S M L

'दिल दा मामला' हो या 'मामला गड़बड़' हो, गुरदास मान बेजोड़ हैं

3 दशकों में न जाने कितने पंजाबी पॉप स्टार आए और गए मगर गुरदास मान की अलग जगह बनी हुई है

FP Staff Updated On: Jan 04, 2018 08:30 AM IST

0
'दिल दा मामला' हो या 'मामला गड़बड़' हो, गुरदास मान बेजोड़ हैं

साल 1980 में इंटरकॉलेज फेस्टिवल में गाने वाले एक पंजाबी लड़के को दूरदर्शन के लिए गाने का मौका मिला. गाने के बोल थे, 'दिल दा मामला है'. एकदम घिसी-पिटी लाइन है मगर सच है कि इस गाने के बाद गुरदास मान ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा.

समय बदला और गुरदास मान लेजेंड बन गए. मगर उनका मिजाज़ नहीं बदला. लाइव परफॉर्मेंस हो या कोई और मौका गुरदास मान की विनम्रता की झलक हर जगह मिल जाती है. गुरदास को लेजेंड बनाने वाले गानों में से एक था मामला गड़बड़ है.

बीते 3 दशकों में न जाने कितने पंजाबी सिंगर आए और गए मगर गुरदास मान की लोकप्रियता का कोई जोड़ नहीं है. उनका एक अलग दर्जा है बाकी गायक उसके बाद आते हैं.

एक और गाना है जिसके बिना पंजाबी संगीत की कल्पना नहीं हो सकती है, लॉन्ग द लश्कारा.

चलते-चलते सुनिए गुरदास मान और दिलजीत दोसांझ की कोक स्टूडियो के लिए जुगलबंदी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi