S M L

दुल्हन को शादी में नहीं चाहिए थे बच्चे, नियम न मानने पर कपल को समारोह से बाहर निकाला

मैं इस कपल की बहुत करीबी नहीं हूं, लेकिन पत्नी लंबे समय से पारिवारिक मित्र है इसलिए मुझे लगा कि मुझे उसे आमंत्रित करना चाहिए, स्पष्ट रूप से मेरे सभी निमंत्रणों में कहा गया था कि इस शादी में कोई बच्चे नहीं होंगे

Updated On: Dec 23, 2018 06:07 PM IST

FP Staff

0
दुल्हन को शादी में नहीं चाहिए थे बच्चे, नियम न मानने पर कपल को समारोह से बाहर निकाला

अगर फिल्मों, टीवी शो या सिर्फ सामान्य ज्ञान ने हमें शादियों के बारे में कुछ भी सिखाया है तो यह कठिन है. इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कितनी अच्छी तरह से खत्म हो सकता है. इसके लिए बहुत सारे तरीके हैं जो बुरी तरह से गलत हैं. इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि तब तनावग्रस्त दंपति को उनके विशेष दिन की योजना बनाने में काफी सुविधा दी जाती है और वह ये अपेक्षा कर सकते हैं कि उनकी इच्छाओं को पूरा किया जाए. इसलिए जब एक Reddit उपयोगकर्ता अपने वयस्क दोस्त की शादी समारोह के दिन अपने दो शैतान बच्चों (एक नवजात और एक टॉडलर) को लकेर वहां पहुंचे तो उन्हें कम से कम बात करने की हिदायत दी गई.

न्यूज 18 की खबर के मुताबिक एक Reddit, कहानी में जो दिन की घटनाओं का वर्णन करता है, दुल्हन से कहा गया था कि क्या वह उक्त बच्चों के माता-पिता को मार सकती है. एक दंपति, जिसके वह करीब नहीं थी, उसे शादी से बाहर कर देने के लिए कहा गया था. आप खुद तय करें, ये है पूरी कहानी-

मैं इस कपल की बहुत करीबी नहीं हूं, लेकिन पत्नी लंबे समय से पारिवारिक मित्र है इसलिए मुझे लगा कि मुझे उसे आमंत्रित करना चाहिए. स्पष्ट रूप से मेरे सभी निमंत्रणों में कहा गया था कि इस शादी में कोई बच्चे नहीं होंगे. लेकिन वो और उसका पति अपने दोनों बच्चों को साथ लेकर आए जो कि 3 और 4 साल के होंगे. शादी समारोह में मैंने इसे अनदेखा किया. मुझे स्पष्ट कारणों के लिए पूर्वनिर्धारित किया गया था. मैंने यह भी सोचा कि हो सकता है कि उन्होंने रिसेप्शन में शामिल न होने या समारोह के शुरू होने से पहले किसी को बच्चे देने की योजना बनाई होगी पर ऐसा न हो सका होगा.

हालांकि रिसेप्शन शुरू हुआ. सब कुछ सही चल रहा था. यहां कई अन्य मेहमान थे और वास्तव में इससे निपटने का मन नहीं कर रहा था इसलिए मैंने अपने इवेंट प्लानर को उनके पास जाने और चर्चा करने के लिए कहा कि क्या कोई बच्चे को लेने आएगा क्योंकि रिसेप्शन में बच्चों को लाने की अनुमित नहीं है. मेरा मतलब है, हर कोई पी रहा था और वहीं एक रोता हुआ बच्चा और एक छोटा सा जो चारों ओर दौड़ रहा बच्चा इस योजना का हिस्सा नहीं था. बच्चों ने अपनी शैतानी शुरू कर दी थी. मेरा इवेंट प्लानर दंपति से बात करने गया था. मैं बता सकती हूं कि वे मेरे इवेंट प्लानर के साथ बहस कर रहे थे, हालांकि मैं उनकी मदद करने के लिए चली गई.

मुझे लगता है कि उन्हें लगा कि मैं उन्हें छुड़ाने आई हूं क्योंकि वे मेरे इवेंट प्लानर के बारे में बहुत गलत बोलने लगे थे. मैंने समझाया कि मैंने ही उसे बच्चों के बारे में पूछने के लिए भेजा था. मैंने दोहराया कि इस रिसेप्शन में बच्चे नहीं लाने थे और बताया कि मैंने अपने निमंत्रणों पर स्पष्ट रूप से ये कहा था. पत्नी ने माफी मांगी और फिर मुझे आश्वासन दिया कि वह अपने बच्चों को यह सुनिश्चित करने में सक्षम हैं कि वे किसी भी चीज के रास्ते में नहीं आएंगे. मैंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है.

इतने में मेरे पति और उस दूसरी महिला के पति आपड़ से भिड़ गए और माहौल गर्म हो गया. अंत में मैंने तुरंत कहा कि उन्हें बस जाने की जरूरत है और शुक्र है कि वह बिना ज्यादा शोर किए चले गए. पूरा दृश्य अविश्वसनीय रूप से शर्मनाक था और वास्तव में मैं उससे बचना चाहती थी. मुझे नफरत है कि मेरी शादी के दिन को इस घटना से कुछ हद तक प्रभावित होना पड़ा. मेरी मां के अनुसार, हर कोई इसके बारे में बात कर रहा था और थोड़ा नाटकीय मनोरंजन का आनंद ले रहा था. लेकिन क्या उनके जाने के लिए मैं दोषी हूं. ऐसा लगता है कि इतिहास विजेता के पक्ष में चला गया है, जो बड़े पैमाने पर दंपति से इस समारोह को छोड़ने के लिए कहने के लिए दुल्हन के फैसले का समर्थन कर रहा है. तो यहां निर्देशों का पालन करना है, सिर्फ बच्चे सही नहीं हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi