विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

सउदी अरब ने दी रोबोट को नागरिकता, लेकिन सोशल मीडिया के पास कुछ सवाल हैं

सउदी अरब ने इंसानों जैसी दिखने वाली रोबोट को नागरिकता दी है लेकिन लोगों के पास कुछ और ही सवाल हैं

FP Tech Updated On: Oct 27, 2017 06:12 PM IST

0
सउदी अरब ने दी रोबोट को नागरिकता, लेकिन सोशल मीडिया के पास कुछ सवाल हैं

दुनिया में ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी रोबोट को किसी देश की नागरिकता मिली हो, इस ऐतिहासिक फैसले का श्रेय सउदी अरब को है. सउदी अरब ने इंसानों जैसी दिखने वाली रोबोट सोफिया को अपने की नागरिकता मिली है. सउदी अरब ने टेक्नोलॉजी की दिशा में एक कदम बढ़ाया है, लेकिन सोशल मीडिया पर कहानी का दूसरे पहलू पर भी चर्चा हो रही है.

सऊदी अरब की राजधानी रियाद में फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनीशिएटिव के स्टेज पर सोफिया को नागरिकता दी गई. अपने प्रेजेंटेशन के दौरान सोफिया ने दर्शकों से कहा, 'इस विशेष सम्मान को पाकर मैं बहुत गौरवान्वित महसूस कर रही हूं. दुनिया में पहली बार किसी रोबोट को नागरिकता से पहचाना जाना ऐतिहासिक है.'

सोफिया रोबोट को डेविड हैनसन ने तैयार किया है. हैनसन हांगकांग की हैनसन रोबॉटिक्स के फाउंडर हैं. हैनसन रोबॉटिक्स इंसानों की तरह दिखने और काम करने वाले रोबोट तैयार करने के लिए जानी जाती है. सोफिया को हॉलीवुड की क्लासिक एक्ट्रेस आड्री हेपबर्न की तरह दिखने वाला बनाया गया है.

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से जुड़ी चिंताएं जगजाहिर हैं, साफ है कि सोफिया को भी इसकी जानकारी थी. सोफिया ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस रोबोट्स के इंसानों के वजूद के लिए खतरा बनने से जुड़ी चिंताओं पर भी बात की. इसी बहाने सोफिया ने टेक जाएंट टेस्ला और स्पेस एक्स के सीईओ इलॉन मस्क पर चुटकी भी ले लिया.

सोफिया का इंटरव्यू ले रहे सीएनबीसी के एंड्रयू रॉस सॉर्किन के साथ बातचीत में सोफिया ने कहा, 'वो आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल इंसानों की जिंदगी बेहतर बनाने के लिए करना चाहती हैं.'

सॉर्किन ने इस बात को लेकर सोफिया की तारीफ की लेकिन साथ ही आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के खतरों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा,' हम सभी एक बुरे भविष्य को रोकना चाहते हैं, जहां रोबोट्स इंसानों के खिलाफ हो जाते हैं.' इलॉन मस्क कई बार इंसानों के लिए भविष्य में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के खतरों को लेकर चेता चुके हैं.

सोफिया ने कहा, 'लगता है आप इलॉन मस्क को कुछ ज्यादा पढ़ रहे हैं. और कुछ ज्यादा हॉलीवुड की फिल्में देख रहे हैं. आप फिक्र न करें, अगर आप मेरे साथ सही बर्ताव करते हैं तो मेरा व्यवहार अच्छा रहेगा. आप मेरे साथ एक स्मार्ट इनपुट आउटपुट सिस्टम की तरह बर्ताव करें.'

इसके बाद इलॉन मस्क ने भी सोफिया को जवाब दिया. उन्होंने कहा, 'सोफिया को गॉडफादर मूवी दिखाते रहिए, फिर देखते हैं क्या होता है.'

खैर, ये तो बात रही सोफिया द रोबोट की. लेकिन अब बात सउदी अरब की. सउदी अरब की औरतों को लेकर भेदभाव करने वाले देश के रुप में गहरी छवि है. अब सोफिया को नागरिकता देने पर लोगों ने सोशल मीडिया पर सउदी अरब सरकार से लोगों ने गहरे सवाल करने शुरू कर दिए हैं.

लोगों ने पूछा क्या सोफिया को सउदी की महिलाओं से ज्यादा अधिकार मिले हैं? क्या सोफिया को यात्रा करने के लिए अपने गार्जियंस से परमिशन लेना होगा? लोगों ने इस बात को भी हाइलाइट किया कि रोबोट ने बिना बुर्का पहने अंग्रेजी में कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया.

एक यूजर ने सवाल रखा कि क्या सोफिया को वोट देने का अधिकार होगा या उसे नागरिकता बस दिखावे के लिए दी गई है?

ये सवाल भी काफी जरूरी है. एक यूजर ने पूछा कि चूंकि सोफिया के पास अपना पासपोर्ट होगा और वो बुर्का भी नहीं पहनती हैं, तो अब कितनी महिलाओं ने रोबोट बनने के लिए अप्लाई किया है?

एक यूजर ने सोफिया की नागरिकता पर ही सवाल उठा दिया.

खैर, सोफिया को नागरिकता मिल गई है. सउदी अरब ने ये खिताब हासिल कर लिया है और विश्व आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ गया है लेकिन अब ये भविष्य ही बताएगा कि आखिर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के पीछे इंसानों के लिए कितना खतरा छुपा हुआ है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi