S M L

बिहार में छेड़छाड़ की घटनाओं पर तेजस्वी का हमला कितना कारगर हो पाएगा?

बिहार में फिर एक लड़की के साथ छेड़खानी का वीडियो वायरल हुआ है. एक बार फिर आरजेडी की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन पर सवाल खड़ा हुआ है.

Updated On: Aug 29, 2018 07:50 PM IST

Amitesh Amitesh

0
बिहार में छेड़छाड़ की घटनाओं पर तेजस्वी का हमला कितना कारगर हो पाएगा?
Loading...

बिहार में फिर एक लड़की के साथ छेड़खानी का वीडियो वायरल हुआ है. एक बार फिर आरजेडी की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन पर सवाल खड़ा हुआ है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर उसी अंदाज में नीतीश राज में बिहार के शर्मसार होने का मामला उठाया है. केवल जगह बदल गई है, लेकिन, मनचलों की तरफ से की गई हरकत लगभग एक समान ही है.

बिहार में इन दिनों एक के बाद एक कई घटनाएं घटी हैं जो शर्मसार करने वाली हैं. सवाल नीतीश कुमार के सुशासन पर भी खड़ा हो रहा है. लिहाजा जेडीयू ने आरजेडी पर पलटवार करने और अपनी सरकार का बचाव करने के लिए आक्रामक रवैया अपना लिया है. जेडीयू ने अपने सभी प्रवक्ताओं की फौज को एक साथ मैदान में उतारकर आरजेडी को ही घेरना शुरू कर दिया है.

आरजेडी के आरोपों पर जेडीयू की तरफ से पलटवार किया जा रहा है. कहा ये जा रहा है कि सहरसा में लड़की के साथ छेड़छाड़ का वीडियो लीक करने में आरजेडी का ही हाथ है. जेडीयू का कहना है कि जान-बूझकर इस घटना को अंजाम दिया जा रहा है. जेडीयू ने तेजस्वी यादव पर जान-बूझकर इस वीडियो को लीक करने का आरोप लगाया है.

जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने तेजस्वी यादव के निजी सचिव मणि यादव पर देह व्यापार में शामिल होने का आरोप तक लगा दिया. इसके अलावा सहरसा की घटना का वीडियो ट्वीट करने को भी गलत बताया.

फिलहाल, सहरसा की घटना में पंकज यादव नाम के एक युवक की गिरफ्तारी कर बाकी आरोपियों की तलाश की जा रही है.

आखिर बिहार में इस तरह की घटनाएं क्यों हो रही हैं. क्या नीतीश कुमार की प्रशासन पर पकड़ ढ़ीली हो रही है या फिर इस तरह की घटनाओं को एक साजिश के तहज अंजाम दिया जा रहा है, जिसके चलते नीतीश कुमार की सुशासन बाबू की छवि को खराब किया जाए. जेडीयू तो ऐसा ही आरोप लगा रही है. जेडीयू के आरोप में काफी हद तक दम भी लग रहा है, क्योंकि इस तरह की मानवता को शर्मसार करने वाली घटना में आरजेडी के लोगों तक जांच की आंच पहुंच रही है.

सहरसा में पंकज यादव की गिरफ्तारी के बाद आगे जांच अभी जारी है, लेकिन, बिहिया की घटना में जिस किशोरी यादव की गिरफ्तारी हुई है वो अपने-आप को आरजेडी का नेता बता रहा है. किशोरी यादव के कबूलनामे को मुद्दा बनाकर जेडीयू की तरफ से तेजस्वी से सवाल पूछा जा रहा है. मुजफ्फरपुर की घटना को लेकर दिल्ली में जंतर-मंतर पर धरना देने और कैंडल मार्च निकालने वाले तेजस्वी यादव से भी जेडीयू सवाल कर रही है कि अब बिहिया में कैंडल मार्च क्यों नहीं निकाल रहे हैं, जहां एक महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया गया.

Nitish Kumar at Parliament House

दरअसल, बिहार में घट रही इस तरह की घटना को लेकर विपक्ष की तरफ से सरकार को घेरने की कोशिश तेज होगी. खासतौर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की साफ-सुथरी और कुशल प्रशासक की छवि को धूमिल करने की कोशिश होगी. तेजस्वी की तरफ से हो रहे हमले की रणनीति भी यही है. लेकिन, इस तरह के मामलों में आरजेडी नेताओं और कार्यकर्ताओं की अगर गिरफ्तारी होती है और उनकी भूमिका पर सवाल खड़े होते हैं तो फिर तेजस्वी यादव की सारी रणनीति पर पानी फिर सकता है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi