S M L

आप भी जानिए शबाना आजमी की जिंदगी की 20 अनसुनी कहानियां

समानान्तर सिनेमा की सशक्त अभिनेत्री शबाना आजमी का मंगलवार, 18 सितंबर को 68वां जन्मदिन है.

Updated On: Sep 18, 2018 11:49 AM IST

Shivendra Kumar Singh Shivendra Kumar Singh

0
आप भी जानिए शबाना आजमी की जिंदगी की 20 अनसुनी कहानियां

समानान्तर सिनेमा की सशक्त अभिनेत्री शबाना आजमी का मंगलवार को 68वां जन्मदिन है. मशहूर शायर कैफी आजमी की बेटी और जावेद अख्तर की पत्नी शबाना आजमी अब भी फिल्मों में बेहद सक्रिय हैं. वो देश के हालात पर भी बीच-बीच में सोशल मीडिया में अपनी बात मजबूती से रखती हैं. उनके जन्मदिन के खास मौके पर हम आपको बताते हैं उनकी जिंदगी की 20 अनसुनी कहानियां.

1. शबाना आजमी जब करीब तीन बरस की थीं तो उन्हें लगता था कि बाकी बच्चों के पापा तो पैंट-शर्ट पहनते हैं जबकि उनके अब्बा हमेशा सफेद कुर्ता पायजामा पहनते थे. शबाना को अपने पिता की ये बात बिल्कुल अच्छी नहीं लगती थी. शबाना को लगता था कि बाकि बच्चों की तरह उनके अब्बा को भी सूट-बूट में रहना चाहिए.

2. बचपन में ही शबाना को एक और बात नागवार गुजरती थी. उन्हें लगता था कि उनके अब्बा हमेशा घर पर बैठकर लिखते क्यों रहते हैं, वो कभी ऑफिस क्यों नहीं जाते? बाकि बच्चों के पापा तैयार होकर सुबह ऑफिस जाते थे और शाम को लौटते थे, जबकि अपने अब्बा को वो जब भी देखती थीं तो वो घर पर या तो लिखते रहते थे या कुछ पढ़ते रहते थे। शबाना को लगता था कि उनके अब्बा तो कोई काम ही नहीं करते.

3. शबाना आजमी को अपने अब्बा की ख्याति का पता तब चला जब एक बार उनके दोस्तों ने कैफी साहब की तस्वीर पेपर में दिखाई तो शबाना को समझ में आना शुरू हुआ कि उनके अब्बा की शख्सियत क्या है. इसके बाद तो उन्होंने बड़े फक्र से कहना शुरू किया कि वो कैफी आजमी की बेटी हैं.

4. जब शबाना आजमी को स्कूल भेजने की बात आई तो उनके अब्बा ने उन्हें एक उर्दू स्कूल में डाल दिया था. शबाना उस स्कूल में जाने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी. वो बार-बार मना करती थीं. अपना गुस्सा दिखाने के लिए वो अपने पैरों को घिसना शुरू कर देती थीं. एक रोज उनकी अम्मी ने कैफी साहब ने कह दिया कि उनकी बेटी उस स्कूल में नहीं जाएगी. तब जाकर उनका दाखिला क्वींस मेरी इंग्लिश स्कूल में हुआ.

Shabana Jawed

5. शबाना जब छोटी थीं तो उनके अब्बा ने उन्हें एक काली गुड़िया लाकर दी. शबाना को बाकि बच्चों की तरह भूरे बाल और नीली आंखों वाली गुड़िया चाहिए थी. उस रोज शबाना को उनके अब्बा ने समझाया था कि ‘ब्लैक इस ब्यूटीफुल टू’.

6. शबाना आजमी खुद को बहुत भाग्यशाली मानती हैं कि उन्हें फिल्मों में आने के लिए कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा. वो फिल्म इंस्टीट्यूट में पढ़ती थी. वहां की गोल्ड मेडलिस्ट थी. ख्वाजा अहमद अब्बास ने उन्हें तब ही साइन कर लिया था जब वो ‘स्टूडेंट’ थी.

7. जिस दिन शबाना आजमी के ‘इंस्टीट्यूट’ का ‘कोर्स’ खत्म हुआ है उसके अगले दिन से वो फिल्म परिणय में शूट कर रही थीं.

8. ख्वाजा अहमद अब्बास ने पहली बार में शबाना आजमी को ये कहकर मना कर दिया था कि वो अपनी उम्र से काफी बड़ी लगती हैं. दरअसल शबाना आजमी हाई हील्स पहनकर और लिपस्टिक लगाकर उनके पास चली गई थीं. बाद में ख्वाजा अब्बास ने अपनी फिल्म के लिए शबाना आजमी को साइन किया था.

9. शबाना जब पहली बार श्याम बेनेगल से मिलने गई तो उन्होंने शबाना से पूछा कि उन्हें ‘दक्खनी’ आती है, शबाना का जवाब ‘हां’ में था. श्याम बेनेगल ने तुरंत उन्हें ‘अंकुर’ और ‘निशान’ दोनों की कहानियां सुनाई और कहा- ये दोनों फिल्में आप ही कर रही हैं.

10. शबाना आजमी को जब श्याम बेनेगल ने एक साथ दो फिल्मों के लिए साइन करने की बात कही तो उन्हें लगा कि श्याम बेनेगल उनके साथ कोई ‘फ्रॉड’ कर रहे हैं. बाद में ऋषिकेश मुखर्जी ने शबाना को श्याम बेनेगल के साथ काम करने के लिए कहा था

11. मंडी फिल्म के लिए शबाना आजमी ने कॉस्ट्यूम्स में भी श्याम बेनेगल की मदद की थी. वो बाकायदा श्याम बेनेगल के साथ हैदराबाद गई थीं. उस फिल्म में उन्होंने अपनी ड्रेस के साथ साथ स्मिता पाटिल, नीना गुप्ता और ओम पुरी के लिए कपड़े खरीदे थे.

12. शबाना आजमी को हमेशा इस बात का अफसोस रहा कि वो कॉमर्शियल सिनेमा में जिस तरह का डांस करना चाहिए था नहीं कर पाईं. उन्हें इस बात की झिझक थी कि वो कैफी आजमी की बेटी हैं, सेंट जेवियर्स में पढ़ी हुई हैं, उनके लिए डांस करना अच्छा नहीं होगा.

13. शबाना आजमी ने 80 के दशक के आखिरी सालों में विदेशी फिल्मों में भी काम किया. जॉन लैसेंजर की एक फिल्म समेत उन्होंने करीब दर्जन भर विदेशी फिल्मों में काम किया.

14. एक वक्त ऐसा था जब शबाना आजमी और नसीरूद्दीन शाह की दोस्ती का आलम ये था कि कई बार लोग कहते थे कि वो और फारूख शेख एक दूसरे के साथ जितना वक्त बिताते हैं उतना वक्त तो वो जावेद साहब के साथ बिताती थीं. ये बात शबाना खुद अपने इंटरव्यू में कहती हैं.

15. शबाना आजमी ने जब नसीरूद्दीन शाह के साथ ‘स्पर्श’ की तो शॉट खत्म होने के बाद भी अगर नसीर को कहीं नीचे जाना होता था तो शबाना का हाथ खुद-ब-खुद उनके हाथ की तरफ बढ़ता था. उस फिल्म में नसीर की आंखों की रोशनी नहीं थी.

16. शबाना आजमी और फारूख शेख की दोस्ती सेंट जेवियर्स कॉलेज से थी. फारूख शेख शबाना से दो साल सीनियर थे, उस वक्त सेंट जेवियर्स में सिर्फ अंग्रेजी थिएटर था तो फारूख शेख ने हिंदी नाट्यमंच बनाया था जिसमें वो प्रेसीडेंट बने थे और शबाना आजमी सेकेट्री. फारूख और शबाना की दोस्ती में खूब शरारत चलती रहती थी.

तस्वीर शबाना आजमी की फेसबुक अकाउंट से

तस्वीर शबाना आजमी की फेसबुक अकाउंट से

17. एक बार शबाना और फारूख सेंट जेवियर्स के पीछे नाटक के ‘प्रॉप्स’ खरीदने के लिए गए थे. वहां एक फकीर औरत आई, जो फकीर थी. उसने कहा- कुछ पैसे दे दो. फारूख ने उसको आठ आने दे दिए. उसने कहा- भगवान तुम दोनों की जोड़ी सलामत रखे. फारूख ने तुरंत वो पैसे वापस ले लिए और कहने लगे कि अगर इसके साथ मेरी जोड़ी सलामत रहने की बद्दुआ देनी है तो मेरे पैसे वापस दो.

18. बीए की परीक्षा के दौरान एक बार शबाना आजमी को ‘कन्जक्टीवाइटिस’ हो गया था. उस दिन उनका चाइल्ड साइकॉलजी का पेपर था. शबाना इतना घबरा गई कि उन्होंने सोचा कि पेपर छोड़ देना ठीक होगा. इनविजीलेटर ने कहा कि आप सामने वाली लड़की की कॉपी से देखकर लिख लो, शबाना ने कहा कि वो क्वीन मेरीज की पढ़ी हुई हैं इसलिए नकल नहीं करेंगी.

19. शबाना आजमी मानती हैं कि स्मिता पाटिल के साथ उनके कुछ निजी मतभेद जरूर थे लेकिन वो कभी उन दोनों के परिवारों को लेकर एक दूसरे के रवैये में नहीं आई, जिस बात की शबाना बहुत कद्र करती हैं.

20. शबाना आजमी मौजूदा समय में उन्हें मिल रहे किरदारों से बहुत खुश हैं. वो कहती हैं कि आज से 10-15 साल पहले तक ये मुमकिन नहीं था कि मेरे जैसी उम्र की औरत को इतने धांसू और वेराइटी वाले रोल मिलें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi