S M L

गूगल डूडल: मशहूर तबला वादक लच्छू महाराज की 74वीं जयंती पर गूगल ने इस तरह दी श्रद्धांजलि

लच्छू महाराज को पद्म श्री सम्मान के लिए भी चुना गया था लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया कि लोगों से मिलने वाला प्यार ही उनके सबसे बड़ा सम्मान है

Updated On: Oct 16, 2018 09:49 AM IST

FP Staff

0
गूगल डूडल: मशहूर तबला वादक लच्छू महाराज की 74वीं जयंती पर गूगल ने इस तरह दी श्रद्धांजलि
Loading...

देश के महान तबला वादक लच्छू महाराज की 74वीं जयंती पर गूगल ने एक डूडल बनाकर उन्हें याद किया है. इस डूडल में लच्छू जी महाराज की एक पेंटिंग बनाई गई है जिसमें वह गाते और तबला बजाते दिखाई दे रहे हैं.

16 अक्टूबर 1944 को उत्तर प्रदेश के बनारस में जन्में लच्छू महाराज को तबले से अगाध प्रेम था. यही कारण था कि उन्होंने तबला वादन की बेहतरीन कला के जरिए देश-विदेश में नाम कमाया.

इन खूबियों के कारण भी जाने जाते थे लच्छू महाराज

लच्छू महाराज ने कफी कम उम्र में तबला बजाना शुरू कर दिया था. उन्होंने अपनी तबला वादन की कला से बॉलीवुड में भी खूब नाम कमाया. वे काफी मनमौजी किस्म के इनसान थे जिसकी वजह से उन्हें आज भी बनारस में याद किया जाता है. लच्छू महाराज वक्त के पाबंद होने की वजह से भी जाने जाते थे.

एक बार उन्हें तबला वादन के लिए आकाशवाणी बुलाया गया. लेकिन जिन महोदय ने बुलाया था, वे खुद 5 मिनट लेट आए. लच्छू महाराज को यह चीज पसंद नहीं आई और वे बिना कार्यक्रम किए ही वापस आ गए.

लच्छू महाराज 12 भाई बहन थे, जिनमें वो चौथे नंबर पर थे. उन्होने टीना नाम की फ्रांसीसी महिला से शादी की थी. बॉलीवुड एक्टर गोविंदा उनके भांजे हैं.

जेल में भी बजाया तबला

1975 में जब आपातकाल लगा तब वे भी जेल गए. जहां वे मशहूर समाजवादी नेताओं जॉर्ज फर्नांडिस, देवव्रत मजुमदार और मार्कंडेय को तबला बजाकर सुनाया करते थे.

लच्छू महाराज को पद्म श्री सम्मान के लिए भी चुना गया था लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया कि लोगों से मिलने वाला प्यार ही उनके सबसे बड़ा सम्मान है. 72 साल की उम्र में 27 जुलाई 2016 को हार्ट अटैक से उनका निधन हो गया.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi