S M L

यूपी चुनाव 2017: रायबरेली से प्रियंका हुईं गायब...हाजिर हुए लालू, आखिर माजरा क्या है?

क्या लालू सोनिया और राहुल के करीब होने की कोशिश कर रहे हैं.

Updated On: Feb 24, 2017 07:17 PM IST

Sanjay Singh

0
यूपी चुनाव 2017: रायबरेली से प्रियंका हुईं गायब...हाजिर हुए लालू, आखिर माजरा क्या है?

रायबरेली के लोग आजकल बड़े हैरान परेशान हैं. उन्होंने टीवी पर देखा, और अखबार में भी पढ़ा कि प्रियंका गांधी के कारण ही कांग्रेस का समाजवादी पार्टी के साथ गंठबंधन हुआ है.

मीडिया रिपोर्टों और जो कुछ भी सियासी गपशप उन्हें सुनने को मिली, उस सब से यही पता चला कि अब प्रियंका को बड़ी भूमिका मिलने वाली है.

ऐसा कहा गया कि प्रियंका अब अपने परिवार की दो सीटों रायबरेली और अमेठी को पुष्पित-पल्लवित करने के बजाय पूरे राज्य में चुनाव प्रचार करेंगी.

लेकिन यहां के लोग हैरान हैं. दरअसल, वे प्रियंका गांधी की गैरमौजूदगी से कौतूहल के शिकार हैं. 2012 के पिछले विधानसभा चुनावों में उन्होंने प्रियंका को यहां खूब देखा था.

ये भी पढ़ें: नई बात नहीं है नेताओं की बदजुबानी

वह लगभग पंद्रह दिन यहां रही थीं और अपनी मां के संसदीय क्षेत्र की छह विधानसभा सीटों के लगभग हर बड़े नुक्कड़ पर गई थीं. उन्होंने लोगों से बात की थी उनकी तरफ हाथ हिलाया था, महिला समूहों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ समय बिताया था. समाज के हर वर्ग के मतदाताओं से उन्होंने बात की थी.

rahul-priyanka-raebareli

राहुल के संसदीय क्षेत्र अमेठी में प्रचार करती हुई प्रियंका गांधी

कहां हैं प्रियंका?

लेकिन इस चुनाव में बिल्कुल अलग स्थिति दिखाई दे रही है. यहां के लोगों को इस बार प्रियंका को देखने का शायद ही मौका मिला हो. वह अपने भाई राहुल गांधी के साथ आधे दिन के लिए यहां आई थीं.

उन्होंने दो जगहों पर हुई जनसभाओं में हिस्सा लिया और इनमें से एक सभा में वह थोड़ी देर के लिए बोली थीं.

स्थानीय कांग्रेस नेताओं का दावा है कि प्रियंका कुछ पारिवारिक मामलों में व्यस्त हैं. लेकिन आमलोग इस बात को नहीं समझेंगे. पिछले चुनावों में प्रियंका ने रायबरेली की छह विधानसभा सीटों में लगभग तीन दर्जन रैलियां की थी.

अपने भाई राहुल के अमेठी संसदीय क्षेत्र की चार विधानसभा सीटों पर उन्होंने कुछ कम रैलियां की थीं. संसदीय चुनावों में अमेठी और रायबरेली का काम वही देख रही थीं.

कांग्रेस के इस प्रथम परिवार के वफादार इस बात के बड़े कायल रहते हैं कि प्रियंका गांव के लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं के नाम याद रखती हैं और सब लोगों का हालचाल पूछती हैं.

इन से प्रियंका के बारे में चाहे कितनी ही बातें करा लीजिए, लेकिन उनकी गैर- मौजूदगी के चलते ये लोग अब चुप हो गए हैं.

Rahul Gandhi Priyanka Gandhi

यूपी में कांग्रेस को दोबारा जिंदा करने के लिए राहुल और प्रियंका मिलकर चुनावी रणनीति बना रहे हैं

उलट पुलट समीकरण

पिछले विधानसभा चुनावों में नुक्कड़-नुक्कड़ जाकर प्रियंका के प्रचार करने के बावजूद कांग्रेस के लिए नतीजे बहुत ही निराशाजनक रहे. रायबरेली संसदीय क्षेत्र की हर विधानसभा सीट पर पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा.

ये भी पढ़ें:  वामपंथ के गढ़ से केसरिया रंग में रंगने तक

रायबरेली में अपना खुद का काम करने वाले युवा रनमत सिंह कहते हैं, 'ऐसा लगता है कि उन्होंने दीवारों पर लिखी इबारत पढ़ ली है और इसीलिए अपने ऊपर कलंक नहीं लगाना चाहती हैं कि जब भी वह विधानसभा चुनावों में प्रचार करती हैं तो कांग्रेस हारती है. इसीलिए वह इस जगह से दूरी बनाए हुए हैं. पर विडंबना यह है कि गांधी परिवार उसी जगह पर आने से बच रहा है जो उनका गढ़ माना जाता है.'

रायबरेली में ऊंचाहार के नजदीक रहने वाले सुमन पांडे एक और तर्क देते हैं. वह कहते हैं, 'हमने सुना है कि 2019 में रायबरेली से सोनिया गांधी नहीं, बल्कि प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेंगी. पिछले चुनावों में बीएसपी हो या एसपी, दोनों ने ही अमेठी और रायबरेली में एक तरह से गांधी परिवार का समर्थन किया है.'

सुमन आगे कहते हैं, 'साल 2014 में बीएसपी और एसपी ने राहुल गांधी के खिलाफ रायबरेली में उम्मीदवार नहीं उतारा था. अगर वह यहां चुनाव प्रचार करने आतीं तो फिर उन्हें उन सीटों पर भी जाना होता जहां कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का दोस्ताना मुकाबला हो रहा है.'

वे कहते हैं, 'उस स्थिति में उन्हें एसपी, बीएसपी और बीजेपी सब पर हमला बोलना पड़ता. इससे भी अहम ये कि जमीनी हालात अब बदल गए हैं. बीजेपी अब एक ताकतवर प्रतिद्वंद्वी के तौर पर उभरी है जिसने कांग्रेस के रणनीतिकारों को सभी समीकरणों को उलट पुलट कर दिया है.'

Priyanka Gandhi Vadra

प्रियंका अगर प्रचार करतीं तो उन्हें एसपी के खिलाफ बोलना होता जिससे वे बचना चाहती हैं

कांग्रेस ने हथियार डाले?

सोनिया गांधी इन चुनावों में एक बार भी बाहर नहीं निकली हैं. वह संभवतः सेहत के चलते अपने संसदीय क्षेत्र में नहीं आई हैं.

नाम न जाहिर करने की शर्त पर एक कार्यकर्ता ने अपनी पीड़ा इस तरह बताई, 'हमें किशोरीलाल शर्मा की पसंद और नापसंद के रहमो-करम पर छोड़ दिया गया है.'

किशोरीलाल शर्मा वह व्यक्ति हैं जो आधिकारिक तौर पर सोनिया और राहुल के संसदीय क्षेत्रों का कामकाज देखते हैं. लंबे समय से वह इस जिम्मेदारी को निभा रहे है.

इससे पता चलता है कि गांधी परिवार उन्हें पसंद करता है और उन पर भरोसा करता है. लेकिन गांधी परिवार उन्हें जितना पसंद करता है, यहां कांग्रेस नेताओं का एक वर्ग उन्हें उतना ही नापसंद करता है.

विडंबना यह भी है कि सोनिया, राहुल और प्रियंका की गैर-मौजूदगी में यहां आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को चुनाव प्रचार के लिए उतारा गया.

lalu prasad yadav

लालू यादव ने प्रियंका-सोनिया की गैरमौजूदी में अमेठी-रायबरेली में प्रचार किया

अपने चिरपरिचित अंदाज में लालू ने मंगलवार को चुनाव प्रचार के आखिरी दिन लोगों का मनोरंजन किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नकल उतारी और बखान किया कि कैसे उन्होंने बिहार में मोदी, अमित शाह और बीजेपी को धूल चटा दी और आगे भी चटाते रहेंगे.

ये भी पढ़ें:  बनारसी राजनीति का रस और रंग

लेकिन लाख टके सवाल ये है कि, क्या लालू यादव का मसखरापन सोनिया गांधी के चुनाव क्षेत्र में कांग्रेस के उम्मीदवारों को कोई फायदा पहुंचाएगा.

लालू यादव का रायबरेली में कांग्रेस के उम्मीदवारों के लिए प्रचार करना दिलचस्प है. उन्होंने समाजवादी पार्टी का प्रचार नहीं किया जबकि वहां उनकी रिश्तेदारी भी है. इससे तो कुछ और ही संकेत मिलते हैं?

क्या लालू सोनिया और राहुल के करीब होने की कोशिश कर रहे हैं. क्या वह इस तैयारी में जुटे हैं कि अगर बिहार में नीतीश कुमार से अलग होने की नौबत आए तो उन्हें कांग्रेस का समर्थन मिल जाए.

लालू हमेशा से सोनिया के करीब रहे हैं. लेकिन रायबरेली में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन उन्हें उतारे जाने से कई मतदाता सोच रहे हैं कि क्या गांधी परिवार ने इन चुनावों में हथियार डाल दिए हैं?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA
Firstpost Hindi