाने वाले, इंजीनियर, घड़ी बनाने वाले घड़ीसाज और दूसरे तकनीकी विशेषज्ञों को फ्रांस से मैसूर बुलाया. उसने मैसूर में ही कांसे की तोप, गोले और बंदूकें बनानी शुरू कीं जिन पर 'मेड इन मैसूर' लिखा होता था.

पाकिस्तान भी कहता है 'लव यू टीपू'

पाकिस्तान में भी टीपू सुल्तान का सम्मान कम नहीं है. टीपू सुल्तान के नाम पर पाकिस्तान ने पाकिस्तान नेवी शिप का नाम 'पीएनएस टीपू सुल्तान' रखा था.

भारत की ही तरह पाकिस्तान में भी टीपू पर टीवी सीरियल बन चुका है. इसके अलावा पाकिस्तानी पोस्टल सर्विसेज ने 1979 में अपनी आजादी के पुरोधा सीरीज में उसकी तस्वीर वाला डाक टिकट भी निकाला था.

टीपू सुल्तान को ये बातें भी बनाती हैं खास 

हाल में ही आई 'केट ब्रिटलबैंक' की किताब 'लाइफ ऑफ टीपू सुल्तान' की माने तो टीपू सुल्तान अपने वक्त में ब्रिटेन में भारत का सबसे डरावना इंसान माना जाता था. माने ब्रिटेन में लोग उस वक्त उसका बहुत भय मानते थे इसीलिए जब टीपू की मौत हुई तो वहां पर खुशियां मनाई गईं.

टीपू ही था जिसने अग्रेजों के शासन के खतरे को गहराई से भांपा था और इसके लिए उसने अंग्रेजों से चार युद्ध भी लड़े थे. यही कारण है कि उसे भारतीय उपमहाद्वीप का पहला 'फ्रीडम फाइटर' कहा जाता है.

टीपू ने ऑटोमन और फ्रेंच सम्राटों के पास मदद की मांग के लिए दूत भेजे.

टीपू ने 'ख्वाबनामा' नाम की एक किताब भी लिखी थी. इसमें वो अपने सपनों के बारे में लिखा करता था. वो इन सपनों को अपनी लड़ाइयों के नतीजों से जोड़कर तुलना करता था.

टीपू सुल्तान द्वारा अंग्रेजों के सामने समर्पण करने का दृश्य, टीपू अंग्रेजों को अपने दो बेटों को सौंप रहे हैं

टीपू सुल्तान द्वारा अंग्रेजों के सामने समर्पण करने का दृश्य, टीपू अंग्रेजों को अपने दो बेटों को सौंप रहे हैं

हिंदू मंदिरों और प्रतीकों का संरक्षक टीपू 

टीपू सुल्तान के मुख्यमंत्री 'पुरनैय्या' एक हिंदू थे, उनके दरबार में बहुत से मुख्य अधिकारी हिंदू ही थे.

टीपू ने कई हिंदू मंदिरों को संरक्षण दिया था. श्रीरंगपट्टन्नम में स्थित 'श्रीरंगनाथ का मंदिर' उनमें से एक है. 'श्रृंगेरी मठ' भी उनके संरक्षण में ही था जिसके स्वामी को उन्होंने 'जगद्गुरु' कहा.

टीपू बाहर से आया कोई आक्रमणकारी नहीं था. टीपू इसी धरती का बेटा था. दक्षिण भारत में वो अपने खानदान की तीसरी पीढ़ी से था.

आज लोग टीपू सुल्तान के शासन की तमाम तरह से व्याख्या करते हैं. कुछ उसे हिंदुओं का संरक्षक बताते हैं तो कुछ विरोधी. कुछ इस हद तक भी चले जाते हैं कि उसे कट्टर मुस्लिम और हिंदुओं का नरसंहार करने वाला कहते हैं.

पर बता दें पर ये एक तथ्य है कि टीपू ने शासन के चिह्नों के रूप में बड़ी मात्रा में सूरज, शेर और हाथी का प्रयोग किया. जो साधारणत: हिंदू प्रतीक माने जाते हैं.

Tipu

टीपू सुल्तान की कब्र (पीछे हैदर अली की कब्र है)

चलते-चलते

टीपू की मौत के 217 साल बाद भी सारे इतिहासकार उसके इन प्रयोगों की सफलता पर सहमत होते हैं. वो मानते हैं कि आज भी टीपू के सामाजिक-आर्थिक सुधार फल-फूल रहे हैं.

भले ही आज टीपू को लेकर कितने भी भ्रम फैलाए जा रहे हों पर इस पंक्ति पर विश्वास करें - 'जो तथ्य है, वो सत्य है और सामने अभिव्यक्त है' तो एक तथ्य ये भी है कि टीपू सुल्तान उन कुछेक भारतीय शासकों में से है जो कि अंग्रेजों से ना डरे, ना उनके सामने रुके बल्कि अंग्रेजों का सामना करते हुए युद्ध के मैदान में वीरगति को प्राप्त हुए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi