S M L

जापान की जियोकेमिस्ट काट्सुको सरुहाशी को गूगल डूडल की श्रद्धांजलि

सरुहाशी को विज्ञान की दुनिया में अनोखे योगदान के लिए जाना जाता है. इन्होंने ऐसे कई काम किए जिसे पहली बार पहचान मिली

Updated On: Mar 22, 2018 03:02 PM IST

FP Staff

0
जापान की जियोकेमिस्ट काट्सुको सरुहाशी को गूगल डूडल की श्रद्धांजलि
Loading...

जापान की महिला वैज्ञानिक काट्सुको सरुहाशी का आज 98वां जन्मदिन है. गूगल ने डूडल बनाकर इन्हें श्रद्धांजलि दी है. सरुहाशी का जन्म 1920 में जापान की राजधानी टोक्यो में हुआ था. सरूहाशी टोक्यो यूनिवर्सिटी से रसायन शास्त्र में डॉक्ट्रेट करने वाली जापान की पहली महिला थीं. साथ ही वो पहली वैज्ञानिक भी थीं जिन्होंने समुद्र के पानी में कार्बनडाइऑक्साइड और रेडियोएक्टिव पदार्थों की जानकारी दी थी. इन्हीं के नाम पर सरुहाशी टेबल का नाम पड़ा. सरुहाशी टेबल का इस्तेमाल पानी में कार्बनिक एसिड के मिश्रण को जानने के लिए किया जाता है.

सरुहाशी को विज्ञान की दुनिया में अनोखे योगदान के लिए जाना जाता है. इस जापानी वैज्ञानिक ने ऐसे कई काम किए जिन्हें पहली बार पहचान मिली. इसी को देखते हुए 22 मार्च को उनके जन्मदिन पर गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है.

काट्सुको सरुहाशी ने 1943 में इंपीरियल वीमेंस कॉलेज ऑफ साइंस से ग्रेजुएशन किया. जापान में उस वक्त वो टोक्यो यूनिवर्सिटी से कैमिस्ट्री में डॉक्ट्रेट करने वाली पहली महिला थीं. 1954 में सरकार के अनुरोध पर उन्होंने समुद्र के पानी में रेडियोएक्टिव पदार्थों का स्तर मापा और इसकी जानकारी दी. एटमी परीक्षण किए जाने के बाद सरकार ने उनसे रेडियोधर्मी पदार्थों की मात्रा मापने का अनुरोध किया था.

सरुहाशी तापमान, पीएच स्तर और क्लोरिनिटी के आधार पर पानी में कार्बोनिक एसिड मापने वाली पहली वैज्ञानिक थीं. इस पद्धति का इजाद होने के बाद दुनिया के अन्य वैज्ञानिकों ने समुद्री जल पर और भी कई तरह के शोध शुरू किए. उनका जियोकेमिस्ट के रूप में किया रिसर्च आज विज्ञान की दुनिया में काफी कारगर साबित हो रहा है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi