S M L

जुलाई स्पेशल (पार्ट 2): हैरी पॉटर कैसे बनी दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब

हैरी पॉटर सीरीज की अबतक 50 करोड़ प्रतियां बिक चुकी हैं और इसे 73 भाषाओं में ट्रांसलेट किया जा चुका है.

Tulika Kushwaha Tulika Kushwaha Updated On: Jul 31, 2017 10:08 AM IST

0
जुलाई स्पेशल (पार्ट 2): हैरी पॉटर कैसे बनी दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब

(हैरी पॉटर सीरीज की पहली किताब को आए हुए 20 साल पूरे हो गए हैं. इसके साथ ही जेके रॉलिंग, हैरी पॉटर और डेनियल रैडक्लिफ के बर्थडे के लिए हमारी जुलाई स्पेशल सीरीज का ये दूसरा लेख है. पहला लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

मोटी-मोटी किताबें वो भी बिना तस्वीरों की, किताबों में दिलचस्पी लेने वाले लोगों के लिए भी ऐसी किताबें थोड़ी बोरिंग हो सकती हैं लेकिन हैरी पॉटर सीरीज के साथ ऐसा होना नामुमकिन है. इसलिए ये सीरीज दुनिया भर में सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबें हैं.

और अगर 1997 में 8 साल की एलिस न्यूटन ने हैरी पॉटर की पहली किताब नहीं पढ़ी होती, तो शायद हॉगवर्ट्स की जादुई दुनिया कभी हमारे सामने नहीं आ पाती. खैर एलिस की बातें आगे.

कहते हैं जेके रॉलिंग ने अपनी इस जादुई सीरीज के जरिए बच्चों में किताबें पढ़ने की आदत पैदा की. वैसे इसमें कई झोल है और इस बात पर कई लोग नाक-भौं सिकोड़ सकते हैं. लेकिन एचपी सीरीज ने कमाई और बेस्टसेलिंग रिकॉर्ड्स का सीन बदलकर रख दिया, इससे इनकार करना मुश्किल है.

सीरीज की कमाई

जेके रॉलिंग दुनिया की पहली अरबपति महिला लेखक हैं. लेकिन रॉलिंग जब सीरीज की पहली किताब को छपवाने के लिए एक प्रकाशन से दूसरे प्रकाशन के चक्कर लगा रही थीं, तो उन्होंने ऐसी सफलता के बारे में सोचा भी नहीं होगा. हालात तो ऐसे थे कि 'हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन' छप भी जाती, तो बहुत होता. लेकिन जब किताब छपी तो उसने किताबों की दुनिया के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. अब तक एचपी सीरीज की दुनियाभर में 50 करोड़ प्रतियां बिक चुकी हैं और अब भी बिक रही हैं. सीरीज की सातों किताबें न्यूयॉर्क टाइम्स की बेस्टसेलिंग लिस्ट में टॉप पर रही हैं.

हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन

1990 में लंदन के किंग्स क्रॉस स्टेशन पर अपनी लेट हो रही ट्रेन का इंतजार करते वक्त जो आइडिया रॉलिंग के दिमाग में आया था, उन्होंने उसपर सात किताबों की सीरीज लिखने का प्लान बनाया. अगले 5 सालों तक वो यही करती रहीं, नोट्स बनाती रहीं, पेपर के टुकड़ों पर लिखती रहीं. ज्यादातर लेखन उन्होंने हाथ से ही किया. लेकिन जब वो किताब को पब्लिश कराने पहुंचीं तो उन्हें निराश होना पड़ा. रॉलिंग को 12 पब्लिशर्स ने रिजेक्ट कर दिया था. इन सभी ने इसे ओवररेटेड, बहुत लंबी कहानी और पुराना आइडिया बताया था.

इन सभी पब्लिशरों की न के लिए ब्लूम्सबरी इनका शुक्रगुजार रहेगा. पब्लिशिंग कंपनी ब्लूम्सबरी ने रॉलिंग को लगभग दो लाख रुपए (2500 पाउंड) के एडवांस का ऑफर दिया. उन्होंने कहा कि वो इस किताब को 9-11 साल की उम्र के बच्चों के लिए छापेंगे. लेकिन कंपनी की एक शर्त थी वो नहीं चाहती थी कि ये किताब किसी औरत के नाम से छपे क्योंकि उसे नहीं लगता था कि इस उम्र के बच्चे किसी औरत के नाम से छपी किताब पढ़ेंगे. इसलिए रॉलिंग ने अपनी दादी के नाम कैथलीन को अपना मिडिल नेम बनाया और वो बनीं जेके रॉलिंग (जोएन कैथलीन रॉलिंग).

हैरानी की बात है कि 26 जून 1997 को पहली किताब 'हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन' की बस 500 प्रतियां छपी थीं. इसके दो साल के अंदर इस किताब की लगभग 30 लाख प्रतियां छपीं. इसे उस साल इंग्लैंड का नेशनल बुक अवॉर्ड भी मिला.

अमेरिका में ये किताब 'हैरी पॉटर एंड द सॉर्सर्स स्टोन' नाम से छपी. किताब न्यूयॉर्क टाइम्स की बेस्टसेलिंग लिस्ट में नंबर वन पर पहुंच गई और अगले 79 हफ्तों के लिए टॉप पर बनी रही. दिलचस्प है कि हैरी पॉटर की वजह से ही टाइम्स को साल 2000 में अलग से चिल्ड्रेंस बुक लिस्ट बनानी पड़ी थी.

हैरी पॉटर एंड द चैंबर ऑफ सीक्रेट्स ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द चैंबर ऑफ सीक्रेट्स ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द चैंबर ऑफ सीक्रेट्स

सीरीज की अगली किताब इंग्लैंड में 2 जुलाई 1998 और अमेरिका में 2 जून 1999 को छपी और दोनों देशों में बेस्टसेलर रही. किताब के अलावा अमेरिकन लाइब्रेरी असोसिएशन और स्कॉटिश आर्ट्स काउंसिल के बेस्ट बुक अवॉर्ड के अलावा और भी कई अवॉर्ड मिले. इस किताब की लगभग 8 करोड़ से ज्यादा प्रतियां बिक चुकी हैं.

हैरी पॉटर एंड द प्रिजनर ऑफ अज्कबान ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द प्रिजनर ऑफ अज्कबान ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द प्रिजनर ऑफ अज़्कबान

तीसरी किताब 8 जुलाई 1999 और अमेरिका में 8 सितंबर 1999 को छपी. छपने के पहले ही दिन किताब की 68,000 प्रतियां बिक गईं. ये किताब भी न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर लिस्ट में पहले नंबर पर चली गई. ऐसा पहली बार हुआ जब किसी सीरीज की तीन किताबें टॉप 3 में चल रही हों. इस किताब को भी कई अवॉर्ड मिले.

हैरी पॉटर एंड द गॉब्लेट ऑफ फायर ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द गॉब्लेट ऑफ फायर ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द गॉब्लेट ऑफ फायर

सीरीज की चौथी किताब इंग्लैंड और अमेरिका में 8 जुलाई 2000 को पब्लिश हुई. इस किताब की बिक्री के लिए दोनों देशों में आधी रात तक बुकस्टोर खुले रहे. दुकानें फैंस से खचाखच भरी रही थीं. ये बस शुरुआत थी. ऐसा अब सीरीज की अगली हर किताब के लिए होने वाला था.

छपने के दो दिनों के अंदर ही 'गॉब्लेट ऑफ फायर' की 3 करोड़ प्रतियां बिक गईं. इस किताब ने सारे सेल्स रिकॉर्ड तोड़ दिए. इस किताब को भी ह्यूगो अवॉर्ड फॉर बेस्ट नॉवेल मिला.

हां, एक और बात. जेके रॉलिंग इस किताब का नाम पहले 'हैरी पॉटर एंड द डूमस्पेल' टूर्नामेंट रखने वाली थीं. लेकिन छपने से कुछ महीने पहले उन्होंने इसका नाम बदल दिया. दरअसल, इस किताब में हॉगवर्ट्स में हैरी के चौथे साल में होने वाले ट्राईविजर्ड टूर्नामेंट यानी तीन जादुई स्कूलों के बीच कॉम्पटिशन होता है, जिसमें खेलने की इच्छा रखने वालों स्टूडेंट्स को एक आग के प्याले में अपना नाम डालना होता है. और ऐसा लगता है कि उन्होंने नाम बदलकर ठीक ही किया क्योंकि सारी दुष्टता और साजिशें उस आग के प्याले से ही शुरू होती हैं.

हैरी पॉटर एंड द ऑर्डर ऑफ द फीनिक्स ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द ऑर्डर ऑफ द फीनिक्स ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द ऑर्डर ऑफ द फीनिक्स

पांचवी किताब इंग्लैंड, अमेरिका और कनाडा में 21 जून 2003 की आधी रात को छपी. इस किताब ने अपनी ही सीरीज की पिछली किताब का रिकॉर्ड तोड़ा. ये किताब छपने के 24 घंटों के अंदर ही इसकी 5 करोड़ प्रतियां बिक गईं. फिर अमेरिकन लाइब्रेरी असोसिएशन के बेस्ट बुक का अवॉर्ड एचपी सीरीज के हिस्से आया.

हैरी पॉटर एंड द हाफ ब्लड प्रिंस ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द हाफ ब्लड प्रिंस ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द हाफ ब्लड प्रिंस

सीरीज की छठी किताब 16 जुलाई 2005 को तीनों देशों में छपी. इस किताब ने फिर सीरीज की पिछली किताब का रिकॉर्ड तोड़ा. रिलीज होने के महज 24 घंटे में इसकी 11 करोड़ प्रतियां बिकीं.

हैरी पॉटर एंड द डेथली हैलोज़ ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द डेथली हैलोज़ ब्लूम्सबरी और स्कॉलेस्टिक बुक कवर.

हैरी पॉटर एंड द डेथली हैलोज़

सीरीज की सातवीं और आखिरी किताब 21 जुलाई 2007 को पब्लिश हुई. इस किताब के लिए फैंस में इतना क्रेज था कि प्लॉट को सुरक्षित रखने के लिए करोड़ों खर्च किए गए थे. यहां तक कि बुकस्टोर्स को किताब की पेटियों को आधी रात से पहले खोलने की कानूनी तौर पर मनाही थी. इस किताब ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. 15 करोड़... 15 करोड़ प्रतियां बिकीं सीरीज की आखिरी किताब की. डेथली हैलोज ने प्री-ऑर्डर के रिकॉर्ड भी ध्वस्त कर दिए थे. किताब के छपने के पहले ही 5 लाख प्रतियां ऑर्डर कर ली गई थीं.

ट्रांसलेशन और एडिशन 

डेथली हैलोज के आने के साथ ही हैरी पॉटर एंड हॉगवर्ट्स की दुनिया का एक चैप्टर खत्म हो गया. लेकिन कहानी नहीं. इसके बाद भी हॉगवर्ट्स लाइब्रेरी की किताबों और 'हैरी पॉटर एंड द कर्स्ड चाइल्ड' और हैरी पॉटर फैन फिक्शन की दुनिया के किस्से आपको हमेशा कुछ नया देते हैं.

क्या आपको पता है कि हैरी पॉटर सीरीज दुनिया की कुछ सबसे ज्यादा ट्रांसलेटेड किताबों में से एक है. हैरी पॉटर को अब तक 73 भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है. यहां तक कि प्राचीन ग्रीक और लैटिन में भी.

इनके अलावा इन किताबों का हिंदी, उर्दू, बांग्ला, अरबी, वेल्श, कोरियन, आर्मिनियन, बुल्गेरियन, अफ्रीकन, अल्बैनियन, लातवियन, वियतनामी सहित कई और भाषाओं में भी ट्रांसलेशन हो चुका है.

आखिर में

और हां, जहां तक पता है, हैरी पॉटर की किताबें एक ऐसी अकेली बुक सीरीज है जिन्हें बच्चों के लिए अलग और बड़ों के लिए अलग कवर पेज के साथ छापा गया है.

एक और बात 'हैरी पॉटर एंड द गॉब्लेट ऑफ फायर' की डिलिवरी 9,000 फेडएक्स के ट्रकों ने की थी.

हैरी पॉटर से जुड़ी हर फ्रेंचाइजी और कंपनी का बिजनेस लगभग 2500 करोड़ का है.

और सबसे आखिर में एक दिलचस्प और जरूरी बात. अगर 1997 में 8 साल की एलिस न्यूटन नहीं होती तो ब्लूम्सबरी ने भी जेके रॉलिंग को ना कह दिया होता. जेके रॉलिंग की इस बच्चों की किताब को ब्लूम्सबरी के चेयरमैन नाइजेल न्यूटन ने अपनी 8 साल की बेटी को पढ़ने के लिए दिया, वो देखना चाहते थे कि उसे ये कहानी पसंद आती है या नहीं. एलिस ने ये मोटी और बिना तस्वीरों की किताब पूरी पढ़ी, उसने कहा कि उसे और पढ़ना है. तब नाइजेल को समझ में आ गया कि उनके हाथ कुछ बड़ा लग गया है.

थैंक्यू एलिस.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi