S M L

विंडोज़ से पहले के कंप्यूटर के नाम है आज गूगल डूडल

आज का गूगल डूडल खेल कर आप कंप्यूटर के गुजर चुके दौर को जी सकते हैं

Updated On: Dec 04, 2017 01:49 PM IST

FP Tech

0
विंडोज़ से पहले के कंप्यूटर के नाम है आज गूगल डूडल

अगर आपने आज का गूगल डू़डल देखा हो तो उसमें एक गेम जैसा दिखा होगा. आज का गूगल डूडल बच्चों की प्रोग्रामिंग के 50 साल पूरे होने को समर्पित है. जब 1960 के दशक में पहली बच्चों के लिए कोडिंग लैंग्वेज लोगो आई थी तो लोग इसे असंभव और बिना मतलब का मानते थे.

क्या है बच्चों की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज

1995 से पहले कंप्यूटर चलाने का अनुभव वैसा नहीं था जैसा आज है. डॉस बेस कम्प्यूटर में हर चीज़ के लिए एक कमांड देनी होती थी. आज की तरह माउस से क्लिक करने की सुविधा नहीं थी. कर्सर को अगली लाइन में ले जाने, पैराग्राफ बदलने जैसी चीज़ों के लिए कमांड टाइप करना पड़ता था. तब कंप्यूटर में एक गोला डिज़ाइन करना संभव नहीं था.

programming languages

उस दौर में बच्चों का कंप्यूटर में इंट्रेस्ट बढ़ाने के लिए लोगो, बेसिक, पास्कल और ऐसी दूसरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में छोटे छोटे गेम सिखाए जाते थे. इन गेम में छोटे-छोटे टास्क होते थे जिन्हें सुलझाने में प्रोग्रामिंग की बेसिक समझ विकसित हो जाती थी. आज की तारीख में पायथन को बिगनर्स लैंग्वेज माना जाता है. मगर पायथन किड्स लैंग्वेज से कहीं आगे है. गूगल जैसी वेबसाइट का बड़ा हिस्सा पायथन की कोडिंग पर बेस्ड है.

आज का गूगल डूडल विंडोज़ से पहले के नॉस्टेल्जिया के नाम है. इस गूगल डूडल को पहला किड्स कोडिंग गूगल डूडल भी कह सकते हैं. एलिस, स्क्रैच और गेम मेकर जैसी कोडिंग लैंगवेज हैं जो आज भी बच्चों को कोडिंग सिखाने में मदद करती हैं. हालांकि आज भारत में कम्प्यूटर चला रही पीढ़ी में से ज्यादातर ने उस दौर को शायद ही जिया हो. मगर आज के गूगल डूडल के जरिए आप कंप्यूटर के एक दौर की झलक ले सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi