S M L

अलविदा 2017: ना ना करते प्यार तुम्हीं से कर बैठे...

नीतीश की राजनीति में वो घुट्टी मिली हुई है जो उन्होंने जयप्रकाश नारायण, कर्पूरी ठाकुर, राम मनोहर लोहिया जैसे दिग्गज धुरंधरों से मिली

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Dec 30, 2017 09:30 AM IST

0
अलविदा 2017:  ना ना करते प्यार तुम्हीं से कर बैठे...

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए साल 2017 सियासत के पिछले सालों के मुकाबले एकदम अलग कहा जा सकता है. नीतीश की इस साल की राजनीति बेहद ही घुमावदार रही. नीतीश की एनडीए में घर वापसी ने साबित कर दिया कि 'ना ना करके प्यार वो एनडीए से कर बैठे'. तीन साल पहले जब नरेंद्र मोदी को बीजेपी ने पीएम उम्मीदवार के नेतृत्व में लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया था तो जेडीयू ने एनडीए से नाता तोड़ लिया था. लेकिन इस साल नीतीश की जेडीयू में ही न सिर्फ दो फाड़ हुए बल्कि बिहार में आरजेडी के साथ गठबंधन तोड़कर उन्होंने एनडीए के साथ सरकार बना ली.

Namo-Nitish

ये कहानी कुछ इस तरह थी कि बिहार के एक मुख्यमंत्री ने इस्तीफा देकर एनडीए के साथ सरकार बना कर मुख्यमंत्री पद की फिर से शपथ ले ली. एक रात में ही बिहार की राजनीति का पूरा समीकरण बदल गया. लेकिन जो नहीं बदला तो वो नीतीश का मुख्यमंत्री पद था. आरजेडी के साथ पिछले गठबंधन में भी वो सीएम थे तो एनडीए के साथ गठबंधन में भी वो सीएम बने.

ModiNitish3

बिहार के सियासी घटनाक्रम पर कई सवाल उठे. लेकिन नीतीश ने जब आरजेडी से सवाल पूछे तो जवाब किसी के पास नहीं था. नीतीश की राजनीति में वो घुट्टी मिली हुई है जो उन्होंने जयप्रकाश नारायण, कर्पूरी ठाकुर, राम मनोहर लोहिया जैसे दिग्गज धुरंधरों से मिली. उनकी इसी राजनीतिक परिपक्वता ने उस बहस पर भी विराम लगा दिया जिसमें उन्हें हमेशा मोदी विरोधी और मोदी को चुनौती देने वाला नेता के तौर पर उछाला जाता रहा है. मोदीvsनीतीश की जंग को खुद नीतीश ने ये कह कर खारिज कर दिया कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव में देश में कोई भी नेता ऐसा नहीं जो कि मोदी को टक्कर दे सके. नीतीश का ये बयान उन लोगों के लिए बड़ा झटका था जो साल 2019 के लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के खिलाफ नीतीश कुमार को उतारना चाहते थे.

nitish kumar

 

दरअसल बिहार विधानसभा चुनाव के वक्त नीतीश कुमार ने स्वाभिमान रैली के जरिए पीएम मोदी पर कई हमले किए थे. पीएम की परिवर्तन रैली का जवाब उन्होंने स्वाभिमान रैली से दिया था. मोदी के हर आरोप का वो चतुराई से जनता को जवाब दे रहे थे. नतीजा ये रहा कि बीजेपी का बिहार जीतने का सपना उस वक्त टूट गया. लेकिन बाद में नीतीश ने बीजेपी को दो तोहफे एक साथ दे दिए. न सिर्फ वो एनडीए में शामिल हुए बल्कि बीजेपी गठबंधन की सरकार भी बनवा दी.

बिहार में उनकी छवि का ही असर है कि वो 12 साल से सूबे के सीएम हैं. 2005 में बिहार की सत्ता संभालने के बाद से उनकी छवि विकास पुरुष के तौर पर निखरती रही. लालू राज के बाद से बिहार को नीतीश का विकल्प नहीं मिल सका. यहां तक कि बीजेपी के विकास के वादे के बावजूद बिहार का मन नीतीश कुमार के साथ ही रहा. उन्होंने तीसरी बार सरकार बनाई और सीएम बने.

Nitish Kumar

हालांकि कांग्रेस विरोध से राजनीति की शुरुआत करने वाले नीतीश ने कांग्रेस का भी हाथ थामा तो लालू के जंगलराज के खिलाफ जंग छेड़ कर बिहार की सत्ता संभालने वाले नीतीश ने लालू को गले भी लगा लिया.

एनडीए से अलग होने के बाद नीतीश के निशाने पर पीएम मोदी लगातार रहे. लेकिन अब राजनीति की नई राह में वो साथ साथ आगे बढ़ रहे हैं. नीतीश को वक्त की पहचान उनके तकरीबन पांच दशकों के राजनीतिक अनुभव से मिली है. तभी उन्होंने नए साल में एक मौके पर कमल के चित्र में रंग भरकर अपने भविष्य के इरादों को जाहिर कर दिया था. नीतीश अब सांप्रदायिकता की राजनीति को पीछे छोड़कर पीएम मोदी के साथ विकास की नैया पर सवार है. उम्मीद की जा सकती है कि नए साल में भी इस सफर में साहिल से पहले कोई तूफान न आए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi