Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

2G फैसला: ट्विटर ने कहा- घोटाले पर फैसला नहीं, फैसले पर घोटाला

यूजर्स का कहना है कि अगर इस मामले में कोई दोषी नहीं है तो 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने ए. राजा के टेन्योर में बांटी गई 122 टेलीकॉम कंपनियों के लाइसेंस क्यों रद्द कर दिया था?

FP Staff Updated On: Dec 21, 2017 04:35 PM IST

0
2G फैसला: ट्विटर ने कहा- घोटाले पर फैसला नहीं, फैसले पर घोटाला

पटियाला हाउस कोर्ट ने गुरुवार को देश के सबसे चर्चित घोटाले 2जी स्कैम के आरोपियों को बरी कर दिया है. देश का सबसे बड़ा घोटाला कहे जाने वाले इस घोटाले के आरोपी डीएमके नेता ए. राजा और राज्यसभा सांसद कनिमोड़ी सहित 17 आरोपियों को बरी कर दिया गया है. लेकिन इसके बाद सबके पास बस एक ही सवाल है- तो क्या घोटाला हुआ ही नहीं? या अगर हुआ है तो किसने किया?

जज ओपी सैनी ने ये फैसला सुनाते हुए कहा कि सरकारी पक्ष का वकील आरोपियों पर लगे आरोपों को साबित करने में बुरी तरह नाकामयाब रहा है.

सोशल मीडिया पर लोगों ने इस फैसले पर सवाल उठाया है. यूजर्स का कहना है कि अगर इस मामले में कोई दोषी नहीं है तो 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने ए. राजा के टेन्योर में बांटी गई 122 टेलीकॉम कंपनियों के लाइसेंस क्यों रद्द कर दिया था?

लोगों ने देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की बुरी हालत पर गुस्सा जताया. एक यूजर ने लिखा कि अब हमें अगस्ता वेस्टलैंड, कॉमनवेल्थ गेम्स और नेशनल हेराल्ड स्कैम पर न्याय की उम्मीद छोड़ देनी चाहिए.

वहीं एक यूजर ने ये तक लिखा कि ये 2जी घोटाले पर फैसला नहीं बल्कि 2जी घोटाले के फैसले का घोटाला है.

गुस्सा और निराशा तो है ही लेकिन ट्विटराटी इस मौके पर मजे लेना नहीं भूले. ट्विटर पर इस फैसले से जुड़े कई मीम शेयर किए गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi