S M L

दुनिया ने देखा सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण ‘ब्लड मून’, दिल्ली में बादलों ने किया निराश

मौसम ने लोगों को इस दुर्लभ खगोलीय घटना को देखने से वंचित कर दिया, जबकि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में ‘ब्लड मून’ देखा गया

Updated On: Jul 28, 2018 12:13 PM IST

FP Staff

0
दुनिया ने देखा सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण ‘ब्लड मून’, दिल्ली में बादलों ने किया निराश

विश्व ने 27 जुलाई को इस सदी का सबसे लंबा चंद्रगहण देखा. दुनिया भर के विभिन्न हिस्सों में सदी के सबसे लंबे चंद्रग्रहण ‘ब्लड मून’ को देखकर लोग दंग रह गए. इस चंद्रग्रहण के साथ-साथ लोगों को पिछले 15 वर्षों में सबसे करीब आए मंगल ग्रह की अद्भुत खगोलीय घटना भी देखने को मिली. खगोलीय घटनाओं में दिलचस्पी रखने वाले लोगों ने विश्वभर में चंद्रग्रहण के इस अद्भुत नजारे को देखा.

दक्षिणी गोलार्द्ध में दिखा अद्भुत नजारा

केन्या की राजधानी नैरोबी से 100 किलोमीटर दूर मगादी झील के पास मसाई समुदाय के युवा सदस्यों ने एक स्थानीय दंपति द्वारा मुहैया कराई गई उच्च शक्ति वाली दूरबीन से चंद्रग्रहण को देखा. समुदाय के एक युवा सदस्य पुरिटी साइलेपो ने कहा, 'इसे देखने से पहले आज तक मुझे ऐसा लगता रहा था कि मंगल, बृहस्पति और अन्य ग्रह सिर्फ वैज्ञानिकों द्वारा की गई कल्पना हैं. लेकिन अब मैंने इसे देख लिया है. मैं विश्वास करता हूं कि ये वास्तव हैं और मैं इसे दूसरे लोगों को बताने के लिए खगोल विज्ञानी बनना चाहता हूं.'

दक्षिणी गोलार्द्ध इस अद्भुत दृश्य के नजारे के लिए सबसे अच्छी जगह थी, खासतौर पर दक्षिणी अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और मेडागास्कर से यह अद्भुत नजारा अच्छी तरह दिखा. हालांकि यूरोप, दक्षिणी एशिया और दक्षिण अमेरिका से भी यह नजारा दिखा.

जर्मनी में कुछ ऐसा दिखा नजारा. (पीटीआई)

जर्मनी में कुछ ऐसा दिखा नजारा. (पीटीआई)

दिल्ली में मौसम ने ब्लड मून से किया महरूम

लेकिन भारत में कुछ-कुछ जगहों पर लोगों को निराश होना पड़ा. दिल्ली के नेहरू तारामंडल में बीती रात करीब 2,000 लोग दुर्लभ खगोलीय घटना सदी के सबसे लंबे चंद्रग्रहण को देखने के लिए जुटे, लेकिन उन्हें निराश होना पड़ा क्योंकि इनकी आंखों और चांद के बीच बादलों ने पूरी तरह से पर्दा डाल दिया.

सदी के सबसे लंबे चंद्रग्रहण के दौरान जब चांद पूरी तरह से लाल होकर ‘ब्लडमून’ में बदल गया तब भी लोग पृथ्वी के इस उपग्रह को देख पाने में असमर्थ रहे. लोगों ने मध्यरात्रि के बीतने की प्रतीक्षा भी की कि कभी तो बादल हटेगा और वे चांद देख पाएंगे, लेकिन उन्हें निराशा ही हाथ लगी. लोग अपने साथ दूरबीन भी लेकर आए थे.

दिल्ली सहित भारत के विभिन्न हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से मॉनसून के असर की वजह से बारिश हो रही है. मौसम ने लोगों को इस दुर्लभ खगोलीय घटना को देखने से वंचित कर दिया, जबकि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में ‘ब्लड मून’ देखा गया.

तारामंडल ने ‘मून कार्निवल’ आयोजित किया था और इस चंद्रग्रहण को देखने के लिए विशेष दूरबीन लगाई थीं. इसके अलावा तारामंडल ने खगोल विज्ञान, ग्रहण पर शो भी आयोजित किए. दुर्लभ खगोलीय घटना के दीदार के लिए रात में लोग अपने घरों की छतों पर भी पहुंचे, लेकिन बादलों ने उन्हें निराश कर दिया.

चंद्र ग्रहण शुक्रवार देर रात 11.54 पर शुरू हुआ और शनिवार (28 जुलाई) की सुबह 3.49 बजे खत्म हुआ. अपने विभिन्न चरणों के दौरान इस चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 55 मिनटों की रही. अमेरिकी स्पेस एजेंसी 'नासा' के मुताबिक, ये 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण था. ऐसा नज़ारा अब 2123 में फिर से देखा जा सकेगा.

कोझिकोड में कुछ ऐसा दिखा चंद्रग्रहण. (पीटीआई)

कोझिकोड में कुछ ऐसा दिखा चंद्रग्रहण. (पीटीआई)

लेकिन अब जब सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण खत्म हो गया है, तो भारतीय मान्यताओं के अनुसार कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए. चंद्र ग्रहण का चांद पीड़ित माना जाता है. इसलिए जरूरी है कि ग्रहण के बाद कुछ उपाय किए जाएं, ताकि उस समय की नकारात्‍मकता दूर हो जाए. आइए, जानते हैं ऐसे ही कुछ 10 उपाय-

- चंद्र ग्रहण खत्म होने के बाद सुबह-सुबह नहाएं और साफ-सुथरे कपड़े ही पहनें.

- ग्रहण के बाद बिना नहाए और पूजा किए कुछ भी मत खाएं या पीए.

- चंद्र ग्रहण के समय पहने गए कपड़ों को दोबारा नहीं पहनना चाहिए. बेहतर होगा कि आप नहाने के बाद इनको दान कर दें.

- नहाने के बाद घर का पूजा घर भी शुद्ध करें. इसके लिए देवी-देवताओं और भगवान की सभी प्रतिमाओं-तस्‍वीरों पर गंगाजल छिड़कें.

- चंद्र ग्रहण के बाद पितरों को याद करें और उनके नाम पर दान दें. ऐसा करने से ग्रहण का बुरा प्रभाव उतर जाएगा.

- ग्रहण के बाद शिव पूजा भी फायदेमंद मानी गई है. अगर आप ये पूजा किसी मंदिर में जाकर करें तो बेहतर होगा.

- घर में तुलसी का पौधा भी चंद्र ग्रहण से प्रभावित होगा. इसकी पूजा करने से पहले इस पर गंगा जल जरूर छिड़कें.

- ग्रहण के बाद घर की अच्‍छी तरह सफाई करें और पूरे घर में धूप या अगरबत्‍ती का धुआं दिखाएं.

- तीन सूखे नारियल और सवा किलो सतनाजा प्रातरू दान में दें या जल प्रवाह करने से भी ग्रहण का प्रभाव कम होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi