S M L

कहानी 'परफेक्ट सीरियल किलर' की, जो 100 हत्याएं करके भी हीरो बना हुआ है

ब्राज़ील का पेड्रो रॉड्रिगेज़ दुनिया के इतिहास में सबसे दुर्दांत हत्यारों में से एक है. पेड्रो की मानें तो उसने 100 से ज्यादा कत्ल किए

Animesh Mukharjee Animesh Mukharjee Updated On: Jun 03, 2018 09:12 AM IST

0
कहानी 'परफेक्ट सीरियल किलर' की, जो 100 हत्याएं करके भी हीरो बना हुआ है

सीरियल किलर शब्द सुनकर किसी के दिमाग में क्या प्रतिक्रिया आ सकती है. चाहे जो आए लेकिन 'हीरो' या नायक शायद किसी सीरियल किलर के साथ जुड़ने वाला आखिरी शब्द होगा. दुनिया में कुछ भी संभव है. एक सीरियल किलर का हीरो होना भी. कुछ-कुछ वैसे ही जैसे, तमाम अपराधी सरगना राजनीति का लिबास पहनकर रॉबिनहुड और बाहुबली का तमगा पा जाते हैं. कहानी ऐसे ही एक सीरियल किलर की, जिसने 100 से ज्यादा हत्याएं कीं. इसके बाद भी उसको कई लोगों ने हीरो माना.

History Sheeters

हत्यारा बना नायक

ब्राज़ील का पेड्रो रॉड्रिगेज़ दुनिया के इतिहास में सबसे दुर्दांत हत्यारों में से एक है. पेड्रो की मानें तो उसने 100 से ज्यादा कत्ल किए. इनमें उसका अपना बाप और शहर का वाइस मेयर भी शामिल था. इन सब हत्याओं में उसकी अपने पिता की हत्या सबसे भयानक थी. जहां उसने फांसी पाने जा रहे अपने पिता को अनगिनत चाकू मारे और उसका दिल काटकर निकाल लिया. इसके बाद दिल के दांत से काटकर दो टुकड़े कर दिए. इन सारी हरकतों के पीछे उसके तर्क थे. ये तर्क ही पेड्रो को दुनिया के किसी भी सीरियल किलर से अलग बनाते हैं.

पेड्रों की कहानी जानने से पहले आपको डेक्सटर के मन की बात जाननी चाहिए. डेक्सटर मॉर्गन एक बहुचर्चित अमेरिकी टीवी सीरीज़ का मुख्य पात्र है. डेक्स्टर मायामी पुलिस डिपार्टमेंट में फोरेंसिक्स में काम करता है. डेक्स्टर को एक पुलिस अधिकारी ने पाला-पोसा, डेक्सटर की सौतेली बहन भी पुलिस में है. डेक्स्टर अपने स्वर्गीय सौतेले पिता से बहुत प्रेम करता है. डेक्सटर के अंदर एक अपराधी बसता है. वो जो खराब परिवेश में पल बढ़कर हत्याओं और अपराधों की तरफ मुड़ गया है.

डेक्सटर.

डेक्सटर.

डेक्स्टर एक सीरियल किलर है. उसके अंदर हत्या करने की प्रवृत्ति है. अपने आप को किसी शैतान में बदलने से बचाने के लिए डेक्स्टर हत्याएं करता है. डेक्स्टर बलात्कारियों और हत्यारों को मारता है और उनकी लाश समुंदर में जाकर डुबो देता है. उसका फोरेंसिक एक्सपर्ट होना सबूत मिटाने में काम आता है. पेड्रो भी कुछ-कुछ ऐसा था.

टूटी हुई खोपड़ी, पिता की हत्या

पेड्रो फ्रैक्चर वाली खोपड़ी के साथ पैदा हुआ था. इसकी वजह उसके पिता थे. पेड्रो की मां जब गर्भवती थीं तब उसके पिता ने उनको बुरी तरह पीटा था. इसी का नतीजा पेड्रो की पैदाइशी चोट थी. पेड्रो ने पहली हत्या 14 साल की उम्र में की. उसके पिता को नौकरी से निकाल दिया गया था. उसके पिता पर आरोप था कि उन्होंने स्कूल का खाना चुराया है. पेड्रो ने इसके तुरंत बाद दूसरी हत्या की. ये उस गार्ड की हत्या थी जिसने असल में खाना चुराया था. इसके बाद पेड्रो ने वो शहर छोड़ दिया.

नए शहर में पेड्रो ने सबसे पहले एक ड्रग डीलर की हत्या की. इसके बाद पेड्रो को प्रेम हुआ. मारिया ओलंपिया नाम की लड़की उसकी प्रेमिका थी. दोनों साथ रहते थे. एक गैंगवॉर में माफिया के लोगों ने मारिया को मार डाला. इसके बाद पेड्रो ने किसी फिल्मी हीरो की तरह एक-एक कर गैंग मेंबरों को मारना शुरू कर दिया. इसके बाद पेड्रो ने सबसे चर्चित हत्या की. उसने अपने पिता को 22 बार चाकू मारे और उनका दिल निकाल लिया, उसके पिता ने उसकी मां की हत्या की थी. 24 मई 1973 को उसे गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस वालों ने उसे एक गाड़ी में बैठाया. गाड़ी में उसके साथ दो रेपिस्ट बंद थे. पेड्रो ने पुलिस की गाड़ी के अंदर ही उन दोनों को मार डाला.

128 साल की सजा, फिर जेल में 47 हत्याएं

जेल पहुंचकर पेड्रो को जैसे मुंहमांगी मुराद मिल गई उसे 128 साल की सज़ा हुई थी. जेल में पेड्रो ने एक-एक कर 47 अपराधियों की हत्या की. पेड्रो की सज़ा बढ़ाकर 400 साल कर दी गई. ब्राज़ील के कानून के हिसाब से किसी को भी जेल में 30 साल से ज्यादा नहीं रखा जा सकता. इसलिए उसे 30 साल बाद रिहा करने की बात हुई. कुल मिलाकर उसे 34 साल जेल में रखा गया और 24 अप्रैल 2007 को रिहा कर दिया गया.

रिहा होने के बाद पेड्रो पर डॉक्यूमेंट्री बनी. इंटरव्यू हुए. पेड्रो ब्राज़ील में कहीं हाउस कीपर की तरह काम करने लगा. पेड्रो को कई क्रिमिनल साइकोलॉजिस्ट 'परफेक्ट सीरियल किलर' मानते हैं. पेड्रो को ब्राज़ील के लोग मेटाडोर (सांड से लड़नेवाला) के नाम से भी बुलाते हैं. 2011 में पेड्रो को फिर से गिरफ्तार किया गया. इस बार किसी हत्या का आरोप नहीं था. इसके बाद पेड्रो कब रिहा हुआ? अब कहां है? इसकी कोई जानकारी नहीं मिलती. आप बताइए आप पेड्रो को क्या मानेंगे?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi