S M L

युवा दिवस: स्वामी विवेकानंद के वो विचार जो हर किसी को सोचने पर कर देते हैं मजबूर

स्वामी विवेकानंद ने मानवता की सेवा और परोपकार के लिए 1897 में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की.

Updated On: Jan 11, 2019 10:11 PM IST

FP Staff

0
युवा दिवस: स्वामी विवेकानंद के वो विचार जो हर किसी को सोचने पर कर देते हैं मजबूर

स्‍वामी विवेकानंद ऐसे महापुरुष हैं जिनके विचार आज भी लोगों को प्रेरणा देते हैं. स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को बंगाल में हुआ था. वहीं अमेरिका के शिकागो में हुई धर्म सभा में अपने भाषण के कारण अंतर्राष्ट्रीय सुर्खियों में आए थे. स्वामी विवेकानंद अपने ओजपूर्ण और बेबाक भाषणों के कारण काफी लोकप्रिय हुए. विशेषकर युवाओं के बीच में उनकी पैठ काफी मजबूत है. इसी कारण उनके जन्म को पूरा राष्ट्र ‘युवा दिवस’ के रूप में मनाता है.

स्वामी विवेकानंद ने मानवता की सेवा और परोपकार के लिए 1897 में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की. इस मिशन का नाम विवेकानंद ने अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के नाम पर रखा था. वहीं स्वामी विवेकानंद का निधन 4 जुलाई 1902 को हो गया था. लेकिन उनके विचार आज भी लोगों को सोचने पर मजबूर कर देते हैं.

ऐसे में आइए जानते हैं स्वामी विवेकानंद के कुछ विचार...

किसी दिन, जब आपके सामने कोई समस्या ना आये, आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत रास्ते पर चल रहे हैं.

Vivekananda Quote2

सबसे पहले यह अच्छे से जान-समझ लो कि हर बात के पीछे एक मतलब होता है.

उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए.

Vivekananda Quote3

सत्य को हजार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य ही होगा.

दिल और दिमाग के टकराव के बीच हमेशा दिल की सुनो.

Vivekananda Quote4

अगर तुम्हें खुद पर भरोसा नहीं है तो तुम सबसे बड़े नास्तिक हो.

सच्चाई के लिए कुछ भी छोड़ देना चाहिए, पर किसी के लिए भी सच्चाई नहीं छोड़ना चाहिए.

Vivekananda Quote5

एक समय में एक काम करो और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो और बाकी सब कुछ भूल जाओ.

कभी भी यह मत सोचो कि तुम्हारे लिए, तुम्हारी आत्मा के लिए कुछ भी नामुमकिन है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi