S M L

क्या आपको देर रात कर जगने की आदत है? हो जाएं सावधान, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

एक स्टडी में बताया गया है कि देर रात तक जागने वाले लोगों का पूरा रूटीन खराब हो जाता है, नींद न आने की वजह से ऐसे लोग डिप्रेशन के भी शिकार हो सकते हैं

Updated On: Feb 15, 2019 04:57 PM IST

Purnima Acharya

0
क्या आपको देर रात कर जगने की आदत है? हो जाएं सावधान, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

क्या आपको पता है कि देर रात तक जागने वाले लोगों को डायबिटीज और दिल की बीमारी का खतरा बना रहता है. इसका खुलासा हाल ही में हुए एक स्टडी में हुआ है जिसमें बताया गया है कि देर रात तक जागने वाले लोगों का पूरा रूटीन खराब हो जाता है. नींद न आने की वजह से ऐसे लोग डिप्रेशन के भी शिकार हो सकते हैं. देर रात तक जागने से खान-पान का रूटीन बिल्कुल खराब हो जाता है, जिसके चलते आपके शरीर का मोटापा बढ़ने लगता है. ऐसा अगर आपके घर परिवार में कोई कर रहा है या फिर आपको खुद देर रात तक जागने की आदत है तो आज ही सावधान हो जाइए.

दरअसल कुछ लोगों की आदत होती है कि वह देर रात तक जागकर मोबाइल देखकर अपनी नींद में रुकावट लाते हैं. ऐसे लोग नींद आने पर भी मोबाइल पर वेबसीरीज या फिर टीवी देखते रहते हैं जिसका सीधा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है. बता दें कि मनुष्य का शरीर 24 घंटे के हिसाब से चलता है. हमें कब खाना है, कब सोना है और कब जगना है ये सब हमारे ऑगर्न तय करते हैं. ऐसे में अगर आप अपने शरीर को सही समय पर खाना या आराम नहीं देंगे तो आगे चलकर आपके शरीर को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

शोधकर्ताओं के अनुसार देर रात तक जागने वाले लोग ज्यादातर अनहेल्दी डाइट का सेवन करते हैं. इन लोगों में से शराब, मीठी चीजें, चाय और कॉफी पीने की आदत होती है. जबकी सही समय पर सोने वाले लोग ऐसा बिल्कुल नहीं करते हैं. उन्हें सही समय पर भूख लगती है और वह जल्द ही किसी चीज के आदी भी नहीं बनते.

जो लोग सही समय से सोते नहीं है वो उठते भी सही समय पर नहीं हैं और ऐसे में उनका पूरा दिन भी खराब हो जाता है. ऐसे लोगों को उम्र से पहले ही डायबिटीज जैसी बीमारी हो जाती है. इसके अलावा भी कई और खतरनाक बीमारियां होने की आशंका रहती है. देर रात तक जगने वाले सुबह जल्दी नहीं उठते हैं और सही समय पर नाश्ता भी नहीं कर पाते हैं. यह गलत आदतें उनकी दिनचर्या खराब करती है.

जो लोग देर रात को सोते है और सुबह देर से उठते है इसका असर उनके दिमाग और हॉर्मोन पर भी पड़ता है. स्टडी में बताया गया है कि ऐसे लोगों के दिमाग में व्हाइट मैटर बहुत ही खराब स्थिती में होता है. विशेष रूप से दिमाग के उन हिस्सों में होता है जहां से दुख के भाव पैदा होते हैं और इसलिए ऐसे लोग ज्यादा तनाव में रहते हैं.

नोटः यह लेख आपकी जागरूकता बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि किसी बीमारी के शिकार हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi